Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

कश्मीर में मारे गए 180 आंतकवादी

pak terrorestजम्मू-कश्मीर में इन दिनों आतंकवादी जान बचाने को भागते फिर रहे हैं। सुरक्षाबलों ने श्रीनगर मुठभेड़ में सोमवार को दो और आतंकवादियों को मार गिराया। इनमें लश्कर-ए-तैयबा का टॉप कमांडर सैफुल्लाह दनयाली भी शामिल है जो पाकिस्तान का रहने वाला है। मारा गया दूसरा आतंकवादी इरशाद पुलवामा का रहने वाला है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि पिछले पांच दिनों में हुए चार ऑपरेशन में 10 आतंकवादी मारे जा चुके हैं और 1 ने सरेंडर कर दिया। इस साल 180 आतंकवादी मारे गए हैं।

श्रीनगर के ओल्ड बरजुल्ला इलाके में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दोनों आतंकवादी मारे गए। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा बलों ने क्षेत्र में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना के बाद सोमवार तड़के शहर के ओल्ड बरजुल्ला इलाके में घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था। उन्होंने कहा कि सुबह करीब पौने आठ बजे जब तलाशी अभियान चल रहा था तभी आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हुई। गोलीबारी में दो आतंकवादियों को मार गिराया गया।

डीजीपी ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ”पिछले पांच दिन में आतंकवादियों के खिलाफ 4 ऑपरेशन चलाए गए, जिनमें 10 आतंकवादी मारे गए और डोडा में एक आतंकवादी ने आत्मसमर्पण कर दिया, जिससे पूछताछ चल रही है। आज के ऑपरेशन में लश्कर-ए-तैयबा कमांडर सैफुल्लाह मारा गया। वह 3 बड़े हमलों में शामिल था, जिनमें सीआरपीएफ के तीन जवानों की जान चली गई थी।”

डीजीपी ने बताया कि इस साल 75 सफल ऑपरेशन में 180 आतंकवादी मारे गए हैं। इसके अलावा 138 आतंकवादी और उनके सहयोगी दबोचे गए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि इस साल ऑपरेशनों की सफलता ने नया रिकॉर्ड बना दिया है। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से एक तरफ राज्य में आतंकवादी संगठनों में भर्तियों में कमी आई है तो दूसरी तरफ सेना ने सीमा पार से होने वाले घुसपैठ पर काफी हद तक लगाम लगा दिया है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *