Pages Navigation Menu

Breaking News

नड्डा ने किया नई टीम का ऐलान,युवाओं और महिलाओं को मौका

कांग्रेस में बड़ा फेरबदल ,पद से हटाए गए गुलाम नबी

  पाकिस्तान में शिया- सुन्नी टकराव…शिया काफिर हैं लगे नारे

नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को किए बड़े ऐलान

Make in India modi 15 auguestभारत आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस ऐतिहासिक अवसर पर लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया। इससे पहले प्रधानमंत्री ने राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। समारोह स्थल पहुंचने पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम मोदी का स्वागत किया।

आज भारत ने असाधारण समय में असंभव को संभव किया है। इसी इच्छाशक्ति के साथ प्रत्येक भारतीय को आगे बढ़ना है। वर्ष 2022, हमारी आजादी के 75 वर्ष का पर्व, अब बस आ ही गया है: पीएम मोदी

21वीं सदी के इस दशक में अब भारत को नई नीति और नई रीति के साथ ही आगे बढ़ना होगा। अब साधारण से काम नहीं चलेगा। हमारी पॉलिसी, हमारे प्रोसेस, हमारे प्रोडक्ट, सब कुछ बेस्ट होना चाहिए, सर्वश्रेष्ठ होना चाहिए। तभी हम एक भारत-श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार कर पाएंगे: : पीएम मोदी

बीते वर्ष मैंने यहीं लाल किले से कहा था कि पिछले पाँच साल देश की अपेक्षाओं के लिए थे, और आने वाले पांच साल देश की आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए होंगे। बीते एक साल में ही देश ने ऐसे अनेकों महत्वपूर्ण फैसले लिए, अनेकों महत्वपूर्ण पड़ाव पार किए: पीएम मोदी

हमारे देश में 1300 से ज्यादा आइसलैंड हैं। इनमें से कुछ चुनिंदा आइसलैंड को, उनकी भौगोलिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए, देश के विकास में उनके महत्व को ध्यान में रखते हुए, नई विकास योजनाएं शुरू करने पर काम चल रहा है: पीएम

देश की सुरक्षा में हमारे बॉर्डर और कोस्टल इंफ्रास्ट्रक्चर की भी बहुत बड़ी भूमिका है। हिमालय की चोटियां हों या हिंद महासागर के द्वीप, आज देश में रोड और इंटरनेट कनेक्टिविटी का अभूतपूर्व विस्तार हो रहा है, तेज़ गति से विस्तार हो रहा है: प्रधानमंत्री मोदी

भारत के जितने प्रयास शांति और सौहार्द के लिए हैं, उतनी ही प्रतिबद्धता अपनी सुरक्षा के लिए, अपनी सेना को मजबूत करने की है। भारत अब रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भी पूरी क्षमता से जुट गया है: PM मोदी

इसी प्रकार हमारे पूर्व के ASEAN देश, जो हमारे maritime पड़ोसी भी हैं, वो भी हमारे लिए बहुत विशेष महत्व रखते हैं। इनके साथ भारत का हज़ारों वर्ष पुराना धार्मिक और सांस्कृतिक संबंध है। बौद्ध धर्म की परम्पराएं भी हमें उनसे जोड़ती हैं: पीएम मोदी

इनसे से कई देशों में बहुत बड़ी संख्या में भारतीय काम करते हैं। जिस प्रकार इन देशों ने कोरोना संकट के समय भारतीयों की मदद की, भारत सरकार के अनुरोध का सम्मान किया, उसके लिए भारत उनका आभारी है: PM मोदी

आज पड़ोसी सिर्फ वो ही नहीं हैं जिनसे हमारी भौगोलिक सीमाएं मिलती हैं बल्कि वे भी हैं जिनसे हमारे दिल मिलते हैं। जहां रिश्तों में समरसता होती है, मेल जोल रहता है: PM नरेंद्र मोदी

भारत की संप्रभुता का सम्मान हमारे लिए सर्वोच्च है। इस संकल्प के लिए हमारे वीर जवान क्या कर सकते हैं, देश क्या कर सकता है, ये लद्दाख में दुनिया ने देखा है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

LOC से लेकर LAC तक, देश की संप्रभुता पर जिस किसी ने आंख उठाई है, देश ने, देश की सेना ने उसका उसी भाषा में जवाब दिया है: पीएम मोदी

आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में, आधुनिक भारत के निर्माण में, समृद्ध और खुशहाल भारत के निर्माण में, देश की शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है। इसी सोच के साथ देश को तीन दशक के बाद एक नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति मिली है। देश के हर कोने में इसका स्वागत हो रहा है: पीएम मोदी

आज भारत में कोराना की एक नहीं, दो नहीं, तीन-तीन वैक्सीन्स इस समय टेस्टिंग के चरण में हैं। जैसे ही वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी, देश की तैयारी उन वैक्सीन्स की बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन की भी तैयारी है: पीएम मोदी

स्वतंत्रता दिवस पर अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की घोषणा की है। इसके तहत सभी भारतीय को एक आईडी दी जीएगी।

यह भी पहली बार हुआ है जब अपने घर के लिए होम लोन की EMI पर भुगतान अवधि के दौरान 6 लाख रुपए तक की छूट मिल रही है। अभी पिछले वर्ष ही हजारों अधूरे घरों को पूरा करने के लिए 25 हजार करोड़ रुपए के फंड की स्थापना हुई है: पीएम मोदी

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि देश के किसानों को आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर देने के लिए कुछ दिन पहले ही एक लाख करोड़ रुपए का ‘एग्रीकल्चर इनफ्रास्ट्रक्चर फंड’ बनाया गया है।

मध्यम वर्ग से निकले प्रोफेशनल्स भारत ही नहीं पूरी दुनिया में अपनी धाक जमाते हैं। मध्यम वर्ग को अवसर चाहिए, मध्यम वर्ग को सरकारी दखलअंदाजी से मुक्ति चाहिए: PM नरेंद्र मोदी

कुछ वर्ष पहले तक ये सब कल्पना भी नहीं की जा सकती थी कि इतना सारा काम, बिना किसी लीकेज के हो जाएगा, गरीब के हाथ में सीधे पैसा पहुंच जाएगा: पीएम मोदी

अपने इन साथियों को अपने गाँव में ही रोजगार देने के लिए गरीब कल्याण रोजगार अभियान भी शुरू किया गया है

हमारे यहां कहा गया है- सामर्थ्य्मूलं स्वातन्त्र्यं, श्रममूलं च वैभवम्।। किसी समाज, किसी भी राष्ट्र की आज़ादी का स्रोत उसका सामर्थ्य होता है, और उसके वैभव का, उन्नति प्रगति का स्रोत उसकी श्रम शक्ति होती है: पीएम मोदी

इस शक्ति को, इन रिफॉर्म्स और उससे निकले परिणामों को देख रही है। बीते वर्ष, भारत में FDI ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। भारत में FDI में 18 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। यह विश्वास ऐसे ही नहीं आता है: स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पीएम मोदी

वन नेशन- वन टैक्स, Insolvency और Bankruptcy Code, बैंकों का Merger, आज देश की सच्चाई है: पीएम मोदी

आज दुनिया की बहुत बड़ी-बड़ी कंपनियां भारत का रुख कर रही हैं। हमें Make in India के साथ-साथ Make for World के मंत्र के साथ आगे बढ़ना है: पीएम मोदी

आज दुनिया इंटर-कनेक्टेड है। इसलिए समय की मांग है कि विश्व की अर्थव्यवस्था में भारत का योगदान बढ़ाना चाहिए, इसके लिए भारत को आत्मनिर्भर बनना ही है। जब हमारा अपना सामर्थ्य होगा तो हम दुनिया का कल्याण भी कर पाएंगे: प्रधानमंत्री

आज देश अनेक नए कदम उठा रहा है, इसलिए आप देखिए स्पेस सेक्टर को खुला कर दिया, देश के युवाओं को अवसर मिल रहा है। हमने कृषि क्षेत्र को बंधनों से मुक्त कर दिया। हमने आत्मनिर्भर भारत बनाने का प्रयास किया है: पीएम मोदी

आखिर कब तक हमारे ही देश से गया कच्चा माल, सामान बनकर भारत में लौटता रहेगा। इसलिए हमें आत्मनिर्भर बनना ही होगा। भारत के किसान सिर्फ देश के लोगों का पेट नहीं भरते, बल्कि दुनिया में जहां लोगों को जरूरत होती है, वहां के लोगों का भी पेट भरते हैं: पीएम मोदी

मुझे विश्वास है कि भारत आत्मनिर्भर के सपने को चरितार्थ करके रहेगा। मुझे देश की प्रतिभा, सामर्थ्य, युवाओं, मातृ-शक्तियों पर भरोसा है। मेरा हिंदुस्तान की सोच-अप्रोच पर भरोसा है। इतिहास गवाह है कि भारत एक बार ठान लेता है तो, भारत उसे करके रहता है: पीएम मोदी

सिर्फ कुछ महीना पहले तक N-95 मास्क, PPE किट, वेंटिलेटर ये सब हम विदेशों से मंगाते थे। आज इन सभी में भारत, न सिर्फ अपनी जरूरतें खुद पूरी कर रहा है, बल्कि दूसरे देशों की मदद के लिए भी आगे आया हैः पीएम मोदी

भारत हमेशा मानता है कि यह विश्व एक बड़ा परिवार है। जब हम आर्थिक प्रगति और विकास की ओर बढ़ रहे हैं तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि मानवता इस सफर और इस प्रक्रिया का केन्द्र हो: पीएम मोदी

कौन सोच सकता था कि कभी देश में गरीबों के जनधन खातों में हजारों-लाखों करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर हो पाएंगे? कौन सोच सकता था कि किसानों की भलाई के लिए APMC एक्ट में इतने बड़े बदलाव हो जाएंगे: लाल किले से पीएम मोदी

एक समय था, जब हमारी कृषि व्यवस्था बहुत पिछड़ी हुई थी। तब सबसे बड़ी चिंता थी कि देशवासियों का पेट कैसे भरे। आज जब हम सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों का पेट भर सकते हैं: पीएम मोदी

मुझे पूरा विश्वास है कि भारत इस सपने को जरूर पूरा करेगा। मुझे हमारे देशवासियों की क्षमताओं पर, उनकी काबिलियत पर और उनके आत्मविश्वास पर पूरा भरोसा है। अगर हम एक बार तय कर लें तो लक्ष्य पूरा होने तक हम रुकते नहीं हैं: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत को आत्मनिर्भर बनने के सपने को चरितार्थ करना होगा। मुझे देश के युवाओं और महिलाओं पर पूरा है विश्वास है: पीएम मोदी

आज जो हम स्वतंत्र भारत में सांस ले रहे हैं, उसके पीछे मां भारती के लाखों बेटे-बेटियों का त्याग, बलिदान और मां भारती को आजाद कराने के लिए समर्पण है। आज ऐसे सभी स्वतंत्रता सेनानियों को, वीर शहीदों को नमन करने का ये पर्व है: पीएम मोदी

विस्तारवाद की सोच ने सिर्फ कुछ देशों को गुलाम बनाकर ही नहीं छोड़ा, बात वही पर खत्म नहीं हुई। भीषण युद्धों और भयानकता के बीच भी भारत ने आजादी की जंग में कमी और नमी नहीं आने दी: पीएम मोदी

विस्तारवाद की सोच रखने वालों ने विस्तार के बहुत प्रयास किए। आजादी की ललक ने उनकी मंसूबों को जमींदोज कर दिया: प्रधानमंत्री मोदी

आज जो हम स्वतंत्र भारत में सांस ले रहे हैं, उसके पीछे मां भारती के लाखों बेटे-बेटियों का त्याग, बलिदान और मां भारती को आज़ाद कराने के लिए समर्पण है। आज ऐसे सभी स्वतंत्रता सेनानियों का, आज़ादी के वीरों का, वीर शहीदों का नमन करने का ये पर्व है: PM मोदी

कोरोना के इस असाधारण समय में, सेवा परमो धर्म: की भावना के साथ, अपने जीवन की परवाह किए बिना हमारे डॉक्टर्स, नर्से, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस कर्मी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, सेवाकर्मी, अनेको लोग, चौबीसों घंटे लगातार काम कर रहे हैं: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कोरोना योद्धाओं को नमन करते हुए कहा कि देश विशेष हालात से गुजर रहा है। इस बार हमारे लिए संकल्प करना बहुत आवश्यक।

पीएम मोदी द्वारा 15 अगस्‍त पर 2014 से 2020 तक दिए गए भाषणों की कुछ खास बातें

2014 को लाल किले की प्राचीर से जब उन्‍होंने पहली बार देश को संबोधित किया था, तब उन्‍होंने 65 मिनट का भाषण दिया था। साल 2015 में उनका संबोधन 86 मिनट का था और 2016 में उनका भाषण 94 मिनट का था। उनके हर भाषण में कुछ खास था। जानें सिलसिलेवार उनके दिए भाषणों की कुछ खास बातें।

2020

  • कोरोना के इस असाधारण समय में, सेवा परमो धर्म: की भावना के साथ, अपने जीवन की परवाह किए बिना हमारे डॉक्टर्स, नर्से, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस कर्मी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, सेवाकर्मी, अनेको लोग, चौबीसों घंटे लगातार काम कर रहे हैं।
  • विस्तारवाद की सोच ने सिर्फ कुछ देशों को गुलाम बनाकर ही नहीं छोड़ा, बात वही पर खत्म नहीं हुई। भीषण युद्धों और भयानकता के बीच भी भारत ने आजादी की जंग में कमी और नमी नहीं आने दी।
  • गुलामी का कोई कालखंड ऐसा नहीं था जब हिंदुस्तान में किसी कोने में आजादी के लिए प्रयास नहीं हुआ हो, प्राण-अर्पण नहीं हुआ हो।

2019

  • अगर 2014 से 2019 आवश्यकताओं की पूरी का दौर था तो 2019 के बाद का कालखंड देशवासियों की आकांक्षाओं की पूर्ति का कालखंड है, उनके सपनों को पूरा करने का कालखंड है।
  • सबका साथ, सबका विकास’ का मंत्र लेकर हम चले थे लेकिन 5 साल में ही देशवासियों ने ‘सबका विश्वास’ के रंग से पूरे माहौल को रंग दिया।
  • समस्याओं का जब समाधान होता है तो स्वावलंबन का भाव पैदा होता है, समाधान से स्वालंबन की ओर गति बढ़ती है। जब स्वावलंबन होता है तो अपने आप स्वाभिमान उजागर होता है और स्वाभिमान का सामर्थ्य बहुत होता है।
  • मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाया गया, आतंकवाद के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ने के लिए आतंकवाद विरोधी कानून में संशोधन किया गया।

2018

  • लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री ने इस बार प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान, देश की अर्थव्यवस्था में सुधार, मुद्रा योजना एवं स्वच्छ भारत मिशन के सकारात्मक प्रभाव, जम्मू-कश्मीर, पूर्वोत्तर, माओवाद, किसानों, तीन तलाक विरोधी विधेयक और कई अन्य मुद्दों के बारे में बात की।
  • देश के बेटियों ने कमाल किया और हमारे दूर-सुदूर के आदिवासी बच्चों ने एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा कर इसकी शान को और बढ़ा दिया है. हमारा देश दुनिया की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था बना है।

2017

  • देश में आज आजादी के जश्‍न के साथ जन्‍माष्‍टमी का पर्व मनाया जा रहा है। इस परिप्रेक्ष्‍य में सुदर्शन चक्रधारी से लेकर चरखा धारी मोहन तक के हम आभारी हैं यह आजाद भारत के लिए विशेष वर्ष ह।
  • इस वर्ष चंपारण आश्रम और साबरमती आश्रम की स्‍थापना के 100 साल और लोकमान्‍य बाल गंगाधर तिलक द्वारा शुरू किए गए गणेश उत्‍सव का 125वां वर्ष है।
  • न्‍यू इंडिया का संकल्‍प लेकर हमको आगे बढ़ना है। पांच साल के लिए ‘न्यू इंडिया’ का संकल्प लें। 2022 तक शक्तिशाली और समृद्ध ‘न्यू इंडिया’ बनाएंगे
  • 21वीं सदी में जन्‍म लेने वाले युवाओं को आगे बढ़ने का निमंत्रण देता हूं। देश की तरक्की में भागीदार बनें, देश आपको निमंत्रण देता है।
  • ‘चलता है’ का जमाना चला गया अब ‘बदल गया’ का जमाना लाना है।
  • सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद दुनिया ने लोहा माना है आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हमारा साथ देने वाले देशों को धन्‍यवाद।

2016

  • सरदार पटेल ने देश को एक किया, अब हमारा दायित्व है देश को श्रेष्ठ बनाएं। शासन को जनता के लिए उत्तरदायी होना चाहिए। ऐसा न होने पर आम लोगों की समस्याएं ऐसे की ऐसी ही रहती हैं। बदलाव नजर नहीं आता। शासन को संवेदनशील होना चाहिए।
  • पहले जब जब किसी बड़े अस्पताल में जाना हो तो कितने दिनों तक इंतजार करना पड़ता था। एम्‍स में 2-3 दिन के बाद जांच शुरू होती थी। अब व्यवस्था बदल गई है और सब ऑनलाइन है।
  • आज 70 साल में लोगों की मानसिकता बदली है। यहां पुरानी रफ्तार से काम नहीं हो सकता, हमें अपने काम की रफ्तार को और तेज करना होगा।
  • एक समय था कि जब घर में गैस-चूल्हा हो तो उसे सामाजिक प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता था। आज घर में कार हो, तो उसको प्रतिष्ठा का विषय माना जाता है। 60 साल में 14 करोड़ लोगों को रसोई गैस का कनेक्शन दिया गया था, वहीं हमने 60 सप्ताह में 4 करोड़ नए रसोई गैस कनेक्शन दिए।प्रधानमंत्री जन-धन योजना मुश्किल काम था। इतने साल से बैंकिंग व्यवस्था थे, बैंक थे, लेकिन फिर भी आबादी के एक बड़े वर्ग के पास बैंक खाता नहीं है। हमने 21 करोड़ परिवारों को जन-धन योजना से जोड़कर असंभव से संभव हुआ। यह सरकार की उपलब्धि नहीं, बल्कि सवा सौ करोड़ नागरिकों की उपलब्धि है।

2015

  • भारत वो देश है जो अपने पड़ोसी देशों के साथ बेहतर संबंध बढ़ाकर आगे बढ़ना चाहता है। हम अपने पड़ोसी को खुश होता देख खुश होते हैं।
  • भारत अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए हमेशा से ही प्रतिबद्ध रहा है। कोई इन सीमाओं की तरफ गलत निगाह रखेगा तो उसको कड़ाई से जवाब देने की ताकत हमारी सेना रखती है।
  • देश की सुरक्षा के लिए हर रोज डिफेंस के क्षेत्र में नए कदम उठाए जा रहे हैं। इस संबंध में दिया जाने वाला फंड भी पहले से कहीं अधिक है।
  • अब वक्‍त है जब हम भारत को विश्‍व की ताकत बनाने के लिए काम करें। इसमें आपका साथ चाहिए। हमें भारत को ही आगे नहीं बढ़ाना है बल्कि दुनिया को भी साथ लेकर चलना है।

2014

15 अगस्त 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले के प्राचीर से कई बड़ी घोषणाएं की थी। लाल किले की प्राचीर से देश के नाम अपने पहले भाषण में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सबसे पहले संसद में सरकार की रणनीति की रूपरेखा पेश की थी। नरेन्द्र मोदी ने कहा था, “हम बहुमत के बल पर चलने वाले लोग नहीं हैं, हम बहुमत के बल पर आगे बढ़ना नहीं चाहते हैं। हम सहमति के मजबूत धरातल पर आगे बढ़ना चाहते हैं।”यहां से ही उन्‍होंने अपने भाषण में ‘प्रधानमंत्री जनधन योजना’ की घोषणा की थी।

नरेंद्र मोदी ने हर साल 15 अगस्त को किए बड़े ऐलान, जानें उन घोषणाओं की स्थिति

प्रधानमंत्री ने इस बार स्वतंत्रता दिवस पर ‘आत्मनिर्भर भारत’ का मंत्र दिया। इससे पहले भी लाल किले की प्राचीर से मोदी ऐसी कई घोषणाएं करते रहे हैं। कई मुद्दों के बारे में भनक तक नहीं थी लेकिन जब वे लागू हुए तो ऐतिहासिक बदलाव लेकर आए। चाहे जनधन खाते खोलने की बात हो, तीन तलाक से मुक्ति या फिर जन आरोग्य योजना…। आइए जानते हैं इनपर अमल कितना हुआ।

2014:  जनधन योजना
लाल किले की प्राचीर से अपने पहले भाषण में प्रधानमंत्री ने जनधन योजना का ऐलान किया था। सभी लोगों के खाते खोलने की बात कही गई। साथ ही डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया, सांसद आदर्श ग्राम योजना और योजना आयोग खत्म करने का भी ऐलान किया था। स्किल इंडिया मुहिम की भी शुरुआत की थी।

क्या हुआ
1- जनधन योजना के तहत 40 करोड़ से ज्यादा लोगों के खाते खोले गए। इन खातों में 1.30 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा लोगों ने जमा कर रखें हैं। योजनाओं का पैसा सीधे लोगों के खाते में भेजा जा रहा है।
2- डिजिटल इंडिया के तहत बैंक खातों को मोबाइल से जोड़ा। ऑनलाइन फंड ट्रांसफर का इंतजाम हुआ। आज सिर्फ एक महीने में भीम यूपीआई के जरिए तीन लाख करोड़ रुपये ट्रांसफर हुए।
3- योजना आयोग को खत्म कर नीति आयोग बनाया। सांसद आदर्श ग्राम योजना में सांसदों ने उतनी दिलचस्पी नहीं दिखाई। मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया कार्यक्रम अब जोर पकड़ता नजर आ  रहा है।

2015:  सबको बिजली
लालकिले से अपने दूसरे भाषण में प्रधानमंत्री ने हर घर बिजली का सबसे बड़ा वादा किया। एक रुपये की मासिक किस्त में दो लाख का बीमा और अटल पेंशन का भी ऐलान किया। सेना के जवानों के लिए वन रैंक-वन पेंशन का भरोसा और युवाओं के लिए स्टार्टअप इंडिया-स्टैंडअप इंडिया की घोषणा।

क्या हुआ

1- हर घर बिजली का वादा सरकार ने समय से पहले पूरा कर दिया। बाकी बचे सभी 18452  गांवों में बिजली पहुंचाई जा चुकी है। छह करोड़ से ज्यादा परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिया जा चुका है।
2- प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और जीवन ज्योति बीमा योजना से अब तक करीब 13 करोड़ लोग जुड़ चुके हैं। हर हफ्ते करीब डेढ़ लाख लोग इसका हिस्सा बन रहे हैं। अटल पेंशन योजना के 2.23 करोड़ लोग भागीदार हैं।
3- स्टार्टअप इंडिया-स्टैंडअप इंडिया के तहत युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने का ऐलान था। आठ करोड़ युवा इसका हिस्सा बने। कृषि समेत कई नए क्षेत्रों में अवसर बन रहे हैं।
2016: गरीबों का इलाज
प्रधानमंत्री ने गरीबों के लिए बड़ा ऐलान किया। कहा-गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों में यदि किसी की तबीयत खराब हो जाती तो इलाज पर एक लाख तक का खर्च सरकार वहन करेगी। साथ ही स्वतंत्रता सेनानियों की पेंशन 20 प्रतिशत बढ़ाने की घोषणा की। प्रधानमंत्री ने अर्थव्यवस्था ,बैंकिंग प्रणाली में सुधार लाने का जोर दिया था और छोटे उद्यमियों को बढ़ावा देने का भी जिक्र किया था।

क्या हुआ
1- करीब आठ करोड़ गरीब परिवारों को स्वास्थ्य कार्ड वितरित किए गए। इससे तमाम लोगों को इलाज करने में काफी सहूलियत मिली।
2- पेंशन बढ़ाने के फैसले पर डेढ़ महीने के अंदर कैबिनेट में मुहर लगाई और स्वतंत्रता सेनानियों की मासिक पेंशन में करीब पांच हजार रुपये तक की वृद्धि की गई।
3- लालकिले से प्रधानमंत्री ने बलूचिस्तान का भी जिर्क्र किया था, जिसे भारत की विदेश नीति में बड़ा बदलाव माना गया।

2017: न्यू इंडिया
प्रधानमंत्री ने न्यू इंडिया (नया भारत) का वादा किया। बोले- 2022 तक हम सब मिलकर के एक ऐसा भारत बनाएंगे जहां गरीब के पास पक्का घर हो, बिजली हो, पानी हो। किसानों की आय दोगुनी करेंगे। मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से मुक्ति के लिए कानून लाने का ऐलान किया।

क्या हुआ
1- हर गरीब को पक्का घर देने का वादा काफी हद तक अमल में। अब तक 1.10 करोड़ घर बन चुके हैं। ज्यादातर आवास भूमिहीन लोगों को दिया जाना है। शहरी क्षेत्रों में मार्च 2020 तक सभी 1.12 करोड़ घरों को मंजूरी दे दी जाएगी और 75 लाख घरों की नींव रख दी जाएगी।
2- किसानों की आय दोगुनी करने के लिए ई-नैम, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना लांच की गई। खाते में पैसे भेजे जा रहे हैं।
3- तीन तलाक का नया कानून पारित किया गया। इससे तीन तलाक के मामलों में काफी कमी आई।

2018: जन आरोग्य योजना
प्रधानमंत्री ने ‘जन आरोग्य योजना’ का ऐलान किया, इसके तहत 10 करोड़ परिवारों को पांच लाख तक इलाज की सुविधा। सेना में महिला अधिकारियों को भी स्थाई कमिशन देने की घोषणा। इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत के दायरे में कश्मीर का मसला सुलझाने की बात। साल 2022, यानि आजादी के 75वें वर्ष में अंतरिक्ष मिशन ‘गगनयान’ लांच करने का ऐलान।

क्या हुआ
1- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना से अब तक 12.56 करोड़ लोग जुड़ चुके हैं। एक करोड़ 17 लाख लोगों ने अब तक पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज कराया है।
2- सेना में महिला अफसरों को स्थायी कमीशन दिया जा चुका है। मिशन ‘गगनयान’ के तहत किसी भारतीय को अंतरिक्ष में भेजे जाने की योजना। इसके तहत रूस में अंतरिक्ष यात्रियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
3- जम्मू कश्मीर को आतंकवाद से मुक्ति दिलाने और लोगों का दिल जीतने का संकल्प लिया था, ऑपरेशन क्लीन के तहत इस मुहिम में काफी सफलता मिली है।

2019: सीडीएस की नियुक्ति
प्रधानमंत्री ने सुरक्षा के मोर्चे पर नई चुनौतियों के मद्देनजर तीनों सेनाओं के बीच तालमेल के लिए ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ (सीडीएस) का नया पद बनाने का ऐलान किया। देश में आबादी नियंत्रण के लिये छोटे परिवार पर जोर दिया। ईमानदार आयकरदाताओं को पुरस्कृत करने की बात कही।

क्या हुआ
1- जनरल बिपिन रावत के रूप में पहले सीडीएस की नियुक्ति की जा चुकी है। उन्हें काफी अधिकार दिए गए हैं।
2- ईमानदार आयकरदाताओं को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने दो दिन पहले ही आयकर कानून में बड़ा बदलाव लाने की बात कही है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *