Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

कश्मीर में 6 महीने में 93 आतंकवादी मारे गए

terrorist killed by armyजम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों का सफाया जारी है। इस साल की बात करें तो अभी छह महीने से कम समय ही बीते हैं, लेकिन सुरक्षाबलों ने 93 आतंकवादियों को ढेर कर दिया है। इसमें कई आतंकी संगठनों के कई टॉप लीडर भी शामिल हैं। इस बात की संभावना जताई जा रही है कि आने वाले समय में कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन में तेजी लाई जा सकती है।आर्मी सूत्र ने कहा है, ‘जम्मू-कश्मीर में इस साल आज सुबह तक 93 आतंकवादी मारे जा चुके हैं। घाटी में बीते दो दिनों में 9 आतंकियों को मार गिराया गया है।’सोमवार को शोपियां में मुठभेड़ में मारे गए चार आतंकवादियों में से दो हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) से संबद्ध थे और 2018 से सक्रिय थे। मुठभेड़ में मारे गए दोनों आतंकवादियों को श्रेणी ए आतंकवादियों में रखा गया था। चार आतंकवादियों में से एक की पहचान उमर धोबी के रूप में हुई है जो शोपियां के पिंजोरा का निवासी था और हिजबुल मुजाहिदीन से संबद्ध था। वह अगस्त 2018 से एक सक्रिय आतंकवादी था और शोपियां के श्रीनगर में बैटगंड में 3 पुलिस कर्मियों की हत्या और पुलिस और सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की कई घटनाओं में शामिल था। उसके खिलाफ अब तक 10 आतंकवाद संबंधी प्राथमिकी दर्ज की गई थीं।आज मुठभेड़ में मारे गए अन्य आतंकवादी की पहचान शोपियां के रहने वाले रईस खान के रूप में हुई है। वह हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) से संबद्ध था और सितंबर 2018 से सक्रिय था। आतंकवादी बनने से पहले, वह एक ओजीडब्ल्यू और राष्ट्र विरोधी तत्वों का हमदर्द था।

रियाज नाइकू और जुनैद जैसे टॉप कमांडर भी ढेर
घाटी और नियंत्रण रेखा पर आतंकवादी समूहों और उनके आकाओं के खिलाफ ऑपरेशन जारी है। रियाज नाइकू और जुनैद सहित जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठनों के कई टॉप कमांडर मारे जा चुके हैं।आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान पिछले महीने पांच भारतीय जवान भी शहीद हो गए थे। एक अन्य ऑपरेशन में एक कर्नल और तीन जवान शहीद हुए थे। सूत्रों के मुताबिक बीते कुछ ऑपरेशन में भारतीय सुरक्षाबलों को कोई नुकसान नहीं हुआ है।

आर्टिकल 370 के खात्मे से कश्मीरी खुश, सबसे ज्यादा परेशान है पाकिस्तान: लेफ्टिनेंट जनरल राजू

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को लगभग खत्म किए जाने के 10 महीने हो चुके हैं। संविधान के इस संशोधन के बाद जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य का दर्ज समाप्त हो गया। बाद में उसे दो अलग केंद्र शासित प्रदेशों में बांटा गया। भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल बी एस राजू का कहना है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों ने अनुच्छेद 370 के खात्मे की कार्रवाई को काफी सहजता और सकारात्मकता से लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि इससे सबसे ज्यादा तकलीफ पाकिस्तान को हुई है।आर्मी की 15वीं कोर के मुखिया लेफ्टिनेंट जनरल बी एस राजू ने कहा कि आर्टिकल 370 के खात्मे को कश्मीरी लोगों ने सकारात्मक रूप से लिया तभी यहां लंबे समय से शांति है। दूसरी तरफ पाकिस्तान को यह शांति बर्दाश्त नहीं हो रही है। घाटी में शांति भंग करने और माहौल गर्म रखने के लिए पाकिस्तान लगातार झूठे नैरेटिव फैला रहा है। पिछले 24 घंटे में शोपियां जिले में हुए दो एनकाउंटर्स में 9 आतंकियों के मारे जाने के बारे में बताते हुए लेफ्टिनेंट जनरल बी एस राजू ने कहा कि इस साल फरवरी तक कश्मीर घाटी काफी हद तक शांत रही और स्थिति सामान्य की ओर लौटने लगी थी।उन्होंने आगे कहा, ‘जनवरी-फरवरी में लोग घूमने लगे थे, स्कूल खुल गए थे और गुलमर्ग में सर्दियों का टूरिजम शुरू हो गया था। कोरोना शुरू होने से पहले हम सामान्य स्थिति की ओर बढ़ रहे थे लेकिन कोरोना के चलते हमें एक और लॉकडाउन झेलना पड़ा, जिससे लोगों की जान बची रहे।’

‘कश्मीर से शांति से पाकिस्तान परेशान’
पाकिस्तान का जिक्र करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने कहा, ‘घाटी में शांति देखकर पाकिस्तान खुश नहीं है क्योंकि उसका प्लान यही है कि कैसे भी करके कश्मीर में माहौल खराब रहे। यही एकमात्र तरीका है, जिससे पाकिस्तान में उसकी सेना का महत्व बचा रहता है। घाटी में पाकिस्तान की ओर हिंसा फैलाने के दो तरीके अपनाए जा रहे हैं। पहला यह कि एलओसी पर हथियारों से हमला करने की कोशिश होती है, दूसरा यह कि पाकिस्तान इन्फॉर्मेशन के लेवल पर भी जंग लड़ने की कोशिश में है। ‘लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने लोगों से अपील की कि वे पाकिस्तान से आने वाली सूचनाओं पर ध्यान ना दें। यह बेहद जरूरी है। पाकिस्तान झूठा प्रोपोगैंडा फैलाना चाहता है। घाटी में शांति से सिर्फ पाकिस्तान ऐसा है, जिसे खुशी नहीं है। इसलिए हमें उसका मुकाबला करना है। ऐसे में पाकिस्तान के नैरेटिव के खिलाफ पूरे देश को लड़ना है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *