Pages Navigation Menu

Breaking News

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर का नक्शा पास

मानसून सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक चलेगा, दोनों सदन अलग-अलग समय पर चलेंगे

  7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से मेट्रो सेवाएं होंगी शुरू, 12 सितंबर तक सभी मेट्रो लगेंगीं चलने 

दिल्ली हिंसा की जड़ में शाहीन बाग ; पूर्व पुलिस आयुक्त अजय राज शर्मा

ajay_raj_sharma.jpg_1583070188_618x347उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, सीलमपुर, ओल्ड मुस्तफाबाद, भजनपुरा, चांद बाग आदि इलाके बीते 24-25 फरवरी को अचानक जलने शुरू नहीं हुए. इनकी शुरुआत शाहीन बाग से हुई है. मैं अगर अभी दिल्ली का पुलिस कमिश्नर (आयुक्त) होता तो शाहीन बाग में सड़क पर जमने वालों को पहले ही दिन सड़क से उठाकर पार्क में ले जाकर बैठा आया होता. चाहे जो होता, किसी भी कीमत पर जाफराबाद आदि इलाके को मैं जलने नहीं देता. भले ही क्यों न सरकार मुझे निकाल कर बाहर कर देती.’आईएएनएस से बातचीत में दिल्ली के पूर्व पुलिस आयुक्त अजय राज शर्मा ने कही. अजय राज शर्मा यूपी कैडर 1966 बैच के पूर्व आईपीएस और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट हैं. अजय राज दिल्ली के पूर्व पुलिस कमिश्नर और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के सेवा-निवृत्त महानिदेशक हैं.’अगर आप दिल्ली पुलिस के इस वक्त कमिश्नर होते तो भला क्या करते?’ पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “जिस दिन 100-50 लोग शाहीन बाग में रास्ता घेरकर बैठे थे, मैं उसी दिन उन सौ-पचास को सड़क से उठवा कर कहीं किसी पार्क में ले जाकर बैठा आया होता. आमजन की सड़क को घेरने/घिरवाने का क्या मतलब?”

दिल्ली के पूर्व पुलिस आयुक्त ने कहा, “सच यह है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली जिले में हिंसा 24-25 फरवरी को अचानक नहीं फैल गई. इसकी जड़ में शाहीन बाग है. अगर शाहीन बाग तैयार नहीं हुआ होता, तो दिल्ली में कहीं कोई फसाद ही नहीं होता. पहले शाहीन बाग की जमीन तैयार हुई. उसके बाद दिल्ली विधानसभा चुनाव जीतने के लिए जिस नेता के दिल में जो कुछ ऊट-पटांग आया, उसने वो बोला. बे-रोकटोक. किसी ने गोली मार देने तक की बात की.”अजय राज शर्मा के ही अल्फाजों में, “मैंने जो कुछ मीडिया से देखा-सुना है उसके हिसाब से तो दिल्ली के इन दंगों में पुलिस मूक-दर्शक बनी रही. वजह क्या थी यह दिल्ली पुलिस और हुकूमत मुझसे ज्यादा जानती है. मुझे तो लगता है कि पुलिस किसी दबाव और भ्रम में थी. जैसे ही सांप्रदायिक भावनाओं का घड़ा भरा, असामाजिक तत्वों ने उस घड़े को दंगों के रूप में फोड़ डाला.”

दिल्ली हिंसा में अब तक 250 से ज्यादा FIR दर्ज की जा चुकी है. आर्म्स एक्ट के तहत 40 से ज्यादा केस दर्ज हुए हैं. अब तक हिरासत में लिए गए और गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या भी 900 के पार पहुंच चुकी है.पुलिस ने सोशल मीडिया में भड़काऊ पोस्ट को लेकर भी शिकंजा कसा है. इस मामले से जुड़े 13 केस दर्ज हो चुके हैं. दिल्ली में हिंसा से जुड़े 12 मामलो में SIT ने साइबर सेल से मदद मांगी है. उपद्रवियों की पहचान के लिए सीसीटीवी के खराब क्वालिटी वाले विजुअल्स सौंपे गए हैं.दिल्ली हिंसा में फरार चल रहे पार्षद ताहिर हुसैन की तलाश में दिल्ली पुलिस जुट गई है. पुलिस ताहिर हुसैन के पुश्तैनी घर अमरोहा भी पहुंची है. आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन पर आईबी कर्मी अंकित शर्मा की हत्या के गंभीर आरोप हैं. परिजनों के मुताबिक, ताहिर हुसैन के इशारे पर अंकित की हत्या की गई. दिल्ली के खजूरी खास इलाके में ताहिर हुसैन के घर के बाहर पुलिस तैनात है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *