Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक

Loksattaनयी दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत पिछले 24 घंटों में ज्यादा बिगड़ गयी है और उन्हें लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर रखा गया है. दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने बीती रात एक बयान जारी कर यह जानकारी दी. एम्स ने जानकारी दी कि अटल बिहारी वाजपेयी पिछले 9 हफ्तों से एम्स में भर्ती हैं. दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से बीते 24 घंटों में उनकी हालत बिगड़ी है. उनकी हालत नाजुक है और उन्हें लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर रखा गया है.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से मिलने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एम्स पहुंचे. पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ,  केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु , केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन , केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे आदि भी एम्स पहुंचे. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू गुरुवार सुबह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सेहत का हाल जानने एम्स पहुंचे. खबरों के अनुसार एम्स द्वारा 9 बजे बुलेटिन जारी किया जाएगा, जिसमें वाजपेयी की ताजा हालत के बारे में जानकारी दी जाएगी.इधर , मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के स्वास्थ्य में सुधार की कामना की. आम आदमी पार्टी के नेता और कवि डॉक्टर कुमार विश्वास ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सेहत को लेकर चिंता जतायी है.

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को गुर्दा (किडनी) नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. एम्स ने एक बयान में कहा, ‘‘दुर्भाग्यवश, पिछले 24 घंटों में उनकी हालत ज्यादा बिगड़ गई है. उनकी हालत नाजुक है और वह लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर हैं.’जानकारी के अनुसार मधुमेह से पीड़ित 93 वर्षीय भाजपा नेता का एक ही गुर्दा काम करता है. एम्स के बाहर की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी है. बिल्डिंग के आसपास किसी को जाने की इजाजत नहीं है.अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नाम की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और 2009 से ही व्हीलचेयर पर हैं. कुछ समय पहले भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया. अटल बिहारी वायपेयी 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे. वो बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं. 25 दिसंबर, 1924  में जन्मे वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1942 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था.

50 मिनट तक रुके पीएम मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार शाम वाजपेयी की तबीयत के बारे में जानने के लिए एम्स गये. मोदी शाम करीब 7:15 बजे अस्पताल पहुंचे और वहां करीब 50 मिनट तक रुके. पीएम मोदी के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल और भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी भी एम्स पहुंचे. उनसे पहले केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी भी वाजपेयी के स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए एम्स गयी थीं. देर रात कई नेता और मंत्री अस्पताल गये जिनमें सुरेश प्रभु, जितेंद्र सिंह, हर्षवर्धन और शाहनवाज हुसैन शामिल हैं.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *