Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

मुलायम अस्वस्थ क्या हुए बिखर गया समाजवादी परिवार

mulayam-yadav-with-up-cm-akhilesh-yadavतमाम गिले-शिकवे भुलाकर गले मिलने का त्यौहार होली इस बार मुलायम सिंह यादव कुनबे को करीब नहीं ला सका और परिवार के दो अहम सदस्यों सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव ने सोमवार को अलग-अलग मंचों से होली मनाई। ऐसे में जबकि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में अब एक साल से भी कम समय रह गया है तब भी समाजवादी परिवार में इस तरह का बिखराव बना रहना पार्टी की चुनावी संभावनाओं को बड़ा नुकसान पहुँचा सकता है। देखा जाये तो अखिलेश और शिवपाल के बीच मतभेद चरम स्तर पर पहुंचने पर भी यह परिवार हमेशा होली के मौके पर सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के सानिध्य में एकजुट नजर आता था, मगर इस बार नजारा बिल्कुल उलट था।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने पैतृक गांव सैफई में अपने आवास पर होली का मंच सजाया। वहीं, शिवपाल सिंह यादव ने सैफई में ही अपने एक स्कूल में मंच सजा कर होली मनाई। इस दौरान दोनों ही नेताओं के साथ होली मनाने वाले लोगों की भीड़ रही। दोनों ही कार्यक्रमों में परंपरागत लोकगीत, फाग गायन और लोक परंपराओं का प्रदर्शन हुआ लेकिन वह नहीं हो सका जिसका लोगों को इंतजार था। दोनों नेताओं के अलग-अलग मंच सजे रहे। एक ओर जहां शिवपाल अपने मंच पर अपने समर्थकों के साथ मौजूद थे तो दूसरी ओर सपा के मुख्य महासचिव रामगोपाल यादव अखिलेश यादव के मंच पर फाग गाते नजर आए।

गौरतलब है कि वर्ष 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके चाचा तथा तत्कालीन कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव के बीच सरकार और पार्टी में वर्चस्व की जंग छिड़ गई थी जो 2017 के विधानसभा चुनाव आते-आते चरम पर पहुंच गई थी। शिवपाल सिंह यादव ने सपा में अपनी उपेक्षा किए जाने का आरोप लगाते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया नाम से एक अलग दल बना लिया था। हालांकि तब भी होली के मौके पर पूरा परिवार एकजुट नजर आता था। लेकिन इस बार यह दूरी चर्चा का विषय बन गयी है।

मुलायम सिंह यादव के आंगन में होली के जश्न के दौरान जहाँ अखिलेश यादव, रामगोपाल यादव, धर्मेंद्र यादव, तेज प्रताप यादव, अक्षय यादव, अभिषेक यादव, अनुराग यादव और कार्तिकेय दिखाई दिये वहीं शिवपाल अपने बेटे आदित्य और समर्थकों के साथ होली मनाते दिखे। अखिलेश यादव ने अपने पैतृक घर इटावा के सैफई में होली मनाने के लिए विशाल मंच बनवाया था। यहां प्रो. रामगोपाल यादव पहुंचे तो परिवार के सबसे बड़े सदस्य होने के नाते अखिलेश यादव ने उनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया। अखिलेश यादव ने कार्यकर्ताओं और परिवार के साथ फूलों की होली खेली, वहीं मंच पर रामगोपाल ने फागुन गीत गाया। अखिलेश ने समस्त जनता को होली की शुभकामनाएं दीं। सबसे बड़ी और खास बात तो यह रही कि इससे पहले हमेशा सपा प्रमुख अखिलेश यादव और महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव का संबोधन हुआ करता था लेकिन इस बार वह संबोधन नहीं हुआ।

लंबे अरसे से अपने भतीजे अखिलेश यादव से वैचारिक मतभेद के चलते अलग पार्टी का गठन कर चुके शिवपाल सिंह यादव ने होली के मौके पर इस दफा एक नई इबारत लिख डाली है। उन्होंने अपने पिता सुधर सिंह के नाम पर स्थापित किए एस.एस. मेमोरियल स्कूल में होली का जश्न अपने समर्थकों के साथ मनाया। पंचायत चुनाव को लेकर जहां एक ओर शिवपाल सिंह यादव ने अपने भतीजे और निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष अभिषेक यादव को एक बार फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने का आशीर्वाद दिया है ऐसे में शिवपाल सिंह यादव की मुलायम परिवार की होली से दूरी, कहीं न कहीं बड़ा संकेत माना जा रहा है। गौरतलब है कि पिछले साल तक अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह होली के दौरान एक मंच पर थे और उस दौरान मुलायम भी मौजूद थे। लेकिन इस बार मुलायम सिंह की गैर-मौजूदगी में अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह का अलग-अलग होली मिलन हुआ।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »