Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

बंगाल व केरल से अलकायदा के 9 आतंकवादी गिरफ्तार

terrorists-1600493639अलकायदा और आईएसआईएस प्रेरित आतंकी संगठन भारत के लिए बड़ा खतरा बन रहे हैं। शनिवार को नौ अलकायदा आतंकियो के पकड़े जाने के बाद एनआईए इनकी देश के अलग-अलग हिस्सों में जड़ तलाशने में जुट गई है। माना जा रहा है कि पाकिस्तान की आईएसआई अलकायदा भारतीय उपमहाद्वीप-एक्यूआईएस को फंडिंग कर रही है। बांग्लादेश के जरिये बंगाल में घुसपैठ कराई जा रही है। केरल से दुबई, सीरिया कनेक्शन भी एजेंसिया खंगाल रही हैं।कट्टरपंथ की आग सुलगाकर अलकायदा और आईएस गठजोड़ से भारत के अलग-अलग हिस्सों में आतंकी हमलों की योजना बनाई गई है। एजेंसियों का मानना है कि अब तक जितने भी मामले पकड़ में आए हैं उनमें एक बात साझा है कि सोशल मीडिया के जरिये कट्टरपंथ का जहर फैलाकर युवाओं को अलकायदा और आईएस प्रेरित संगठनों से जोड़ा जा रहा है। सुरक्षा एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि अलकायदा और आईएस नेटवर्क कई राज्यों में फैला हुआ है।राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पश्चिम बंगाल  के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम में अल-कायदा मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया। छापे के बाद 9 अल-कायदा आतंकियों को गिरफ्तार किया गया। मामले में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा की जा रही है। इनमें से 6 को पश्चिम बंगाल जबकि 3 को केरल से गिरफ्तार किया गया। एनआईए ने जानकारी दी कि प्रारंभिक जांच के अनुसार, इन व्यक्तियों को सोशल मीडिया पर पाकिस्तान स्थित अल-कायदा आतंकवादियों द्वारा कट्टरपंथी बनाया गया था और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित कई स्थानों पर हमले करने के लिए प्रेरित किया गया था।  एनआईए देख रही है कि क्या स्थानीय लोगों ने इन गुर्गों का समर्थन किया है।मॉड्यूल सक्रिय रूप से धन उगाहने में लगा था और गिरोह के कुछ सदस्य हथियारों और गोला-बारूद की खरीद के लिए नई दिल्ली की यात्रा करने की योजना बना रहे थे। संभव है कि इस गिरफ़्तारी से देश के विभिन्न हिस्सों में संभावित आतंकवादी हमले रोके जा सके हैं।  उनके पास से सामग्री की बड़ी मात्रा में डिजिटल उपकरण, दस्तावेज, जिहादी साहित्य, धारदार हथियार, देश-निर्मित फायर आर्म, एक स्थानीय रूप से निर्मित बॉडी ऑर्मर, घर बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले आर्टिकल बरामत किए गए हैं।

कई राज्यों मे स्लीपर सेल
पश्चिम बंगाल, केरल और कश्मीर में इनके सबसे ज्यादा स्लीपर सेल हैं। यूपी, बिहार और हरियाणा में भी इनके नेटवर्क की सूचना एजेंसियो के पास है। आंध्र प्रदेश, केरल, कर्नाटक,तेलंगाना,महाराष्ट्र,तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल,राजस्थान, बिहार,यूपी, मध्यप्रदेश, जम्मू कश्मीर के अलावा हरियाणा के मेवात इलाके में स्लीपर सेल मौजूद हैं। कहीं पर अलकायदा है तो कहीं आईएस प्रेरित आतंकी संगठन की मौजूदगी है। एजेंसियो के मुताबिक इनकी जड़ में उग्र कट्टरपंथ है।

यूएन की रिपोर्ट में किया गया था आगाह
आतंकवाद पर संयुक्त राष्ट्र ने दो महीने पहले एक रिपोर्ट जारी की थी। इसमें आगाह किया गया था कि केरल और कर्नाटक में बड़ी संख्या में आईएस आतंकी हो सकते हैं। रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया था कि भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा (एक्यूआईएस) आतंकवादी संगठन हमले की साजिश रच रहा है। एक्यूआईएस का मौजूदा सरगना ओसामा महमूद है, जिसने मारे गए आसिम उमर की जगह ली है। वह उमर की मौत का बदला लेने के लिए क्षेत्र में जवाबी कार्रवाई की साजिश रच रहा है।

भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा के 200 आतंकी

रिपोर्ट में बताया गया था कि भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा के 180 से 200 आतंकी हैं। ये भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यांमार से हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा आईएस का सहयोगी है।

आईएस का भारत में नया प्रांत बनाने का दावा
आईएस ने 10 मई 2019 को अपनी न्यूज एजेंसी अमाक के हवाले से दावा किया था कि वह भारत में एक नया प्रांत ‘विलायाह ऑफ हिंद’ स्थापित करने में कामयाब हो गया है। यह दावा कश्मीर में एक एनकाउंटर के बाद किया गया था। इस मुठभेड़ में सोफी नाम का आतंकी मारा गया था। जिसका संबंध इसी संगठन से था। वह करीब 10 साल से भी अधिक समय से कश्मीर में कई आतंकी संगठनों के साथ काम कर रहा था। बाद में वह आईएस में शामिल हो गया था।

यमन के संगठन अंसारुल्लाह से प्रेरित संगठन के भी स्लीपर सेल
भारत में यमन का आतंकी संगठन अंसारूल्लाह भी एजेंसियो की हिट लिस्ट में शामिल है। ये यमन के हूती विद्रोहियों का उग्र संगठन है जिसका शुरुआती एजेंडा तो सउदी अरब और अमेरिका में आतंकी हमले कर अशांति फैलाने का था, लेकिन अब इस संगठन ने भारत में भी कोहराम मचाने की कोशिश करनी शुरू कर दी है। अंसारूल्लाह ने दक्षिणी भारत में जड़ जमाने की कोशिश की है। ये ज्यादातर स्लीपर सेल की सूरत में रहते हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से इस्लामिक कट्टरपंथी और हिंसात्मक विचारों वाली सामाग्रियों का वीडियो दिखाकर गलत जिहादी मानसिकता को बढ़ावा देते हैं। एनआईए सूत्रों के अब तक के रिकॉर्ड्स के मुताबिक कॉलेज के छात्र ज्यादातर इसके चपेट में आते जा रहे हैं।

लगातार देशव्यापी कार्रवाई:

एनआईए ने अलकायदा, आईएएस और अन्य कट्टरपंथी आतंकी संगठनों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की है। आईएस के 122 लोगों के अलावा बड़ी संख्या में अन्य संगठनों से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी हुई है। सोशल मीडिया निगरानी के जरिये कट्टरपंथी आतंकी पकड़ में आ रहे हैं।

एक्यूआईएस का गढ़ बन रहा: सुरक्षा विशेषज्ञ
सुरक्षा मामलो के विशेषज्ञ विवेकानंद फाउंडेशन के सीनियर फेलो पीके मिश्रा ने कहा कि बंगाल में मुर्शिदाबाद एक्यूआईएस का गढ़ बन चुका है। नदिया और नार्थ 24 परगना में भी यही हालत है। यहां इनके स्लीपर सेल बहुत हैं। पश्चिम बंगाल, केरल और कश्मीर के स्लीपर सेल के बीच जबरदस्त नेटवर्क है। आईएसआई अलकायदा और आईएएस की भारतीय उपमहाद्वीप में मौजूदगी को भारत के खिलाफ प्रॉक्सी वार में इस्तेमाल करना चाहती है। यूपी में कई जगहों पर इनका कनेक्शन है। अलकायदा कश्मीर के आतंकियो की मदद करना चाहता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *