Pages Navigation Menu

Breaking News

सोशल मीडिया के लिए गाइडलाइंस जारी,कंटेंट हटाने को मिलेंगे 24 घंटे

 

सोनार बांग्ला के लिए नड्डा का प्लान,जनता से पूछेंगे सोनार बांग्ला बनाने का रास्ता

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

महाराष्ट्र में फिर लौटा कोरोना, अमरावती में हफ्तेभर का लॉकडाउन

udhavमहाराष्ट्र में कोरोना वायरस के नए मामलों में तेजी के बाद अमरावती जिले में एक सप्ताह का लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है। महाराष्ट्र सरकार ने रविवार को इस एक हफ्ते के लॉकडाउन की घोषणा की। महाराष्ट्र की मंत्री यशोमति ठाकुर के हवाले से कहा है कि अमरावती में अचलपुर शहर को छोड़कर सोमवार रात 8 बजे से एक सप्ताह के लिए पूर्ण लॉकडाउन लागू रहेगा। हालांकि, इस दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी।

बता दें कि महाराष्ट्र के अमरावती में कोरोना वायरस के नए मामलों में तेजी से वृद्धि देखने को मिली है। अमरावती में शनिवार को कोरोना वायरस के 806 नए मामले सामने आए थे जो कि मुंबई के बाद दूसरे नंबर पर था। वहीं, मुंबई में शनिवार को कोरोना वायरस 897 नए मामले दर्ज हुए थे। वहीं, अकोला डिवीजन जिसमें अमरावती जिला और अमरावती नगर निगम शामिल हैं, यहां पर शनिवार को कुल 1726 नए मामले सामने आए थे और 12 लोगों की मौत हुई थी।

अमरावती में 16 फरवरी को 82 मामले सामने आए थे जबकि एक दिन बाद 17 फरवरी को नए मरीजों की संख्या 230 पहुंच गई थी।  जिसके बाद जिले में शनिवार शाम 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया था।

विकेंड लॉकडाउन के फैसले के बारे में बताते हुए अमरावती के कलेक्टर शैलेश नवल ने कहा था कि कोविड​​-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर मैंने जिले में सप्ताहांत में लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि भविष्य में किसी भी प्रकार के सख्त लॉकडाउन से बचने के लिए वे कोविड संबंधी उचित व्यवहार का पालन करें।

शनिवार को मुख्यमंत्री ने अधिकारियों के साथ की थी बैठक
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शहर में लॉकडाउन लगाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि यदि लोग नियम तोड़ने से बाज नहीं आए तो लॉकडाउन दोबारा लगाया जा सकता है। ठाकरे ने शनिवार को राज्य में कोविड-19 स्थिति पर स्वास्थ्य मंत्री, संभागीय आयुक्तों, जिला कलेक्टरों, नगर निगम आयुक्तों और पुलिस अधीक्षकों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता की। बैठक के बाद, सामाजिक समारोहों जैसे शादियों और समारोहों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या सीमित करने का निर्णय लिया गया। वे सभी इवेंट जिनमें सुपर-स्प्रेडर इवेंट बनने की क्षमता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *