Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

अमेरिकी फाइटर जेट ने दक्षिण चीन सागर को घेरा

us army chainaदक्षिण चीन सागर में जारी अमेरिकी युद्धाभ्‍यास में यूएस नेवी जोरदार शक्ति प्रदर्शन कर रही है। चीन की धमकी के बाद अमेरिका के 11 फाइटर जेट ने एक साथ साउथ चाइना सी के विवाद‍ित इलाके में उड़ान भरी। इस दौरान चीन केवल गीदड़भभकी देता रह गया। अमेरिका की इस आक्रामक कार्रवाई से भड़के चीन के सरकारी अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स ने इसे शक्ति का खुला प्रदर्शन करार दिया।अमेरिकी नौसेना दिन और रात दोनों ही समय में युद्धाभ्‍यास करके चीन को किसी भी दुस्‍साहस के खिलाफ सख्‍त संदेश दे रही है। इसी इलाके में इन दिनों की चीन की नौसेना भी युद्धाभ्‍यास कर रही है। ये एयरक्राफ्ट कैरियर दुनियाभर में अमेरिकी नौसैनिक ताकत के प्रतीक माने जाते हैं। अमेरिका ने कहा है कि उसके इस युद्धाभ्‍यास का मकसद इस इलाके के हर देश को उड़ान भरने, समुद्री इलाके से गुजरने और अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों के मुताबिक संचालन करने में सहायता देना है।

दक्षिण चीन सागर में एक साथ उड़े 11 फाइटर जेट

परमाणु बम ले जाने में सक्षम अमेरिका के B-52H बमवर्षक विमान के साथ अमेरिका के 10 अन्‍य फाइटर जेट और निगरानी विमानों ने रविवार को एक साथ दक्षिण चीन सागर में उड़ान भरी। ये सभी विमान अमेरिकी एयरक्राफ्ट कैरियर निमित्‍ज से उड़ान भरे थे। यूएसएस निमित्‍ज के साथ यूएसएस रोनाल्‍ड रीगन एयरक्राफ्ट कैरियर भी युद्धाभ्‍यास में हिस्‍सा ले रहा है।

अमेरिकी युद्धाभ्‍यास को चीन ने ताकत का प्रदर्शन बताया

चीन के सरकारी अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स ने चीन के युद्धाभ्‍यास के बीच अमेरिकी B-52H बमवर्षक विमान और युद्धाभ्‍यास को एक संयोग नहीं बल्कि शक्ति का खुला प्रदर्शन करार दिया है। अखबार ने कहा कि अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन का परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम B-52H बमवर्षक विमान का गुआम में तैनात करना और युद्धाभ्‍यास करना चीन को अपनी ताकत दिखाना है।

अमेरिकी नौसेना ने ग्‍लोबल टाइम्‍स के लिए मजे

उधर, दक्षिणी चीन सागर में अमेरिकी एयरक्राफ्ट कैरियर्स की तैनाती से भड़के चीन की पिट्ठू मीडिया की धमकियों पर अमेरिकी नौसेना ने मजा लिया है। चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स की धमकी भरे ट्वीट को रिट्वीट करते हुए अमेरिकी नेवी ने कहा कि इसके बावजूद वे उस इलाके में तैनात हैं। रविवार को ही ग्लोबल टाइम्स ने चीन के मिसाइलों की तस्वीर ट्वीट करते हुए अमेरिका को धमकी दी थी।

चीन ने दी DF-21D और DF-26 मिसाइलों की धमकी

चीन की ओर से मिसाइलाों को धमकी पर अमेरिका की नेवी ने उसकी मौज ले ली है. दरअरसल दक्षिणी चीन सागर में चीन की सेना (PLA) इस समय एक ड्रिल (अभ्यास) कर रही है. लेकिन उसके किसी भी पैंतरे या छिपे प्लान का जवाब देने के लिए अमेरिका ने भी अपनी नेवी के तीन जहाज इस इलाके में भेज दिए हैं. अमेरिकन नेवी की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक यूएसएस निमित्ज और यूएसएस रोनाल्ड रीगन नाम के दो समुद्री जहाजों को इस इलाके में भेजा गया है.  इनमें से निमित्ज पोत से फाइटर प्लेन उड़ान भर सकते हैं जबकि रोनाल्ड रीगन परमाणु बम से लैस समुद्री पोत है. पहले तो चीन पीएम मोदी के लद्दाख दौरे से बौखलाया हुआ था और अब यूएस नेवी के इस बेड़े को आसपास देखकर उसके होश उड़ गए हैं. लेकिन पुरानी आदत की तरह उसने अमेरिका को भी धमकाने की कोशिश की तो यूएस नेवी ने उसका मजाक उड़ा डाला और कहा कि हम फिर भी यहां मौजूद हैं. चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स के ट्विटर पर लिखा गया कि चीन के पास एंटी एयरक्राफ्ट हथियार, जैसे कि DF-21D और DF-26, एयरक्राफ्ट करियर किलर मिसाइल हैं. दक्षिणी चीन सागर पूरी तरह से पीएलए (PLA) के नियंत्रण में है. इस इलाके में अमेरिकन सेना के एयरक्राफ्ट करियर के किसी भी तरह की गतिविधि पीएलए के लिए दिल बहलाने से ज्यादा कुछ भी नही हैं. आपको बता दें कि यह बात ग्लोबल टाइम्स में एक एक्सपर्ट के बयान के हवाले से लिखा गया है.लेकिन इस बार खास बात ये है कि चीन की ओर से आई धमकी का अमेरिकन नेवी की ओर से इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए दिया गया है.  अमेरिकन नेवी ने जवाब दिया, ‘ और फिर भी वे (यूएस नेवी के जहाज) वही हैं. एयरक्राफ्ट करियअर्स, दक्षिणी चीन सागर के अंतरराष्ट्रीय सीमा में घूम रहे हैं. हमारे हिसाब से यूएएस निमित्ज और यूएसएस रोनाल्ड रीगन को धमकाया नहीं जाता है’. दरअसल ऐसी बातें चीन की गीदड़ भभकियां की तरह होती हैं जिनका इस्तेमाल वह दबाव बनाने के लिए करता है. लेकिन चीन की इन धमकियों का अब किसी के ऊपर कोई असर नहीं हो रहा है. इससे पहले  अमेरिका ने चीन को चेतावनी दी है कि अगर उसने हांगकांग को ‘निगलने’ की कोशिश की तो चुप नहीं बैठेगा.  चीन ने कभी ब्रिटेन का क्षेत्र रहे हांगकांग में बेहद सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू किया है. बेहद सख्त लहजे वाले एक बयान में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि यह हांगकांग के लोगों के लिये दुखद दिन है और चीन को नए प्रतिरोधी उपायों को लेकर चेतावनी भी दी जिनमें क्षेत्र को रक्षा और दोहरे इस्तेमाल वाली प्रौद्योगिकी के निर्यात को खत्म किया जाना शामिल है.  हांगकांग में मंगलवार को अमल में आया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून स्थानीय और चीनी अधिकारियों की जांच, अभियोजन और असंतुष्टों को सजा देने की शक्तियों में नाटकीय रूप से बढ़ोतरी करता है. 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *