Pages Navigation Menu

Breaking News

दत्तात्रेय होसबोले बने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह

 

पैर पसार रहा कोरोना, कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

रूस और तुर्की में मंडराया युद्ध का खतरा

turky vs russiaयेरेवान आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच बीते दिनों से भीषण जंग जारी है। इस जंग के दूसरे दिन करीब 21 लोग मारे गए। ये जंग विवादित क्षेत्र नागोनरे और काराबाख पर कब्‍जे को लेकर हो रही है। 2016 के बाद दोनों देशों के बीच हुई ये सबसे भीषण लड़ाई भी बताई जा रही है। दोनों पक्षों का आरोप है कि वो हमले के लिए तोपखाने का जमकर इस्‍तेमाल कर रहे हैं। आर्मेनिया का आरोप है कि अजरबैजान को हमला करने में तुर्की मदद कर रहा है। इस मुद्दे पर रूस ने भी अजरबैजान का साथ दिया है और कहा है कि तुर्की ने करीब 4 हजार सीरियाई लड़ाकों को इस युद्ध में शामिल होने के लिए अजरबैजान भेजा है। ये बात आर्मेनिया में मौजूद रूस के राजदूत ने कही है।वहीं अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय का कहना है कि उसकी सेना ने ऊंचाई वाले सामरिक महत्व के कई इलाकों पर कब्जा कर लिया है। इस लड़ाई के मद्देनजर विशेषज्ञों का कहना है कि इसमें तुर्की और रूस दोनों ही कूद सकते है। इन दोनों का इस युद्ध में कूदने का मकसद इस जंग को बढ़ावा देना होगा। आपको बता दें कि इस विवादित मुद्दे पर जहां आर्मेनिया का साथ रूस दे रहा है वहीं अजरबैजान के साथ तुर्की खड़ा होता दिखाई दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ इस युद्ध की वजह से हजारों लोग इस क्षेत्र को छोड़कर दूसरी जगह जाने को मजबूर हो गए हैं। इस जंग के बाद कई ऐसे भी हैं जिन्‍होंने अपने घर में बम शेल्‍टर के रूप में तैयार किए गए बेसमेंट में शरण ले रखी है।

काकेकस इलाके के दो देशों आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच विवादित क्षेत्र नागोरनो-काराबाख को लेकर शुरू हुआ भीषण युद्ध दूसरे दिन भी  जारी रहा। दोनों ही देशों ने एक-दूसरे पर टैंकों, तोपों और हेलिकॉप्‍टर से घातक हमले करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि इस जंग में अब तक 80 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है और सैंकड़ों लोग घायल हैं। उधर, जैसे-जैसे यह जंग तेज होती जा रही है, वैसे-वैसे रूस और नाटो देश के तुर्की के इसमें कूदने का खतरा मंडराने लगा है।इस विवाद के केंद्र में नागोर्नो-काराबाख का पहाड़ी इलाक़ा है जिसे अज़रबैजान अपना कहता है, हालांकि 1994 में ख़त्म हुई लड़ाई के बाद से इस इलाक़े पर आर्मीनिया का कब्ज़ा है.1980 के दशक से अंत से 1990 के दशक तक चले युद्ध के दौरान 30 हज़ार से अधिक लोगों को मार डाल गया और 10 लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए थे.

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि आर्मीनियाई बलों ने सोमवार सुबह टारटार शहर पर गोलाबारी शुरू कर दी। वहीं, आर्मीनिया के अधिकारियों ने कहा कि लड़ाई रातभर जारी रही और अजरबैजान ने सुबह के समय घातक हमले शुरू कर दिए। दोनों ही ओर से टैंक, तोपों, ड्रोन और फाइटर जेट से हमले किए जा हरे हैं। अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी को सोमवार को बताया कि लड़ाई में आर्मीनिया के 550 से अधिक सैनिक मारे गए हैं।इस बीच आर्मीनिया के अधिकारियों ने इस दावे को खारिज किया है। आर्मीनिया ने यह दावा भी किया कि अजरबैजान के चार हेलिकॉप्टरों को मार गिराया गया। जिस इलाके में आज सुबह लड़ाई शुरू हुई, वह अजरबैजान के तहत आता है लेकिन यहां पर 1994 से ही आर्मीनिया द्वारा समर्थित बलों का कब्जा है। इस संकट को देखते हुए अजरबैजान के कुछ क्षेत्रों में मार्शल लॉ लगाया गया है तथा कुछ प्रमुख शहरों में कर्फ्यू के आदेश भी दिए गए हैं।

रूस और तुर्की में जंग का मंडराया खतरा

इस बीच आर्मीनिया और अजरबैजान में बढ़ती जंग से रूस और तुर्की के इसमें कूदने का खतरा पैदा हो गया है। रूस जहां आर्मीनिया का समर्थन कर रहा है, वहीं अजरबैजान के साथ नाटो देश तुर्की और इजरायल है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक आर्मेनिया और रूस में रक्षा संधि है और अगर अजरबैजान के ये हमले आर्मेनिया की सरजमीं पर होते हैं तो रूस को मोर्चा संभालने के लिए आना पड़ सकता है। उधर, आर्मेनिया ने कहा है कि उसकी जमीन पर भी कुछ हमले हुए हैं।उधर, अजरबैजान के साथ तुर्की खड़ा है। तुर्की ने एक बयान जारी कहा है कि हम समझते हैं कि इस संकट का शांतिपूर्वक समाधान होगा लेकिन अ‍भी तक आर्मीनियाई पक्ष इसके लिए इच्‍छुक नजर नहीं आ रहा है। तुर्की ने कहा क‍ि हम आर्मीनिया या किसी और देश के आक्रामक कार्रवाई के खिलाफ अजरबैजान की जनता के साथ आगे भी खड़े रहेंगे। माना जा रहा है कि तुर्की का इशारा रूस की ओर था।लड़ाई वर्ष 1991 में सोवियत संघ के विघटन के साथ ही शुरू हो गई थी। तब नागोर्नो-काराबाख स्वायत्त क्षेत्र को आधिकारिक तौर पर आजाद घोषित किया गया था। दोनों देशों की लड़ाई में अब तक 30 हजार लोगों को जान गंवानी पड़ी है व हजारों लोग बेघर हो चुके हैं।

तुर्की में बने हमलावर ड्रोन विमान कर रहे हमले
बता दें कि रूस और तुर्की में पहले ही लीबिया और सीरिया के गृहयुद्ध में तलवारें ख‍िंची हुई हैं। इसके बाद भी दोनों देशों के बीच व्‍यापारिक संबंध बने हुए हैं। तुर्की ने अमेरिका को नाखुश करते हुए रूस से S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम खरीदा है। उधर, तुर्की में बने हमलावर ड्रोन विमान नागोरनो-काराबाख में आर्मेनियाई टैंकों का शिकार कर रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि रूस इसे बर्दाश्‍त नहीं करेगा और सख्‍त कदम उठा सकता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »