Pages Navigation Menu

Breaking News

दत्तात्रेय होसबोले बने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह

 

पैर पसार रहा कोरोना, कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

एमएसएमई को क्रेडिट फ्री लोन दिया जाएगा

nirmilaनई दिल्ली प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 12 मई को 20 लाख करोड़ के भारी भरकम पैकेज  का ऐलान किया गया। आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस पैकेज का किस तरह इस्तेमाल किया जाएगा, उसकी जानकारी । प्रधानमंत्री ने कहा था कि वित्त मंत्रालय सिलसिलेवार तरीके से सरकार द्वारा लिए गए फैसलों और कहां कितने खर्च किए जाएंगे इसकी जानकारी देगा।

. एमएसएमई को क्रेडिट फ्री लोन दिया जाएगा।

2. MSME को 3 लाख करोड़ रुपये का लोन गारंटी फ्री मिलेगा।

3. 45 लाख एमएसएमई को इससे फायदा मिलेगा।

4. MSME को एक साल तक ईएमआई चुकाने से मिली राहत।

5. जिस MSME का टर्नओवर 100 करोड़ है वे 25 करोड़ तक लोन ले सकते हैं।

6. जो लोन दिया जाएगा उसे चार सालों में चुकाना है। यह 31 अक्टूबर 2020 तक वैलिड है।

7. स्ट्रेस्ड MSMEs के लिए 20 हजार करोड़ रुपये सब-ऑर्डिनेट डेट दिया जाएगा। इससे 2 लाख एमएसएमई को फायदा मिलेगा।

8. सरकार GSTMSE को 4 हजार करोड़ रुपये का मदद देगी। GSTMSE बैंक को क्रेडट गारंटी देंगे।

-18000 हजार करोड़ रुपये टैक्स पेयर्स को रिफंड देकर राहत दी गई है। 14 लाख टैक्सपेयर्स को इसका फायदा भी मिला है।

-पहली बार जब राहत पैकेज की घोषणा की गई थी उसमें 41 करोड़ अकाउंट्स में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए सीधे मदद पहुंचाई गए।

-कोरोना के कारण जैसे ही लॉकडाउन की घोषणा हुई सरकार 1.7 लाख करोड़ रुपये का पैकेज लेकर आई और हमने यह सुनिश्चित किया कि देश का कोई गरीब, किसान और मजदूर भूखा ना रहे।

-आत्मनिर्भर भारत के पांच पिलर हैं। ये हैं- इकॉनमी, इंफ्रास्ट्रक्चर, सिस्टम, डेमोग्रॉफी और डिमांड।

-इस पैकेज का फैसला गंभीर चर्चा के बाद लिया गया है। सभी मंत्रालय और संबंधित स्टेकहोल्डर्स से बात के बाद इसका फैसला लिया गया है। आत्मनिर्भर भारत का मतलब यह नहीं है कि हम दुनिया में अलग हो जाएंगे।

-अभी यह जरूरी है कि विकास दर में तेजी आए और हम आत्मनिर्भर बनें।

हर वर्ग को राहत की उम्मीद
उम्मीद की जा रही है कि आज वित्त मंत्री अपने संबोधन में श्रमिक-किसान से लेकर नौकरीपेशा, छोटे कारोबारी और एमएसएमई तक का ख्याल रखेंगी। इसमें सबसे अहम हैं नौकरीपेशा, जो ईमानदारी से टैक्स देते हैं, जिसका जिक्र खुद पीएम मोदी ने भी किया था।

1.7 लाख करोड़ का राहत पैकेज पहले घोषित हो चुका है
मार्च के महीने में सरकार पहले ही 1.7 लाख करोड़ रुपये का राहत पैकेज ला चुकी है। इस पैकेज के जरिए सरकार की कोशिश हर शख्स की पेट भरने की थी। इसके तहत जनधन खाते में तीन महीने के लिए 500-500 रुपये डाले जा रहे हैं। पीएम किसान योजना की किस्त जमा की गई है। इसके अलावा उज्ज्वला योजना के तहत तीन महीने के लिए गैस सिलिंडर मुफ्त में बांटे जा रहे हैं।

19 मई से हवाई सेवा भी शुरू हो रही है

वर्तमान में देश में कोरोना लॉकडाउन का तीसरा चरण चल रहा है जो 17 मई को समाप्त होगा। प्रधानमंत्री ने मंगलवार के अपने संबोधन में लॉकडाउन-4 की भी घोषणा कर चुके हैं। हालांकि इसमें तमाम रियायतें बढ़ाई जाएंगी। जैसा कि हम जानते हैं, 12 मई से आंशिक तौर पर ट्रेन सेवा की शुरुआत हो चुकी है। 19 मई से एयर इंडिया घरेलू विमान सेवा भी शुरू करने जा रही है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »