Pages Navigation Menu

Breaking News

दिल्ली विधानसभा चुनाव में केजरीवाल की बंपर जीत

दिल्ली की 8 सीटों पर भाजपा की जीत, 5 का इजाफा 

कांग्रेस के 63 उम्मीदवारों की जमानत जब्त

बाला साहेब ठाकरे ने दिलों पर किया राज

thakreyमुंबई के जिस शिवाजी पार्क में 28 नवंबर, 2019 को उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, उसी मैदान से कभी उद्धव के पिता बाला साहेब ठाकरे ने शिवसेना को खड़ा किया था. बाला साहेब ठाकरे के नेतृत्व में जब शिवसेना की पहली रैली हुई तो शिवाजी पार्क भी जनता के हुजूम के आगे छोटा पड़ गया था. आज हालात ये हैं कि पूरे महाराष्ट्र पर बाला साहेब ठाकरे के शिवसैनिकों का राज है. हालांकि, बाल ठाकरे के जीवन की शुरुआत एकदम अलग तरीके से हुई थी. 23 जनवरी 1926 को पुणे में जन्म लेने वाले बाल ठाकरे के पिता केशव ठाकरे एक पत्रकार थे. बाल ठाकरे ने अपने करियर की शुरुआत एक कार्टूनिस्ट के तौर पर की थी. उन्होंने जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी जैसे राजनेताओं के कार्टून भी बनाए. नेताओं के कार्टून बनाने के साथ ही वो खुद भी राजनीति में आ गए.बाला साहेब ठाकरे ने कभी चुनाव नहीं लडा लेकिन लोगों के दिलों पर राज किया। उनके विचार हिदुत्व और देश भावना से भरे थे। अपनी बात डंके की चोट पर कहते थे।

पढ़ाई में औसत, लेकिन क्रिएटिव माइंड थे बाल ठाकरे

बाला साहबे ठाकरे पढ़ाई में एक औसत छात्र रहे हैं, लेकिन वो बहुत क्रिएटिव थे. कार्टून बनाया करते थे. देश दुनिया के हालात पर नजर रखते थे. वैचारिक तौर पर वो घोर एंटी कम्युनिस्ट थे और दक्षिणपंथी राजनीति के समर्थक थे. उनकी पोशाक भी उनके विचारों को दर्शाती थी. उन्हें हिंदू हृदय सम्राट की भी संज्ञा दी गई.

1966 में बनाई शिवसेना

बाला साहेब ठाकरे ने 19 जून 1966 को शिवसेना का गठन किया. दिलचस्प बात ये है कि महज 18 लोगों की मौजूदगी में बाल ठाकरे ने सुबह के वक्त एक नारियल फोड़कर पार्टी का गठन किया. बाल ठाकरे के मन में महाराष्ट्र और मराठा को लेकर बेहद लगाव था. उन्होंने हमेशा मराठा को सबसे आगे रखा. शायद यही वजह रही कि पार्टी गठन के महज 4 महीने बाद मुंबई के शिवाजी पार्क में शिवसेना की पहली रैली बुलाई गई तो वो विशाल मैदान भी जनसैलाब के सामने छोटा पड़ गया और इस तरह शिवसेना ने सियासत का शानदार आगाज किया.

कभी मिरांडा चाल में रहता था मातोश्री में रहने वाला ठाकरे परिवार

बाल ठाकरे ने राजनीति में आगाज के साथ ही लोगों के दिलों पर राज किया. मुंबई में उनकी तूती बोलती थी. बाल ठाकरे की एक आवाज पर जनसैलाब सड़कों पर उमड़ पड़ता था. हालांकि, तमाम मसलों पर वो विवादों में भी रहे, लेकिन उनका व्यक्तित्व बेहद असरदार था. इसी दम पर बाल ठाकरे ने महाराष्ट्र की राजनीति में अपना सिक्का जमा लिया और मुंबई स्थित उनका आवास मातोश्री सियासत का रिमोट कंट्रोल बन गया.

bal-thackeray--memorial_012320095830.jpgमुंबई में बाल ठाकरे मेमोरियल का दृश्य

हालांकि, ठाकरे परिवार कभी 10*10 के छोटे कमरों वाले मिरांडा चाल में रहता था. जहां उनके बीच तमाम दक्षिण भारतीय लोग भी रहते थे. यहीं से उनकी दक्षिण भारतीयों के प्रति सोच भी बदल गई. वो उनके प्रति आक्रामक हो गए.

आक्रामक रही राजनीति

बाला साहेब की नौकरी जब फ्री प्रेस जर्नल में लगी तो उन्होंने अपनी मैग्जीन मार्मिक शुरू की. यहीं से उनकी जिंदगी में भी बड़े बदलाव आने शुरु हुए. कहा जाता है कि एक बार बाल ठाकरे मुंबई की टेलीफोन डॉयरेक्टरी देखी तो उसमें मराठियों के नाम गिने-चुने मिले. पूरी डॉयरेक्टरी में दक्षिण भारतीयों के नाम थे. क्योंकि ज्यादातर सरकारी नौकरियों पर उस समय मुंबई में दक्षिण भारतीयों का कब्जा था. मराठी निचले दर्जे के कामों में ज्यादा थे. बाल ठाकरे को ये बात बहुत चुभ गई. जिसका असर बाद में शिवसेना की राजनीति में दिखाई दिया. इसके अलावा मराठा अधिकारों के सवाल पर उत्तर भारतीयों के खिलाफ भी शिवसेना की राजनीति आक्रामक रही.हालांकि, अब हालात बदल गए हैं. 2012 में बाला साहेब ठाकरे के निधन के बाद शिवसेना की कमान उद्धव ठाकरे संभाल रहे हैं. उद्धव बीजेपी से नाता तोड़ चुके हैं और कांग्रेस-एनसीपी के साथ सरकार चला रहे हैं. बीजेपी भी कह रही है कि उद्धव ने बाला साहेब की विचारधारा से समझौता कर सत्ता हासिल की है. लेकिन इस सबके बीच शिवसेना के सीएम का जो वादा उद्धव ठाकरे ने बाला साहेब से किया था, वो पूरा हो गया है और बाला साहेब के बेटे उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र की सत्ता संभाल रहे हैं.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *