Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

भारत में रहने के लिए बेंगलुरु और शिमला हैं बेस्ट

bengaluru-12-1नई दिल्ली: भारत में 10 लाख से अधिक की आबादी वाले शहरों में रहने के लिहाज से बेंगलुरु टॉप पर है. ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स की 111 शहरों की सूची में बेंगलुरु के अलावा पुणे और अहमदाबाद जैसे शहर भी टॉप लिस्ट में शामिल हैं, जबकि बरेली, धनबाद और श्रीनगर आखिरी पायदान वाले शहरों में से एक हैं. इस रैंकिंग को आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी  ने घोषित किया.

10 लाख से कम आबादी वाले शहर में शिमला टॉप पर

शहरी विकास मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, 10 लाख से कम की आबादी वाले शहरों में शिमला पहले स्थान पर है, जबकि बिहार का मुजफ्फरपुर आखिरी नंबर पर आता है. 10 लाख से कम आबादी वाले शहरों में शिमला के बाद भुवनेश्वर, सिलवासा, ककिनादा, सलेम, वेल्लोर, गांधीनगर, गुरुग्राम, दावणगेरे और तिरुचिरापल्ली हैं.

म्यूनिसिपैलिटी में कौन बेस्ट

शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इसके साथ ही टॉप म्यूनिसिपैलिटीज की लिस्ट भी जारी की. इसे भी दो कैटेगरी 10 लाख से कम आबादी और 10 लाख से ज्यादा आबादी में बांटा गया. 10 लाख से ज्यादा आबादी वाली कैटेगरी में इंदौर बेस्ट नगर निगम रहा. इसके बाद सूरत और भोपाल भी टॉप लिस्ट में शामिल हैं. जबकि 10 लाख से कम आबादी वाली कैटेगरी में नई दिल्ली म्यूनिसिपल काउंसिल (NDMC) नंबर वन पर है. इसके बाद तिरुपति, गांधीनगर, करनाल, सलेम, तिरुप्पुर, बिलासपुर, उदयपुर, झांसी और तिरुनेलवेली रहे.

इस आधार पर तय की गई शहरों की रैंकिंग

ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स में शहरों की रैंकिंग जीवन की गुणवत्ता और शहरी विकास के लिए विभिन्न पहलुओं के आधार पर तय की गई हैं. इसमें शहरों में जीवन की गुणवत्ता, शहर की इकोनॉमिक एबिलिटी, सस्टेनेबिलिटी और रिजीलिएंस को भी समझा जाता है. वहीं नगर निगमों का आकलन सर्विसेज, फाइनेंस, पॉलिसी, टेक्नोलॉजी और गवर्नेंस के आधार पर किया गया है.

सर्वे में 32 लाख लोगों की राय को किया शामिल
इसके साथ इन शहरों के लिए 14 कैटगरी बनाई गई। इन कैटगरी में उस शहर की शिक्षा का स्तर, स्वास्थ्य, आवास और आश्रय, साफ सफाई, ट्रांसपोर्ट सिस्टम, सुरक्षा व्यवस्था, आर्थिक विकास का स्तर, आर्थिक अवसर, पर्यावरण, हरित क्षेत्र, इमारतें, एनर्जी खपत जैसे कैटगरी की समीक्षा की गई। इसके बाद वहां के लोगों के बीच सर्वे किया गया। यह सर्वे 19 जनवरी, 2020 से मार्च, 2020 के तहत किया गया। इस सर्वे में 32 लाख 20 हजार लोगों ने अपनी राय दी। यह राय ऑनलाइन फीडबैक, क्यू आर कोड, फेस टू फेस सहित कई माध्यमों के जरिए लिया गया। उसके बाद सभी 111 शहरों की समीक्षा करने के बाद उनकी रैंकिंग दी गई।

10 लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों की रैंकिंग लिस्ट
शहर -स्कोर

  1. बेंगलुरू- 66.70
  2. पुणे- 66.27
  3. अहमदाबाद- 64.87
  4. चेन्नई- 62.61
  5. सूरत- 61.73
  6. नवी मुंबई- 61.60
  7. कोयम्बटूर- 59.72
  8. वडोदरा-59.24
  9. इंदौर- 58.58
  10. ग्रेटर मुंबई- 58.23

10 लाख से कम आबादी वाले शहरों की रैंकिंग

शहर- स्कोर

  1. शिमला- 60.90
  2. भुवनेश्वर- 59.85
  3. सिल्वासा -58.43
  4. काकिनाडा- 56.84
  5. सेलम- 56.40
  6. वेल्लोर- 56.38
  7. गांधीनगर- 56.25
  8. गुरूग्राम -56.00
  9. दावनगेरे -55.25
  10. तिरुचिरापल्ली- 55.24
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »