Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

भारत बायोटेक ने 18 राज्यों को भेजनी शुरू की कोवैक्सीन

covaxin-1609252108_570_850नई दिल्ली भारत बायोटेक ने देश के तमाम राज्यों को अपने कोविड वैक्सीन कोवैक्सीन की सप्लाई शुरू कर दी है। इसकी जानकारी खुद भारत बायोटेक कंपनी ने ट्वीट के जरिए दी है। जिन राज्यों को सप्लाई दी जा रही है, उनमें आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल शामिल हैं।

हैदराबाद की इस कंपनी ने कहा कि उसने भारत सरकार की तरफ से प्राप्त आवंटन के आधार पर कंपनी ने आपूर्ति शुरू की है। भारत बायोटेक ने इसे लेकर जो ट्वीट किया, उसमें लिखा- ‘कोवैक्सिन की सप्लाई 1 मई से ही 18 राज्यों को शुरू की जा चुकी है और आगे भी ये सप्लाई लगातार जारी रहेगी। खुद को भी वैक्सीन लगवाएं और अपने चहेतों को भी वैक्सीन लगवाएं।’ ट्वीट में भारत बायोटेक ने एक तस्वीर भी अपलोड की है, जिसमें उन 18 राज्यों के नाम हैं, जहां कंपनी की तरफ से कोवैक्सीन भेजी जा रही है।

कितने रुपये खर्च करने होंगे वैक्सीन के लिए?
24 अप्रैल को भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन के लिए मूल्य निर्धारण की घोषणा की थी। इसने राज्य सरकारों के लिए कोवैक्सीन की कीमत 600 रुपये प्रति खुराक तय की। हालांकि, बाद में इसकी कीमत घटकर 400 रुपये हो गई। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (रकक) ने कोविशिल्ड की कीमत में 400 रुपये से 300 रुपये की कटौती की। केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के लिए अलग-अलग मूल्य निर्धारण के बीच केंद्र सरकार द्वारा कथित तौर पर अनुरोध करने के बाद दोनों वैक्सीन निमार्ताओं ने कीमतों को घटा दिया।निजी अस्पतालों के लिए, भारत बायोटेक ने 1,200 रुपये प्रति डोज की कीमत तय की। यह कोविशिल्ड के लिए तय लागत से दोगुना है। निर्यात के लिए, भारत बायोटेक ने भारत के पहले स्वदेशी कोविड वैक्सीन की कीमत 1,125-1,500 रूपये रखी है। जब से भारत में कोविड टीकाकरण कार्यक्रम की शुरूआत हुई है, भारत बायोटेक और एसआईआई केंद्र को अपनी खुराक पर 1.50 रूपये की खुराक पर आपूर्ति कर रहे हैं। हालांकि भारत बायोटेक केंद्र को आपूर्ति जारी रखने की संभावना है, वहीं एसआईआई इसे संशोधित कर 400 रुपये करने की मांग कर रहा है। भारत बायोटेक और एसआईअई दोनों ने घोषणा की है कि वे अपनी उत्पादन क्षमता का 50 प्रतिशत केंद्र सरकार को आपूर्ति के लिए जमा कर रहे हैं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »