Pages Navigation Menu

Breaking News

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर का नक्शा पास

मानसून सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक चलेगा, दोनों सदन अलग-अलग समय पर चलेंगे

  7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से मेट्रो सेवाएं होंगी शुरू, 12 सितंबर तक सभी मेट्रो लगेंगीं चलने 

राम मंदिर निमार्ण का सारा श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ; विनय कटियार

vinay-katiyar-22-1492830276भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के फायर ब्रांड नेता विनय कटियार ने कहा कि राम मंदिर का शिलान्यास पहले ही हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पांच अगस्त को शिला पूजन और भूमि पूजन करने आ रहे हैं।कटियार ने कहा कि बिहार के दलित कामेश्वर चौपाल ने 1989 में ही राम मंदिर का शिलान्यास कर दिया था। अब केवल शिला पूजन व भूमि पूजन होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या में पांच अगस्त को आ करके श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के भव्य मंदिर निर्माण का भूमि पूजन करेंगे। जब वह गुजरात में मुख्यमंत्री नहीं थे तब वह राम मंदिर का प्रचार करते थे और राम मंदिर के लिये काम भी करते थे। आज जो कुछ भी हो रहा है प्रधानमंत्री खुद को सौभाग्यशाली समझेंगे और हम लोग भी सौभाग्यशाली हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या में भूमि पूजन करने आ रहे हैं।भूमि पूजन का विरोध करने वालों पर निशाना साधते हुए कटियार ने कहा कि हाथी चलता रहता है, हम लोग देखते रहते हैं। भूमि पूजन केवल श्री मोदी करेंगे और कोई नहीं करेगा, क्योंकि प्रधानमंत्री के रहते हुए अदालत का निर्णय भी आ गया है और राम मंदिर निमार्ण का सारा श्रेय देश के प्रधानमंत्री को जाता है। रामभक्त उत्साहित हैं।  इस बीच विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिये हो रहे भूमि-पूजन में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आ रहे हैं। मंदिर निर्माण के लिये शिला पूजन श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष दिगम्बर अखाड़ा के महंत नृत्यगोपाल दास, विश्व हिन्दू परिषद के अंतरार्ष्ट्रीय अध्यक्ष रहे अशोक सिंहल के रहते बिहार के दलित कामेश्वर चौपाल ने नौ नवम्बर 1989 में ही राम मंदिर का शिलान्यास कर दिया था अर्थात ईंट रख दिया था। उन्होंने कहा कि पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए केवल भूमि पूजन करने के लिये आ रहे हैं। जिससे अयोध्यावासियों में खुशी की लहर दौड़ रही है और यह लोग कह रहे हैं कि अब भव्य मंदिर का निर्माण शीघ्र हो जाएगा। उन्होंने बताया कि श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष एवं दिगम्बर अखाड़ा के महंत परमहंस रामचन्द्र दास ने वर्ष 2002 में शिलादान किया था।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *