Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

भाजपा कार्यकारिणीय में बनी मिशन—2019 की रणनीति

नई दिल्ली बीजेपी अब आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव न्यू इंडिया के नारे पर लड़ेगी। पार्टी यह संदेश देगी कि उनकी सरकार गरीबी, जातिवाद, आतंकवाद, सांप्रदायिकता, भ्रष्टाचार मुक्त और स्वच्छ भारत बनाने के लिए काम कर रही है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पारित राजनीतिक प्रस्ताव के जरिए बीजेपी ने साफ कर दिया है कि सबका साथ, सबका विकास के साथ ही पार्टी अब न्यू इंडिया की थीम को जनता के बीच ले जाएगी। इसके जरिए पार्टी यह भी संकेत दे रही है कि वह अपनी पिछली उपलब्धियों के साथ ही 2022 तक का अपना अजेंडा जनता के सामने इसी रूप में रखेगी।

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, आने वाले विधानसभा और 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी चाहती है कि वह मोदी सरकार की उपल्ब्धियों के साथ ही आगे का भी अजेंडा जनता के बीच रखे। पार्टी का मानना है कि पिछली बार बीजेपी के अजेंडे ने ही देश के लोगों को एक नई उम्मीद नजर आई थी। ऐसे में पार्टी ने अपने राजनीतिक प्रस्ताव के जरिए अपने अगले चुनाव के अजेंडे को सामने रखा है। पार्टी की कार्यकारिणी में मौजूद उसके सदस्यों के साथ ही जनप्रतिनिधियों ने भी एकजुट होकर सर्वसम्मति से इस अजेंडे को अपनी मंजूरी दी है।

पार्टी ने यह भी साफ कर दिया है कि वह इस अजेंडे को लेकर मोदी सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलकार काम करेगी। पार्टी का कहना है कि जिन छह बिंदुओं के जरिए न्यू इंडिया बनाने का संकल्प लिया गया है, उनमें गरीबी मुक्त करने का अर्थ देश के लोगों को शिक्षा से लेकर स्वास्थ्य और रोटी से लेकर मकान उपलब्ध कराने, देश को आतंकवाद, जातिवाद और सांप्रदायकवाद से मुक्त कराने का अर्थ यह होगा कि देश इन समस्याओं से हटकर तरक्की की ओर बढ़े। पार्टी के सीनियर लीडर नितिन गडकरी ने कहा कि इस प्रस्ताव में आने वाले भविष्य के न्यू इंडिया प्लान के साथ ही मोदी सरकार की उपलब्धियों की भी जमकर प्रशंसा की गई है। खासतौर पर जीएसटी और नोटबंदी के फैसले को लेकर पूरी पार्टी मोदी सरकार के साथ एकजुट खड़ी है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण  जेटली ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए पत्रकारों को बताया कि प्रधानमंत्री ने पार्टी और राजनीति से पहले देश की जनता को सर्वाेपरी बताया है. प्रधानमंत्री ने आतंक के खिलाफ लड़ाई पर भी बात रखी. उन्होंने कहा कि विदेशी आतंकी भारत में आए जिन्हें मारा गया. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में जो भी पकड़ा जाएगा वह बचेगा नहीं. उन्होंने साफ कहा कि मेरा कोई रिश्तेदार नहीं है.

सरकार की कई योजनाओं पर पीएम ने अपनी बात रखी. आधार पर जो बचत हुई है इसके बारे में उन्होंने विस्तार से चर्चा की. सरकार की योजनाओं को रखते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में हर टॉयलेट के बाहर लिखा गया है ‘इज्जत घर’. लोगों की भाषा में इस प्रकार से कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने का प्रयास किया गया है. स्वास्थ्य योजना में टीकाकरण की योजना को जनभागीदारी से आगे बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है. कार्यकर्ताओं को इसमें जोड़ना आवश्यक है.

अरुण जेटली ने बताया कि प्रधानमंत्री ने कहा कि जब राजनीतिक कार्यकर्ता किसी अभियान का हिस्सा नहीं होते तब तक वह कार्यक्रम आगे नहीं जाता है. स्वच्छता अभियान एक उदाहरण है. लोग इसमें हिस्सा ले  रहे हैं. कई संस्थाएं इसका हिस्सा बनीं. लोगों ने घरों एलईडी बल्ब लगाए हैं. इससे पैसा और ऊर्जा दोनों की बचत हो रही है. किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करनी है. गांव तक कार्यकर्ता पहुंचें. गांव में किसानों और लोगों की समस्याओं को समझें. पार्टी और सरकार के बीच में वह एक लिंक बनें.

जेटली ने बताया कि पीएम ने केंद्र सरकार की नीतियों के साथ-साथ विदेश नीतियों को भी पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने रखा. डोकलाम विवाद पर पहली बार अपनी बात रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने यह विवाद बेहद शांतिपूर्वक तरीके से निपटाया है. कई लोग इस बात को लेकर हैरान थे कि हमने यह कैसे किया. उन्होंने कहा कि यह पहली बार है कि चीन के साथ किसी गंभीर मुद्दे को भारत ने इतनी मजबूती के साथ हल किया है. उन्होंने यह भी कहा कि भ्रष्टाचार से समझौता बिल्कुल नहीं होगा. हमारे लिए पार्टी से पहले देश है.  इससे पहले पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद, साम्प्रदायिकता एवं तुष्टीकरण की राजनीति को देश से समाप्त करने की, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘न्यू इंडिया’ की सोच के आधार पर साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बड़ी जीत का खाका पेश किया और अगले पांच वर्षों के लिये पार्टी की रणनीति सामने रखी. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कार्यकारिणी बैठक के बारे में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए बताया कि अमित शाह ने जोर दिया कि आजादी के 70 वर्ष गुजर जाने के बाद भी अभी भी हम समस्याओं से जूझ रहे हैं. प्रधानमंत्री ने न्यू इंडिया के दृष्टिकोण को देश के समक्ष रखा है और पार्टी कार्यकर्ता इस दृष्टिकोण को संकल्प के साथ आगे बढ़ाएं.

उन्होंने कहा कि अगले पांच वर्षों के दौरान सभी कार्यकर्ता खुद को पार्टी के विस्तार और जनता के हितों के कार्य में लगाएंगे, साथ ही गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद, साम्प्रदायिकता एवं तुष्टीकरण की राजनीति को देश से समाप्त करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘न्यू इंडिया’ संबंधी सोच पर प्रतिबद्धता के साथ अमल करेंगे. बैठक के दौरान शाह ने उपस्थित पार्टी सांसदों, विधायकों, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों समेत अन्य नेताओं से केंद्र एवं प्रदेश सरकार के कार्यों को जनता तक पहुंचाने पर जोर दिया और वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बारे में अपने विचार रखे.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *