Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

भाजपा ने विधान परिषद चुनाव के लिए शाहनवाज को बनाया कैंडिडेट

sahanwaj husainभारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बिहार और उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधान परिषद (MLC) चुनाव के लिए उम्मीदावारों की लिस्ट जारी कर दी है। बीजेपी ने अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन को बिहार से उम्मीदवार बनाया है। आपको बता दें कि बिहार में दो सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में विधान परिषद 12 सीटों पर चुनाव होने हैं। इनमें से पार्टी ने छह उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है। बीजेपी ने कुंवर मानवेन्द्र सिंह, गोविंद नारायण शुक्ला, सलिल बिश्नोई, अश्वनी त्यागी, घर्मवीर प्रजापति और सुरेन्द्र चौधरी के नामों की आज घोषणा की है।वहीं, बिहार में दो सीटों पर उपचुनाव होने हैं। जेडीयू और अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार चला रही बीजेपी ने यहां एक सीट पर उम्मीदवार उतारे हैं। पार्टी ने अपने पूर्व सांसद, केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन को उम्मीदवार बनाया है।

28 जनवरी को को डाले जाएंगे वोट
यूपी में विधान परिषद की 12 सीटों पर चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है। निर्वाचन आयोग ने बुधवार को विधान परिषद चुनाव का पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया। जारी चुनाव कार्यक्रम के अनुसार अधिसूचना 11 नवंबर को जारी की जाएगी। प्रत्याशी 11 से 18 जनवरी तक पर्चा दाखिल कर सकेंगे। 19 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच और 21 जनवरी को नाम वापसी होगी। मतदान 28 जनवरी को सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक होगा। उसी दिन शाम पांच बजे से मतगणना भी शुरू हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश में 30 जनवरी को विधान परिषद की 12 सीटें रिक्त हो रही हैं। विधान परिषद में जो 12 सीटें खाली हो रही हैं उनमें समाजवादी पार्टी के अहमद हसन, रमेश यादव, आशु मलिक, रामजतन राजभर, वीरेंद्र सिंह और साहब सिंह सैनी हैं। भारतीय जनता पार्टी के डॉ. दिनेश शर्मा, स्वतंत्र देव सिंह और लक्ष्मण प्रसाद आचार्य हैं। बहुजन समाज पार्टी के धर्मवीर सिंह अशोक, प्रदीप कुमार जाटव और नसीमुद्दीन सिद्दीकी का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। इनमें नसीमुद्दीन कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। उनकी विधान परिषद की सदस्यता खत्म की जा चुकी है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »