Pages Navigation Menu

Breaking News

कोरोना से ऐसे बचे;  मास्क लगाएं, हाथ धोएं , सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और कोरोना वैक्सीन लगवाएं

 

बंगाल हिंसा: पीड़ित परिवारों से मिले राज्यपाल धनखड़, लोगों के छलके आंसू

हमास के सैकड़ों आतंकवादियों को इजराइल ने मार गिराया

सच बात—देश की बात

पंजाब कांग्रेस में दोफाड़ की स्थिति, दिल्ली पहुंचे 26 विधायक

punjab congressचंडीगढ़ पंजाब कांग्रेस में दोफाड़ की स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली में विधायकों और नेताओं का तीन सदस्यीय पैनल के साथ मंथन चल रहा है। पंजाब कांग्रेस के करीब 26 विधायक दिल्ली पहुंच चुके यह बैठक तीन दिन तक चलेगी जिसमें पंजाब कांग्रेस के बागी नेता नवजोत सिंह सिद्धू और सीएम अमरिंदर सिंह के भी शामिल होने की चर्चा है।

  • पंजाब कांग्रेस में दोफाड़ की स्थिति के बीच दिल्ली पहुंचे 26 विधायक, तीन सदस्यीय पार्टी पैनल से मीटिंग
  • दिल्ली में तीन दिन तक पैनल से बात रखेंगे विधायक, नवजोत सिंह सिद्धू और अमरिंदर सिंह भी होंगे शामिल
  • प्रदेश अध्यक्ष सुनील झाखड़, मंत्री चरणजीत चन्नी, सुखजिंदर रंधावा समेत कई नेता पहुंचे दिल्ली

‘मीटिंग किसी एक के लिए नहीं पूरे पंजाब के लिए है’
कांग्रेस के करीब 26 विधायक दिल्ली पहुंच गए हैं जिसमें प्रदेश अध्यक्ष सुनील झाखड़, मंत्री चरणजीत चन्नी, सुखजिंदर सिंह रंधावा भी शामिल हैं। मीटिंग के बाद सुनील जाखड़ ने बताया, ‘यह मीटिंग मंथन के लिए है। यह किसी एक के लिए नहीं बल्कि पंजाब और कांग्रेस के लिए रखी गई है। मीटिंग कम से कम तीन दिन तक चलेगी। विधायक, सांसद और वरिष्ठ नेता इस दौरान मिलेंगे और देखेंगे कि स्थिति को कैसे मजबूत किया जाए।’

‘गुरुग्रंथ साहिब बेअदबी के दोषियों को बक्शा नहीं जाएगा’
पंजाब में गर्माए गुरु ग्रंथसाहिब बेअदबी और कोटकापुरा फायरिंग मामले में सुनील जाखड़ ने कहा, ‘जिन लोगों ने गोली चलाने के आदेश दिए और निहत्थे सिखों को मारने वाले बक्शे नहीं जाएंगे।’ कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पार्टी के उन नेताओं में शामिल होंगे जो मंगलवार को दिल्ली में पार्टी की तीन सदस्यीय समिति से मुलाकात करेंगे। पंजाब कांग्रेस इकाई में जारी अंदरूनी कलह को सुलझाने के लिए इस समिति का गठन किया गया है।

सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की
पार्टी नेताओं के एक धड़े ने वर्ष 2015 में फरीदकोट के कोटकपुरा में बेअदबी मामले के बाद हुई गोलीबारी की घटना में की गई कार्रवाई को लेकर असंतोष जाहिर किया था, जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी की तीन सदस्यीय समिति गठित की थी। पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट की ओर से पिछले महीने कोटकपुरा गोलीबारी मामले में जांच रद किए जाने के बाद सिद्धू लगातार इस मामले में मुखर हैं।

सिद्धू मंगलवार को रखेंगे अपनी बात
सिद्धू इस मामले से निपटने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की आलोचना कर रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि पंजाब के मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा समेत 26 विधायक सोमवार को दिल्ली में समिति से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि अमृतसर पूर्व से विधायक नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब के अन्य पार्टी नेताओं में शामिल होंगे जो मंगलवार को समिति से मिलेंगे। सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी गुरुवार या शुक्रवार को समिति से मुलाकात कर सकते हैं।

 बिगड़ी बात
2015 के गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटना के बाद कोटकपूरा में धरने पर बैठे लोगों पर हुई फायरिंग को लेकर पंजाब सरकार ने SIT बनाई थी। पिछले महीने हाईकोर्ट ने इस SIT और उसकी रिपोर्ट को खारिज कर दिया था। इसके बाद कांग्रेस में खासी खींचतान शुरू हो गई। कांग्रेस के एक धड़े ने यह आरोप लगाया कि एडवोकेट जनरल ने कोर्ट में सही ढंग से केस को पेश नहीं किया, जबकि नवजोत सिंह सिद्धू इस मसले को लेकर लगातार मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर हमला बोलते आ रहे हैं।पंजाब सरकार और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा, चरणजीत सिंह चन्नी, नवजोत सिंह सिद्धू, राज्यसभा सदस्य प्रताप सिंह बाजवा, सांसद रवनीत बिट्टू एकजुट हो गए। इसके बाद विधायक परगट सिंह, सुरजीत सिंह धीमान ने भी सरकार की कारगुजारी पर सवाल खड़े किए।हाल ही में 26 मई को किसान आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर एक ओर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान संगठनों से प्रदर्शन नहीं करने की अपील की थी, वहींं इसके उलट नवजोत सिद्धू ने पटियाला और अमृतसर स्थित अपने घर पर कृषि कानूनों के विरोध में काले झंडे फहराए थे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »