Pages Navigation Menu

Breaking News

दत्तात्रेय होसबोले बने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह

 

पैर पसार रहा कोरोना, कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

नीतीश ने चिराग को दिया बड़ा झटका…

jdu ljpपटना बिहार विधानसभा से लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) का खेला खत्म हो चुका है। चिराग पासवान के इकलौते विधायक राजकुमार सिंह आधिकारिक तौर पर नीतीश कुमार के साथ हो गए। उन्होंने जेडीयू की सदस्यता ले ली। मटिहानी से राजकुमार सिंह चुनाव जीते थे।इसके साथ ही बिहार विधानसभा में जदयू के विधायकों की संख्या बढ़कर 46 हो गयी, जबकि चकाई से निर्दलीय जीते और सरकार के साइंस टेक्नालॉजी मंत्री सुमित कुमार सिंह का भी समर्थन उसे प्राप्त है। इससे पहले बसपा के इकलौते विधायक जमा खां का जदयू में विलय हुआ था।

बिहार विधानसभा से ‘चिराग’ का सफाया
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चिराग पासवान का बड़ा झटका दिया। चिराग पासवान की पार्टी के इकलौते विधायक राजकुमार सिंह जेडीयू में शामिल हो गए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विधायक राज कुमार सिंह ने विधानसभा में एलजेपी का जेडीयू में विलय कराने का फैसला लिया। इस बाबत उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा से खुद मुलाकात की और अपनी मांग रखी।

जेडीयू में शामिल हो गए राजकुमार सिंह
राजकुमार सिंह की मांग के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने जेडीयू में शामिल होने की अनुमति दे दी। इसके बाद सीएम नीतीश कुमार, मंत्री अशोक चौधरी, विजय चौधरी, सांसद ललन सिंह मौजूदगी में राजकुमार सिंह ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इसके पहले बीएसपी के इकलौते विधायक जमा खान ने भी पार्टी का जेडीयू में विलय किया था और मंत्री बने थे।

कारण बताओ नोटिस से थे नाराज
दरअसल विधायक राजकुमार सिंह एलजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल खलिक के कारण बताओ नोटिस दिए जाने से नाराज चल रहे थे। बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष पद के चुनाव के दौरान राजकुमार सिंह ने जेडीयू उम्मीदवार का समर्थन किया था। इसके बाद एलजेपी के राष्ट्रीय महासचिव ने प्रेस के जरिए उन्हें कारण बताओ नोटिस थमा दिया। राजकुमार सिंह का कहना था कि पार्टी की तरफ से चुनाव को लेकर कोई निर्देश नहीं दिया गया था। स्पीकर के चुनाव के समय एनडीए के पक्ष में मतदान करने को कहा गया था। इसलिए उन्होंने उपाध्यक्ष पद के लिए भी एनडीए को ही वोट किया।चुनाव जीतने के बाद से ही राजकुमार सिंह पर जेडीयू डोरे डाल रही थी। जेडीयू की तरफ से मंत्री अशोक चौधरी और मुंगेर के सांसद राजीव रंजन सिंह उनके संपर्क में थे। राजकुमार सिंह को फिलहाल जेडीयू पार्टी के संगठन में अहम जिम्मेदारी दी जा सकती है। उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा भी दिए जाने की बात कही जा रही है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »