Pages Navigation Menu

Breaking News

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर का नक्शा पास

मानसून सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक चलेगा, दोनों सदन अलग-अलग समय पर चलेंगे

  7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से मेट्रो सेवाएं होंगी शुरू, 12 सितंबर तक सभी मेट्रो लगेंगीं चलने 

फेसबुक मुद्दे को लेकर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने

FACEBOOKनई दिल्ली कांग्रेस ने फेसबुक और बीजेपी के कथित सांठगांठ के मुद्दे को और हवा दे दी है। पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने फेसबुक के संस्थापक और सीईओ मार्क जकरबर्ग को फेसबुक इंडिया का बीजेपी के साथ रिश्तों को लेकर शिकायती पत्र लिखा है। पत्र में 14 अगस्त को अमेरिकी अखबार द वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ) की रिपोर्ट का हवाला देकर कहा गया है कि फेसबुक इंडिया पर बीजेपी का पक्ष लेने पर स्पष्ट आरोप लगा है। इसमें कहा गया है, ‘लेख में कहा गया है कि (फेसबुक इंडिया की) मिसेज दास ने चुनाव संबंधित मुद्दों पर बीजेपी का साथ दिया।’

फेसबुक पर लोकतांत्रिक अधिकारों को कुचलने का आरोप
चिट्ठी में यह भी कहा गया है कि फेसबुक इंडिया ने बीजेपी नेताओं की हेट स्पीच तब हटाई जब द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने फेसबुक के पक्षपाती रवैये से पर्दा उठाया। चिट्ठी में कांग्रेस को भारत की आजादी की लड़ाई लड़ने और सभी युवाओं BJP_Parliament_congressको मतदान का अधिकार देकर चुनावी लोकतंत्र स्थापित करने का श्रेय देते हुए फेसबुक इन संघर्षों पर पानी फेरने का आरोप लगाया गया है। जकरबर्ग को संबोधित चिट्ठी में कहा गया है, ‘यह बहुत दुखद है कि आपकी कंपनी शायद उन (लोकतांत्रिक) अधिकारों और मूल्यों को कुचलने में जान-बूझकर भागीदार बनी है जिनके लिए हमारे नेताओं ने अपनी जानें कुर्बान कर दी थीं।’

पहले की शिकायतें हुईं नजरअंदाज

कांग्रेस पार्टी की तरफ से वेणुगोपाल ने चिट्ठी में लिखा, ‘जैसा कि आपको अच्छे से पता है कि भारत यूजर्स के लिहाज से फेसबुक और वॉट्सऐप के लिए सबसे बड़ा बाजार है। इसलिए, हमारे जैसे देशों में फेसबुक से सामाजिक और नैतिक जवाबदेही की उम्मीद और ज्यादा हो जाती है।’ कांग्रेस ने फेसबुक पर उनकी पहली की शिकायतों को बार-बार अनदेखा करने का भी आरोप लगाया। चिट्ठी में कहा गया है कि फेसबुक और वॉट्सऐप के कई अधिकारियों से पहले भी इस तरह की शिकातयतें की गईं लेकिन उन्हें नजरअंदाज कर दिया गया।

कांग्रेस के दो मांगें
चिट्ठी में कहा गया है कि अब भी बहुत देर नहीं हुई है और गलतियों को अब भी सुधारा जा सकता है। चिट्ठी में कहा गया है कि फेसबुक इंडिया की कार्यप्रणाली का निष्पक्षता से जांच की जाए। कांग्रेस ने अपनी चिट्ठी में फेसबुक को दो सुझाव भी दिए। पार्टी ने कहा कि फेसबुक को तुरंत एक उच्चस्तरीय जांच समिति बनाकर फेसबुक इंडिया की लीडरशिप टीम से पूछताछ करवानी चाहिए। वहीं, 2014 से नफरत वाले उन सभी पोस्ट की जानकारी दी जानी चाहिए जिन्हें फेसबुक इंडिया ने अपने प्लैटफॉर्म पर पब्लिश करने की अनुमति दी।

अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के बाद भारत में सियासी तूफान लाजिमी था. इस रिपोर्ट में अखबार ने दावा किया कि फेसबुक ने भारत में बीजेपी नेताओं को लेकर अपने हेट स्पीच नियमों की अनदेखी की.अखबार की जांच ने सत्तारूढ़ बीजेपी और फेसबुक के बीच संबंधों पर सवाल उठाए हैं. साथ ही इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की टॉप एग्जीक्यूटिव अंखी दास की भूमिका को आरोपों के कटघरे में खड़ा किया है.वॉल स्ट्रीट जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत, दक्षिण और मध्य एशिया के लिए फेसबुक की पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास ने कर्मचारियों से कहा कि हेट स्पीच को लेकर बीजेपी नेताओं के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई शुरू करने से कंपनी की भारत में “व्यापार संभावनाओं” को नुकसान होगा.अब भारत में फेसबुक के ऑपरेशन्स की स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच संबंधी विपक्ष की मांग के साथ कांग्रेस और बीजेपी के बीच जुबानी जंग शुरू हो चुकी है.जहां बीजेपी ने सोशल मीडिया दिग्गज पर राष्ट्रवादी आवाज़ों को सेंसर करने का आरोप लगाया, वहीं विपक्षी कांग्रेस ने वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट को आधार बना कर निशाना साधा कि फेसबुक की कटेंट पॉलिसी सत्ताधारी पार्टी का पक्ष लेती हैं.

फेसबुक विवाद है क्या?

1. शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय दैनिक अखबार, वॉल स्ट्रीट जर्नल में एक रिपोर्ट में आरोप लगाया गया कि फेसबुक भारत में अपने कामकाज में पक्षपाती था. क्योंकि उसने अपनी हेट स्पीच संबंधी नीति को नजरअंदाज किया और अपने प्लेटफॉर्म से मुस्लिम विरोधी पोस्ट्स को इजाजत दी. रिपोर्ट में आगे कहा गया कि कंपनी ने भारत सरकार के साथ अपने संबंधों को खराब होने से बचाने के लिए ऐसा किया.

2. रिपोर्ट के लेखकों ने तेलंगाना के बीजेपी सांसद टी राजा सिंह और उनके रोहिंग्या मुस्लिम प्रवासियों के बारे में दिए बयान का हवाला दिया. रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत में फेसबुक की शीर्ष एग्जीक्यूटिव अंखी दास ने सत्तारूढ़ बीजेपी के सदस्यों पर हेट स्पीच नियमों को लागू करने का विरोध किया. हालांकि राजा सिंह का दावा है कि जब ये विवादास्पद पोस्ट अपलोड हुई तब उनका फेसबुक अकाउंट हैक कर लिया गया था.

3. वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट पर मुहर लगाते हुए, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस पर चुनावी माहौल को प्रभावित करने के लिए फेसबुक और वाट्सऐप का उपयोग करके “फेक न्यूज” फैलाने का आरोप लगाया. गांधी ने कहा, “बीजेपी और आरएसएस भारत में फेसबुक और वाट्सऐप को नियंत्रित करते हैं. इस माध्यम से ये झूठी खबरें और नफरत फैलाकर वोटरों को फुसलाते हैं. आखिरकार, अमेरिकी मीडिया ने फेसबुक का सच सामने लाया है.

4. बीजेपी की ओर से केंद्रीय आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद न तीखा पलटवार किया. उन्होंने विपक्षी पार्टी (कांग्रेस) को कैम्ब्रिज एनालिटिका मुद्दे की याद दिलाई. प्रसाद ने एक ट्वीट में लिखा- “हारे हुए लोग जो अपनी ही पार्टी में भी लोगों को प्रभावित नहीं कर सकते, वे इस बात का हवाला देते रहते हैं कि पूरी दुनिया बीजेपी और आरएसएस की ओर से नियंत्रित है. आप चुनावों से पहले डेटा को हथियार बनाने के लिए कैम्ब्रिज एनालिटिका और फेसबुक के साथ गठबंधन में रंगे हाथ पकड़े गए थे और अब हमसे सवाल पूछ रहे हैं.”

5. कांग्रेस ने वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में लगाए गए आरोपों की संयुक्त संसदीय समिति (JPC) से जांच कराने की मांग की है. साथ ही कहा है कि ये भारतीय लोकतंत्र की नींव को खतरे में डालने वाला है और इसकी जांच की जरूरत है.

6. मुद्दे के तूल पकड़ते ही फेसबुक ने एक बयान जारी किया – “हम हेट स्पीच और हिंसा को उकसाने वाले कंटेंट को प्रतिबंधित करते हैं. हम इससे संबंधित नीतियों को किसी की राजनीतिक स्थिति या पार्टी से संबद्धता की परवाह किए बिना विश्व स्तर पर लागू करते हैं. जबकि हम जानते हैं कि और भी बहुत कुछ किया जाना है, हम प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) को लेकर आगे बढ़ रहे हैं. फेसबुक प्रवक्ता ने कहा कि हम निष्पक्षता और सटीकता सुनिश्चित करने के लिए अपनी प्रक्रिया का नियमित ऑडिट करते हैं.

7. सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति के प्रमुख कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि समिति ऐसी रिपोर्ट के बारे में निश्चित रूप से फेसबुक को सुनना चाहेगी और जानना चाहेगी कि वो भारत में हेट स्पीच से निपटने को लेकर क्या करना चाहते हैं.

8. ये विवाद सुर्खियों में आने के बाद, फेसबुक इंडिया की वरिष्ठ एग्जीक्यूटिव अंखी दास ने दिल्ली पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज कराई, जिसमें आरोप लगाया गया कि उन्हें ‘अपने जीवन के लिए हिंसक धमकियां’ मिल रही हैं. दिल्ली पुलिस की CyPad यूनिट ने केस दर्ज किया है.

9. इस बीच, 31 सदस्यीय आईटी स्टैंडिंग कमेटी के एनडीए सदस्यों ने कमेटी के चेयरमैन पद से शशि थरूर को हटाने की मांग की है. उनका दावा है कि थरूर ने नियमों और प्रक्रियाओं का उल्लंघन करके कांग्रेस के एजेंडे को आगे किया है. झारखंड से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने इंडिया टुडे टीवी से कहा, स्टैंडिंग कमेटी के नियम कहते हैं कि एजेंडा समिति के सदस्यों के परामर्श करके तय किया जाना चाहिए और निर्धारित प्रक्रिया के तहत अधिसूचित किया जाना चाहिए. क्योंकि ऐसा नहीं किया गया है इसलिए ये नियमों का सीधा उल्लंघन है.

10. शांति और सद्भाव पर दिल्ली विधानसभा के एक पैनल ने सोमवार को यह भी कहा कि वह फेसबुक के अधिकारियों को इन शिकायतों को लेकर समन करेगा कि भारत में हेट स्पीच पर अंकुश लगाने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने कथित तौर पर “जानबूझ कर और इरादतन निष्क्रियता बरती.”कांग्रेस इस मुद्दे को संसद का मानसूत्र सत्र शुरू होने पर जोरशोर से उठा सकती है. ये सत्र सितंबर में बुलाए जाने की संभावना है.हालांकि, बीजेपी और सरकार ने यह कहते हुए संसदीय जांच की मांग को खारिज कर दिया कि यह कांग्रेस है जिसे इस बात पर सफाई देने की जरूरत है कि फेसबुक के प्रबंधन में कैसे इसके व्यक्तियों ने अहम पद संभाले.संसद के सत्र में कोविड-19 महामारी और लद्दाख में चीन की आक्रामकता से निपटने के सरकार के तरीकों की भी गूंज सुनाई देने की संभावना है. ऐसा होता है तो संसद के सत्र पर असर पड़ना तय है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *