Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

राफेल को कांग्रेस ने बताया PM मोदी की ‘पर्सनल डील’

Rahul Gandhi come back

Rahul Gandhi come back

राफेल विमान सौदे को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है. पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के सवाल उठाने के बाद अब राफेल के सहारे मोदी सरकार के खिलाफ माहौल बनाने के लिए कांग्रेस पूरी तरह से मैदान में उतर चुकी है. कांग्रेस ने राफेल डील को मोदी की ‘पर्सनल डील’ नाम दिया है. कांग्रेस ने पत्र जारी कर कहा है कि मोदी जी पर्सनली पेरिस गए, खुद राफेल डील की और पर्सनली डील बदली. कांग्रेस ने पीएम मोदी से राफेल पर 10 सवालों की सूची जारी की है. देश भर में कांग्रेसी जनता के बीच जाकर राफेल डील का प्रचार प्रसार करेंगे.

राहुल गांधी ने उठाया था सवाल

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलावर को पीएम मोदी पर घपले तक का आरोप लगाया था. राहुल ने कहा कि मोदी जी खुद ये समझौता करने पेरिस गए थे, आखिर देश को क्यों नहीं बताया जा रहा है कि डील कितने में हुई. राहुल गांधी ने कहा, ‘राफेल डील पर आप क्यों नहीं बोलते हो? आज तक ऐसा हुआ है कि रक्षा मंत्री कहे राफेल कितने में खरीदा गया है, ये नहीं बताएंगे. देश को नहीं बताएंगे, मोदी जी ने घपला किया है, मुझे पता है आप लोग डरते हैं.’

1. क्या ऐसा गोपनीय है रक्षा मंत्री जी कि राफेल सौदे को छुपाया जा रहा है ?

2. क्या संसद देश की सुरक्षा के लिए खतरा है? CCS से क्या अनुमति ली गई इस सौदे के लिए?

3. आरोप है कि एक प्लेन की कीमत 1555 करोड़ रुपये हैं, जबकि कांग्रेस 428 करोड़ में रुपये में खरीद रही थी ?

4. अमेरिका के सबसे आधुनिक युद्ध विमान की कीमत भी 1500 करोड़ रुपये नहीं है तो फिर ये विमान इतने महंगे क्यों खरीदे गए?

 5. इस सौदे में टेक्नोलॉजी ट्रांसफर क्यों नहीं हो रहा है?

6. कॉमेडी, रक्षा सौदे पर सवाल पूछना देशद्रोह है.आप तो आज भी बोफोर्स पर आरोप लगाते हैं और प्रश्न करते हैं?

7. सेना ने राफेल सौदे पर प्रेस कांफ्रेंस क्यों की ? क्या सेना CAG है?

8. विदेश से प्रधानमंत्री ने क्यों इस रक्षा सौदे की घोषणा की? आजतक आजाद भारत के किसी PM ने ये काम नही किया.

9. इस सौदे से सरकारी HAL को हटा कर अंबानी को क्यों डाला जा रहा है? 25000 करोड़ रुपये का घाटा है HAL को ?

10. जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी यानी JPC को क्यों नहीं सौप देते जांच.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *