Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

टीवी डिबेट के बाद कांग्रेस प्रवक्‍ता राजीव त्‍यागी का निधन

rajeev tiyagiनई दिल्‍ली भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्‍ता राजीव त्‍यागी का निधन हो गया है। बुधवार शाम एक टीवी डिबेट में हिस्‍सा लेने के बाद उन्‍हें कार्डियक अरेस्ट आया। रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्‍हें तबीयत बिगड़ने पर गाजियाबाद के एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। कुछ ही देर बाद उनका निधन हो गया। कांग्रेस के सचिव (संचार) डॉ विनीत पूनिया ने उनके निधन की जानकारी दी। सूचना पाकर पर बीजेपी के प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने भी शोक प्रकट किया है।

शाम को किया था आखिरी ट्वीट
त्‍यागी ने बुधवार शाम करीब पौने चार बजे अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया था। निधन की जानकारी देते हुए डॉ पूनिया ने ट्वीट किया, “भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता और वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री राजीव त्यागी जी नहीं रहे। उनके परिवारजनों और प्रशंसकों को मेरी हार्दिक संवेदना।” बीजेपी नेता संबित पात्रा ने लिखा कि “विश्वास नहीं हो रहा है कंग्रेस के प्रवक्ता मेरे मित्र श्री राजीव त्‍यागी हमारे साथ नहीं है। आज 5 बजे हम दोनो ने साथ में डिबेट भी किया था। जीवन बहुत ही अनिश्चित है …अभी भी शब्द नहीं मिल रहे। हे गोविंद राजीव जी को अपने श्री चरणो में स्थान देना।”

2006 में बने थे कांग्रेसी
लोकदल से अपने राजनीतिक पारी की शुरुआत करने वाले 50 वर्षीय त्यागी 2006 में पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल हुए। तब से वह विभिन्न भूमिकाओं में थे। कुछ साल पहले उन्हें पार्टी ने राष्ट्रीय प्रवक्ता की ज़िम्मेदारी सौंपी। फिलहाल वह यूपी कांग्रेस में महासचिव व प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी की ज़िम्मेदारी भी देख रहे थे।

कांग्रेस ने निधन पर जताया शोक
कांग्रेस ने अपने राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वह खांटी कांग्रेसी और सच्‍चे देशभक्‍त थे। पार्टी ने त्‍यागी के परिवार और दोस्‍तों के प्रति संवेदना प्रकट की है।राजीव त्‍यागी को टीवी जगत में खुलकर अपनी बात रखने के लिए जाना जाता था। बीजेपी के संबित पात्रा के साथ उनकी कई बहसें बेहद तीखी नोंक-झोंक में बदल जाती थीं। वह तथ्‍यपरक बातें रखने के साथ-साथ अनूठे अंदाज में कांग्रेस का पक्ष रखने के लिए भी मशहूर थे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *