Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

14 राज्यों में इस्लाम के नाम पर धर्मांतरण का धंधा, दो मौलाना गिरफ्तार

hindu molanaनई दिल्ली: उत्तर प्रदेश (यूपी) में धर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार हुए दोनों आरोपी मौलानाओं को रिमांड पर लेकर एटीएस की टीम ने फिर पूछताछ शुरू कर दी है. इस मामले में रोज नए खुलासे और सबूत सामने आ रहे है. यूपी के धर्मांतरण पर एडीजी ने बड़ा बयान दिया है. उनके मुताबिक 14 राज्यों यानी आधे हिन्दुस्तान में धर्म परिवर्तन का धंधा चल रहा था. जिसमें सबसे ज्यादा महिलाओं को निशाना बनाया जा रहा था. उत्तर प्रदेश में हिंदू धर्मांतरण की साजिश का बड़ा खुलासा हुआ है.  यूपी पुलिस का ही कहना है कि आधे हिन्दुस्तान में धर्मांतरण का धंधा चल रहा है. 21 जून को यूपी ATS ने दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया. मौलानाओं से पूछताछ में धर्मांतरण पर खुलासा हुआ. इसी के बाद यूपी के एडीजी प्रशांत कुमार ने बयान दिया.

कहां-कहां से धर्मांतरण के लिए फंडिंग?उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार से ज़ी मीडिया ने धर्मांतरण को लेकर बातचीत की. जानकारी के मुताबिक धर्मांतरण के लिए ना सिर्फ विदेशों से पैसा आता था, बल्कि देश के 14 राज्यों में सक्रिय तौर पर धर्मांतरण का काम चल रहा था. खास बात ये है कि धर्म परिवर्तन कराने में महिलाओं को ज्यादातर टारगेट किया गया है.इन मौलानाओं पर 1000 से ज्यादा हिंदुओं को मुसलमान बनाने का आरोप है. हिंदुओं के धर्मांतरण के तार विदेशों से जुड़े होने की भी बात सामने आ रही है.

विदेशी चंदा, धर्मांतरण का ‘धंधा’

अमेरिका
कतर
कुवैत
इंग्लैंड
अफ्रीका

धर्मांतरण पर यूपी पुलिस का बड़ा खुलासा

पूछताछ में मूक-बधिरों के धर्म परिवर्तन का पता चला है. उमर ने 1000 से अधिक लोगों को धर्मांतरित करने की बात कबूली. धर्मांतरण में बड़ी संख्या में युवा महिलाएं भी शामिल थीं. कई देशों से धर्मांतरण के लिए फंडिंग का संदेह है. नोएडा डेफ सोसायटी के 12-15 मूक-बधिर को लेकर शक था. युवकों को लालच देकर धर्मांतरण कराने का शक था. ग्लोबल पीस सेंटर, दिल्ली के साथ उमर गौतम के घनिष्ठ संबंध है.

मौलाना उमर गौतम का कबूलनामा

hindu converting muslimधर्मांतरण मामले में गिरफ्तार किए मौलाना उमर गौतम का कबूलनामा के बारे में बताते हैं. किस तरह से वो लोगों के बीच धर्मांतरण को लेकर अपनी ओर से की गई कोशिशों की तारीफ कर रहा है और सभी को इसके लिए उकसा रहा है. उसने क्या-क्या कहा नीचे पढ़िए..’मैंने कभी तसब्बुर नहीं किया था, लेकिन उस यूनिवर्सिटी में अल्लाह ने ये तौफीक दी फिर मैंने अपने दोस्तों को दावत दी और उसी यूनिवर्सिटी में 7 लोगों ने इस्लाम की गवाही दी. उनमें से हमारा एक दोस्त था, गोरखपुर का रहने वाला, यादव घराने का. उसने कहा कि जब गौतम साहब उमर साहब हो गए हैं. तो मैं भी इस्लाम ले आता हूं. उसको इतनी मोहब्बत थी, उसका नाम मैंने मो. उस्मान रखा. वो दिन है और आज का दिन है, मैंने इरादा किया कि दीन के पैगाम को वहां तक पहुंचाना है जहां तक अल्लाह की तौफीक हासिल होगी. मैंने और मेरे घरवालों ने जो सोचा नहीं था, अल्लाह ने वहां तक पहुंचा दिया. 18 बार इंग्लैंड जाना हुआ, 4 बार अमेरिका जाना हुआ. और अफ्रीका और दूसरे देशों में जाना हुआ. मैंने उसका तसब्बुर नहीं किया था. जहां भी गया, दीन की दावत के साथ गया, दीन के पैगाम के साथ गया. अल्लाह का फज़्ल है कि मैं आपके सामने खड़ा हूं. मैं अल्लाह का जितना शुक्रिया अदा करूं, कम है. मैं अपने इतिहास में जाउंगा तो 2 घंटे का वक्त लगेगा, उसमें मैं जाना नहीं चाहता. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि ये काम हम सब का मिला-जुला काम है. जैसा कि मौलाना ने कहा- ये हम सभी की कोशिश है, जिसे सभी को मिलकर करना है.’

धर्म परिवर्तन के कई सबूत मौजूद हैं.

कैसे…
देवऋषि ठाकुर बन गया दानिश खान
शीला यादव बन गई आफरीन
तारवीन कुमार बन गया अब्दुल समद उमर
कविता विश्वकर्मा बन गई गजाला
मनोज कुमार दवे बन गया इब्राहिम खान
नरेंद्र बन गया मोहम्मद शाहिद

देश में धर्मांतरण केंद्र

सूत्रों का कहना है कि देश भर में 60 से अधिक केंद्र हैं. जिनके यूपी, दिल्ली, हरियाणा में नेटवर्क मौजूद हैं. राजस्थान और महाराष्ट्र में भी इस रैकेट का जाल है. साइलेंट जेहाद के नाम से धर्मांतरण होता है.बीते दिनों यूपी में धर्मांतरण कराने का मामला सामने आया. जिस पर यूपी एटीएस ने कुछ लोगों की गिरफ्तारी की. उत्तर प्रदेश पुलिस ने ये खुलासा किया है कि किस तरह उत्तर प्रदेश में जबरदस्ती हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है. दो दिन पहले ही यूपी ATS ने दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया था.मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी ये धर्म के धंधेबाज विदेशी फंडिंग और आईएसआई फंडिंग की मदद से पिछले एक साल में 350 लोगों का धर्मांतरण कर चुके हैं, अब तक कुल 1000 लोगों का धर्मांतरण का आरोप इनपर है. यूपी ATS को पूछताछ में पता चला है कि जबरन धर्मपरिवर्तन के तार सीमा पार से जुड़े हैं.

मौलाना उमर गौतम का कबूलनामा

धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार किए मौलाना उमर गौतम का कबूलनामा के बारे में बताते हैं. किस तरह से वो लोगों के बीच धर्मांतरण को लेकर अपनी ओर से की गई कोशिशों की तारीफ कर रहा है और सभी को इसके लिए उकसा रहा है. उसने क्या-क्या कहा नीचे पढ़िए..

‘मैंने कभी तसब्बुर नहीं किया था, लेकिन उस यूनिवर्सिटी में अल्लाह ने ये तौफीक दी फिर मैंने अपने दोस्तों को दावत दी और उसी यूनिवर्सिटी में 7 लोगों ने इस्लाम की गवाही दी. उनमें से हमारा एक दोस्त था, गोरखपुर का रहने वाला, यादव घराने का. उसने कहा कि जब गौतम साहब उमर साहब हो गए हैं. तो मैं भी इस्लाम ले आता हूं. उसको इतनी मोहब्बत थी, उसका नाम मैंने मो. उस्मान रखा. वो दिन है और आज का दिन है, मैंने इरादा किया कि दीन के पैगाम को वहां तक पहुंचाना है जहां तक अल्लाह की तौफीक हासिल होगी. मैंने और मेरे घरवालों ने जो सोचा नहीं था, अल्लाह ने वहां तक पहुंचा दिया. 18 बार इंग्लैंड जाना हुआ, 4 बार अमेरिका जाना हुआ. और अफ्रीका और दूसरे देशों में जाना हुआ. मैंने उसका तसब्बुर नहीं किया था. जहां भी गया, दीन की दावत के साथ गया, दीन के पैगाम के साथ गया. अल्लाह का फज़्ल है कि मैं आपके सामने खड़ा हूं. मैं अल्लाह का जितना शुक्रिया अदा करूं, कम है. मैं अपने इतिहास में जाउंगा तो 2 घंटे का वक्त लगेगा, उसमें मैं जाना नहीं चाहता. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि ये काम हम सब का मिला-जुला काम है. जैसा कि मौलाना ने कहा- ये हम सभी की कोशिश है, जिसे सभी को मिलकर करना है.’

 

कैसे आदित्य का उठाया फायदा?

कानपुर का आदित्य गुप्ता इंटर पास है, पढ़ने में तेज है मूकबधिर है. जब वो 9वीं क्लास में था तो उसे एक लड़की से मोहब्बत हों गई थी. जिसको लेकर लड़की के घरवालों ने उसके शिकायत स्कूल टीचर की जिसके बाद टीचर ने उसे बहुत मारा स्कूल से भगा दिया.इसके बाद से वो गुमसुम रहने लगा था, आदित्य के परिवार की माली स्थिति ठीक नहीं थी. स्कूल में काफी पैसे वालो के घर के बच्चे भी पढ़ते थे, जिसको लेकर आदित्य काफी डिप्रेशन में रहने लगा था. जिसका फायदा स्कूल में पढ़ाने वाले वासीक ने उठाया और उसको इस्लाम के बारे में बताने लगा.फिर आदित्य का संपर्क वसिक ने वीडियो कॉल के माध्यम से मुन्नू गगन और मुहम्मद उमर से कराई उमर आदित्य को टेलीग्राम पर वीडियो भेजा करता था. जिसमें मूर्ति पूजा हवन और हिंदू धर्म के बारे में अनाप-शनाप बातें बताई जाती हैं.

इस्लाम कबूल कराने का पूरा प्लान

वीडियो में कहा जाता था कि इस्लाम ही सब कुछ है और ऐसे ही तमाम वीडियो उसको टेलीग्राम के माध्यम से भेजेंगे उसके अकाउंट में किसी ने 2000 रूपये भी भेजे थे. जिसके बाद वह 10 मार्च को घर से निकल गया और वह केरल चला गया.वहां पर उसने उमर गौतम को 7000 रूपये दिए उमर गौतम ने कहा था कि ‘तुम केरला जाओ तुम्हारी अच्छी नौकरी लगवा देंगे. तुमको पैसा कमा देंगे और तुम्हारी अच्छी लड़की से शादी करा देंगे. यूपी में रहोगे तो और परिवार में रहोगे, तुम्हारा कुछ नहीं होगा.’ आदित्य केरल पहुंचा तो उसको मजदूरी कराई गई. वहां पर उसे इस्लाम धर्म के बारे में बताया गया और उसका धर्मांतरण कराया गया आदित्य ने बताया कि उसका खतना भी कराया गया और उसका नाम आदित्य से अब्दुल कादिर भी रख दिया गया. बकायदा उसको एक धर्मांतरण का सर्टिफिकेट भी दिया गया है.

उमर का पाकिस्तान कनेक्शन

उमर ने आदित्य को कहा भी था कि इस सर्टिफिकेट को रखो और कभी भी तुम्हें कोई परेशान करे तो तुम बताना हम तुम्हारी मदद करेंगे. आदित्य ने यह भी बताया कि उमर का कनेक्शन पाकिस्तान से भी है. उमर और जहांगीर जब गिरफ्तार हुए उसके बाद आदित्य उर्फ कादिर लौटकर वापस कानपुर अपने घर चला आया, क्योंकि उसे लगा कि उमर अब तो जेल चला गया है.अब उसे बचाने वाला कोई नहीं है, यहां (यूपी) भी आकर आदित्य नमाज पढ़ता था. बड़ी-बड़ी दाढ़ी रखता था, ब्रेन वाश उसका इस तरह से किया गया था कि वो  किसी को कुछ बता नहीं रहा था, उसने मोबाइल पर से वीडियो भी कुछ डिलीट कर दिए थे.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »