Pages Navigation Menu

Breaking News

 आत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक बढ़ी

कोरोना के साथ आर्थिक लड़ाई भी जीतनी है ; नितिन गडकरी

ज़ी न्यूज़ के 29 मीडियाकर्मी कोरोना पॉजिटिव

sudher chowdaeryमीडिया कंपनी जी न्यूज का नोएडा में स्थित दफ्तर भी कोरोना वायरस की चपेट में आ चुका है। यहां कोरोना के कई मामले सामने आए हैं। जिसके बाद पूरी बिल्डिंग को खाली करा दिया गया है। कंपनी की तरफ से जारी एक बयान में बताया गया है कि सभी जरूरी एहतियात बरती जा रही हैं। फिलहाल पूरा सेटअप कंपनी की दूसरी बिल्डिंग में किया गया है। जी न्यूज की तरफ से बताया गया कि, सबसे पहले शुक्रवार को कंपनी के एक कर्मचारी का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव निकला। जिसके बाद वहां काम करने वाले सभी लोगों की टेस्टिंग शुरू की गई। देखा गया कि कौन-कौन लोग कोरोना पॉजिटिव शख्स के संपर्क में आए हैं। इस टेस्टिंग के बाद कुल 29 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

इनमें से ज्यादातर लोगों में कोई भी लक्षण नहीं पाए गए थे। इसके अलावा किसी को कोई भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या नहीं थी। कंपनी ने कहा है कि समय रहते टेस्टिंग करने से ऐसा हुआ हैं। अब स्वास्थ्य अधिकारियों की देखरेख और zee_news_logoउनकी सलाह लेते हुए भी कदम उठाए जा रहे हैं।इतनी संख्या में कोरोना पॉजिटिव कर्मचारियों के मिलने के बाद जी न्यूज ने अपना स्टूडियो और पूरा न्यूजरूम सील कर दिया. फिलहाल पूरे ऑफिस का सैनिटाइजेशन किया जा रहा है. जब तक पूरा सैनिटाइजेशन नहीं हो जाता है, तब तक बाकी के कर्मचारी दूसरे ऑफिस से काम करेंगे.कंपनी की तरफ से ये भी बताया गया है कि टेस्टिंग लगातार जारी है. बाकी के सभी कर्मचारियों को भी टेस्ट किया जा रहा है. जी मीडिया कॉर्पोरेशन लिमिटेड में 2500 कर्मचारी काम करते हैं. कंपनी ने इसे एक चुनौती भरा वक्त बताया है और अपने कर्मचारियों के जल्द ठीक होने की कामना की है.

#ZeeWarriors: Zee के कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए, लेकिन हम हालात से डरने वाले नहीं,ज़ी न्यूज़ के सुधीर चौधरी ने कुछ इस तरह दी जानकारी

आज हम आपके साथ एक अशुभ और दुखभरी खबर शेयर करना चाहते हैं. समाचार ये है कि अब तक Zee News की टीम के 29 सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. कोरोना वायरस के दौर में मीडिया को जरूरी सेवाओं में रखा गया है और इस दौरान काम करना ऐसा ही है, जैसे आप युद्ध के मोर्चे पर काम कर रहे हों. शुक्रवार को हमने आपको ज़ी न्यूज़ की टीम के उस सदस्य के बारे में बताया था जिसका टेस्‍ट पॉजिटिव आया था. आज हमारे 28 साथी भी संक्रमित हो गए हैं. ज़ी मीडिया में करीब 2500 लोग काम करते हैं. यानी कुल मिलाकर हमारी टीम के 29 लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं.

ज़ी न्यूज़ मीडिया इंडस्ट्री का सबसे बड़ा नियोक्‍ता है और हमारे लिए एक कर्मचारी की जान बहुत कीमती है. आज हमारे 28 साथियों का कोरोना पॉजिटिव होना हमारे लिए भी बहुत दुख का विषय है इसलिए आप इन सब लोगों के लिए दुआ कीजिए. ये ज़ी न्यूज़ के वो सदस्य हैं जिनके पास देश के करोड़ों लोगों की तरह लॉकडाउन में रहने का विकल्प था. ये लोग भी चाहते तो दिन भर टीवी देखते, सोशल मीडिया पर टाइम पास करते या अपने वीडियोज बनाते, Whats App पर तरह तरह के जोक शेयर करते. लेकिन ये सब लोग अपने काम को बहुत गंभीरता से लेने वाले लोग हैं और इन्हें अपने कर्तव्य का पूरा एहसास है.

इन सब लोगों ने 180 देशों में मौजूद ज़ी न्यूज़ के करोड़ों दर्शकों के प्रति अपना कर्तव्य निभाया. हमें पता था कि एक ना एक दिन ये संक्रमण हमारे बीच भी पहुंच जाएगा. हम आज भी जानते हैं कि अभी ये संक्रमण 28 लोगों को हुआ और आगे चलकर और भी लोगों को हो सकता है. लेकिन ये जानते हुए भी हमारी टीम का हर एक सदस्य पूरी ईमानदारी से आपके प्रति अपना कर्तव्य निभा रहा है. ठीक वैसे ही जैसे संक्रमण का शिकार होने के बावजूद डॉक्टर, हेल्थ वर्कर्स, पैरा मिलिट्री फोर्स के सदस्य और पुलिस कर्मी अपना फर्ज़ निभा रहे हैं.अपनी जान से ऊपर अपने कर्तव्य को रखना बहुत मुश्किल विकल्प होता है. लेकिन हमारी टीम का एक एक सदस्य इसी विकल्प को आखिरी विकल्प मानता है.

शुक्रवार को भी हम आपको बता रहे थे कि इस दौर में मीडिया सबसे खतरनाक पेशा बन गया है . इस दौर में पत्रकार या तो कोरोना का शिकार हो रहे हैं. अगर कोरोना से बच गए तो FIR दर्ज हो जाती है और अगर FIR से बच जाएं तो धमकियां मिलने लगती है . हमारी टीम इन तीनों से लगातार संघर्ष कर रही है लेकिन हमारी टीम के ये सभी सदस्य Zee Warriors हैं और हम किसी भी हालात से डरने वाले नहीं है . हमने ये खतरा आपके लिए मोल लिया इसलिए हमें आपका साथ चाहिए आप हमारे साथ रहिए और हमारी टीम के लिए दुआ कीजिए.

इन सारी कुर्बानियों के बावजूद देश का टुकड़े टुकड़े गैंग हमारे खिलाफ दुष्प्रचार कर रहा है और सोशल मीडिया पर वैचारिक पत्थरबाजी कर रहा है . जिस तरह कश्मीर में सेना पर पत्थरबाज़ी होती है और पत्थरबाजों के समर्थक देश में डॉक्टर्स और हेल्थ वर्कर्स पर पत्थर फेंकते हैं ठीक वैसे ही Zee Warriors के खिलाफ सोशल मीडिया पर पत्थरबाज़ी की जा रही है.Zee News की टीम हमेशा सच्ची रिपोर्टिंग करती है और ये पत्थरबाज़ी इसी सच्ची रिपोर्टिंग का ईनाम है .लेकिन हम इन पत्थरबाज़ों को साफ कर देना चाहते हैं कि हम किसी भी स्थिति से डरने वाले नहीं है . हम अपनी टीम के सदस्यों का ख्याल रखना भी जानते हैं और ऐसे पत्थरबाजों को जवाब देना भी जानते हैं .

किसी दूसरे की हार में अपनी जीत देखना और किसी दूसरे के दुख में अपनी खुशी देखना ये इन लोगों की खास बात है . हमारे जो 29 लोग संक्रमित हुए हैं उनके बारे में जानकर भी ये लोग खुशी मना रहे हैं और उस पर राजनीति कर रहे हैं .इन लोगों ने सोशल मीडिया पर Zee Warriors को शुभकामनाएं नहीं दी उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना नहीं की बल्कि ये सवाल पूछने लगे कि ज़ी न्यूज़ का ऑफिस कब सील होगा? इन्हें सबसे ज्यादा चिंता इस बात की है कि हमारा सिस्टम काम करना कब बंद करेगा, हमारा ऑफिस कब बंद होगा. ऐसे लोगों की तसल्ली के लिए हम बताते हैं कि Zee News का Hesdquarter सील हो चुका है और हम वैकल्पिक व्यवस्था के तहत ये प्रसारण कर रहे हैं . हम इन लोगों को ये भी बता देना चाहते हैं कि इस संकट के बावजूद ज़ी न्यूज़ की टीम के हर एक सदस्य का जज्बा बहुत ऊंचा है और हम दोगुने जोश के साथ खबरों का प्रसारण कर रहे हैं.

हमारे लिए राहत की खबर ये ही कि हमारी टीम के जो सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं उनमें से ज्यादातर Asymptomaticहैं . यानी इनमें कोरोना के लक्षण नहीं हैं. ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि हमने बिना समय गवाएं इन लोगों के Test कराए और ज़ी न्यूज़ की टीम के बाकी सदस्यों के Test की प्रक्रिया भी जल्द पूरी कर ली जाएगी.ICMR भी अब उन लोगों की टेस्टिंग करने की इजाजत दे रहा है जो Asymptomatic हैं . इसलिए हो सकता है कि आने वाले दिनों में Zee News में भी पॉजिटिव लोगों की संख्या बढ़ जाए . हम भी मानते हैं कि संक्रमित लोगों की पहचान करके..उन्हें दूसरों से अलग करना ही इस वायरस से बचने का सबसे अच्छा तरीका है और हम आगे भी ऐसा करते रहेंगे .

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *