Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

चीन में 4 गुना ज्यादा थी कोरोना मामलों की संख्या …..स्टडी में खुलासा

chinaपेइचिंग चीन में फरवरी तक कोरोना वायरस की पहली वेव के कारण 2,32,000 लोग इन्फेक्शन का शिकार बने थे। ऐसा हॉन्ग-कॉन्ग के रीसर्चर्स की एक स्टडी में सामने आया है। गौर करने वाली बात है कि ये आंकड़ा असल संख्या से 4 गुना ज्यादा है। चीन में फरवरी तक 55,000 केस थे लेकिन यह संख्या और होती अगर COVID-19 की नई डेफिनेशन इस्तेमाल की गई होती। बता दें कि चीन में 83,000 केस रिपोर्ट किए गए हैं। पूरी दुनिया में 1,83,000 लोगों की मौत कोरोना के कारण हो चुकी है।

 7 बार बदली गई डेफिनेशन
अंग्रेजी अखबार द गार्जियन के मुताबिक चीन के नैशनल हेल्थ कमिशन ने 15 जनवरी से लेकर 3 मार्च COVID-19 की डेफिनेशन के 7 वर्जन जारी किए। ताजा स्टडी में पता चला है कि इन बदलावों की वजह से इस बात पर असर पड़ा है कि कितने केस दर्ज किए गए हैं। हॉन्ग-केस की स्टडी में 20 फरवरी तक लिए गए डेटा का अनैलेसिस किया गया था। इसमें ऐसा अनुमान लदाया गया कि पहले चार वर्जन से डिटेक्ट किए गए केसों में 2.8 से लेकर 7.1 गुना बढ़ोतरी हुई होगी।

कम लक्षणों और वुहान कनेक्शन का असर
स्टडी के मुताबिक, ‘अगर पांचवां वर्जन शुरुआत से लागू किया गया होता और टेस्टिंग कपैसिटी बढ़ाई गई होती तो फरवरी तक 2,32,000 केस डिटेक्ट किए गए होते जबकि 55,508 की दर्ज किए गए।’ जैसे-जैसे इसके बारे में जानकारी बढ़ी और लैब की क्षमता बढ़ी, पुष्ट केसों की डेफिनेशन भी व्यापक होती गई। इसमें कम लक्षC और वुहान से कनेक्शन नहीं होना शामिल रहा। रिपोर्ट के मुताबिक ये बदलावों को महामारी के बढ़ने के ट्रेंड को समझने के लिए देखना चाहिए।

चीन के ऊपर लगते रहे हैं आरोप
चीन के ऊपर दुनिया इस बात का आरोप लगाती रही है कि उसने अपने यहां महामारी के शुरुआती दौर में इसके बारे में जानकारी छिपाने की कोशिश की। उसने अपने यहां भी जानकारी की अनदेखी की और इसे रोकने के लिए देरी से कदम उठाए। बाकी दुनिया को देर से जानकारी मिली इसलिए वायरस दुनियाभर में फैल गया। इस बारे में भी जानकारी नहीं दी गई कि यह इंसानों के बीच फैल सकता है, ऐसे में दूसरे देशों ने भी अपने यहां कदम देरी से उठाए

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *