Pages Navigation Menu

Breaking News

 आत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक बढ़ी

कोरोना के साथ आर्थिक लड़ाई भी जीतनी है ; नितिन गडकरी

बरेली में झोलाछाप डॉक्टर निकला कोरोना संक्रमित

shutterstockबरेली। बरेली में एक बार फिर से कोरोना वायरस से वापसी हो गई है। जहां एक झोलाछाप डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव निकला है। ये व्यक्ति मलिन बस्ती हजियापुर का निवासी बताया जा रहा है। इस केस के सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की पत्नी डीएम आवास और जिला अस्पताल गई थी, जिसके बाद डीएम आवास को बंद कर दिया गया है और सभी कर्मचारियों की कोरोना जांच के लिए डॉक्टरों की टीम डीएम आवास पहुंची है।कोरोना पॉजिटिव झोलाछाप डॉक्टर को गंभीर हालत में एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। वहीं, उसके परिवार के सभी लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए गए हैं। सभी को क्वारंटाइन के लिए कहा गया है।बता दें कि बरेली कोरोना मुक्त शहरों में शामिल हो गया था, लेकिन इस सूचना के बाद पूरे जिले में सनसनी फैल गई। तब और ज्यादा हड़कंप मच गया जब कोरोना पॉजिटिव की पत्नी सोमवार को डीएम आवास और सीएमओ कार्यालय पहुंच गई।

सीएमओ डॉ. विनीत कुमार शुक्ला ने बताया कि दो दिन पहले मलिन बस्ती हजियापुर के 35 साल के बजीर अहमद को सांस लेने में परेशानी होने के बाद एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था और उसका कोरोना का सैंपल लेकर जांच के लिए आईवीआरआई को भेज दिया गया था। सोमवार सुबह ही आईवीआरआई  से उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।जिसके बाद उसकी पत्नी और परिवार के अन्य लोगों का सैंपल भी लेकर जांच के लिए भेज दिया गया है।साथ ही, सभी को क्वारंटाइन रहने की हिदायत दी गई है। उन्होंने बताया कि रिपोर्ट आने के बाद नगर निगम,पुलिस और प्रशासन को भी सूचना दे दी गई है वहीं,पूरे इलाके को भी सील कर दिया गया है और हजियापुर कोसैनिटाइज किया जा रहा है वहीं, इस मामले में एसीएमओ व जिला सर्विलांस ऑफिसर डॉ.रंजन गौतम का कहना है कि कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की अभी तक कोई भी ट्रैवल हिस्ट्री सामने नहीं आई है। उन्होंने बताया कि बजीर अहमद की पत्नी डीएम आवास और सीएमओ कार्यालय आई थीजानकारी होने पर उसे भी एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवा दिया गया है। बताया जा रहा है कि बजीर अहमद सांस के रोगी हैं और उन्हें डायबिटीज भी है। उसके मोहल्ले वालों से पता चला है कि वो एक झोलाछाप डॉक्टर है। हालांकि, अभी तक हम ये खुद नहीं कह सकते हैं। उसका मोबाइल नंबर भी सर्विलांस पर लगवा दिया गया है गौरतलब है कि बरेली में पूर्व में नोएडा की सीजफायर कंपनी के कर्मचारी और उसके परिवार के 6 लोगों को कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। जिसके बाद उनका जिलाअस्पताल में इलाज चला और सभी स्वस्थ्य होकर अपने घर भी चले गए। जिसके बाद बरेली को कोरोना फ्री घोषित कर दिया गया था, लेकिन अब जब एक और कोरोना का मामला सामने आया है, तो पूरे जिले में फिर से हड़कंप मच गया है। हजियापुर एक मलिन बस्ती है।जहां गरीब तबके के लोगों की संख्या अधिक है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *