Pages Navigation Menu

Breaking News

कोरोना वायरस; अच्‍छी खबर, भारत में ठीक हुए 100 मरीज

1.7 लाख करोड़ का कोरोना पैकेज, वित्त मंत्री की 15 प्रमुख घोषणाएं

भारतीय वैज्ञानिक ने तैयार की कोरोना वायरस टेस्टिंग किट

कोरोना वायरस; आर्मी के 1600 जवानों ने दी अपने रहने की जगह

indian army covid 19नई दिल्ली कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने और इसे फैलने से रोकने के लिए इंडियन आर्मी ने तीन जगहों पर क्वारंटाइन फैसिलिटी बनाई हैं। देश के लोगों को इमरजेंसी सर्विस देने के लिए इंडियन आर्मी के करीब 1600 जवानों ने अपनी रहने की जगह खाली की है। ताकि वहां पर क्वारंटाइन फैसिलिटी दी जा सके। यह आर्मी की करीब दो बटालियन के बराबर संख्या है। आर्मी ने मानेसर, जैसलमेर और जोधपुर में क्वारंटाइन फैसलिटी बनाई है। इन तीनों को मिलाकर अभी कुल क्षमता 1600 लोगों की है। उन देशों से लाए जा रहे भारतीय नागरिकों को जहां COVID-19 फैला हुआ है, इन फैसलिटी में रखा जा रहा है। कोरोना वायरस का संक्रमण 14 दिन में पता चलता है इसलिए सावधानी बरतते हुए इन लोगों को 14 दिन क्वारंटाइन फैसिलिटी में रखा जा रहा है ताकि कोई संक्रमित है तो संक्रमण और ना फैले।

सेना ने दी हैं कई सुविधाएं
14 दिन के इस स्टे को आरामदायक और यादगार बनाने के लिए इंडियन आर्मी पूरी कोशिश कर रही है। इन फैसलिटी में लिविंग एरिया है, डाइनिंग एरिया अलग बनाई गई है। एंटरटेनमेंट के लिए टीवी का इंतजाम है और 14 दिन लोगों को मुसीबत ना लगें इसलिए आउडोर और इनडोर स्पोर्ट्स का भी इंतजाम किया गया है। यहां रह रहे लोग अपने धार्मिक रिजवल्स पूरे कर सकें इसका भी ख्याल रखा गया है।ईरान से जैसलमेर की क्वारंटाइन फैसिलिटी में लाई गई एक युवती ने कहा यहां बैटमिंटन, कैरम, मैगजीन सभी चीजें हैं। यहां कश्मीरी गाने भी लगाते हैं, हम कश्मीर से हैं तो हमें यह अच्छा लगता है। वजु और नमाज पढ़ने के लिए भी पूरा इंतजाम किया गया है।

अभी तक 372 का हुआ ट्रीटमेंट

इंडियन आर्मी की मानसेर में बनी क्वारंटाइन फैसिलिटी में अभी तक कुल 372 लोगों को ट्रीट किया है अभी वहां 82 लोग हैं। जैसलमेर फैसिलिटी में 289 लोग हैं, ये वे हैं जिन्हें ईरान से लाया गया।ईरान से 195 और इंडियन सिटिजन को और लाया जा रहा है जो आज जैसलमेर पहंचेगे। जोधपुर में भी इंडियन आर्मी ने पूरा इंतजाम किया है। हालांकि अभी वहां किसी को भेजने की जरूरत नहीं पड़ी है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *