Pages Navigation Menu

Breaking News

 अपने CM को शुक्रिया कहना कि मैं जिंदा लौट पाया; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर

सच बात—देश की बात

1 अप्रैल से दिल्ली से मेरठ का सफर सिर्फ 50 मिनट में

delhi-meerut-highwayएक अप्रैल से दिल्ली से मेरठ का सफर सिर्फ 50 मिनट में तय हो सकेगा. नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने मेरठ एक्सप्रेस-वे को 1 अप्रैल से इसे खोलने की तैयारी कर ली है. अभी दिल्ली से मेरठ पहुचने में 2 घंटे से ज्यादा समय लगता है, लेकिन 1 अप्रैल से ये सफर सिर्फ 50 मिनट में तय किया जा सकेगा. दिल्ली के सराय काले खां से यूपी गेट तक के एक्सप्रेस-वे पर आवाजाही पहले से ही चल रही है. इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने जून 2018 में किया था. काफी लंबे समय से मेरठ एक्सप्रेस-वे के खुलने का इंतजार था, लेकिन 1 अप्रैल को ये इंतजार खत्म हो जाएगा.NHAI यानी नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इसे पब्लिक के लिए खोलने की तैयारी कर ली है. इस एक्सप्रेस-वे के खुल जाने से हजारों लोगों का सफर आसान हो जाएगा. फिलहाल इस एक्सप्रेस-वे को टोल फ्री रखा गया है. NHAI के प्रोजेक्ट डायरेक्टर मुदित गर्ग ने न्यूज18 इंडिया को बताया कि दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे ऐसा पहला एडवांस एक्सप्रेस-वे होगा, जिस पर चलती गाड़ी से टोल टैक्स कट जाएगा. हर 8 से 10 किमी की दूरी पर एक्सप्रेस-वे की हर लेन के ऊपर डिस्प्ले लगाई गई है, जिस पर चलती हुई गाड़ी की गति को देख सकेंगे.

NHAI के प्रोजेक्ट डायरेक्टर मुदित गर्ग ने न्यूज18 इंडिया को बताया कि एक्सप्रेस-वे को एक अप्रैल को खोले जाने की मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है. लेकिन, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे टोल दरों का निर्धारण अगले दो-तीन दिन में होने की संभावना है. टोल की दरें क्या होंगी इसके लिए एनएचएआई ने सड़क परिवहन मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा है, मंत्रालय से हरी झंडी मिलने तक टोल नहीं देना होगा.प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रॉजेक्ट के नाम से जाने जाने वाला यह मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे मंगलवार को आम लोगों के लिए खोल दिया गया। मेरठ की दिल्ली तक की 85 किलोमीटर की उबाऊ जाम से भारी यात्रा से अब निजात मिल चुकी है।दिल्ली निजामुदीन के सराय काले खां से मेरठ परतापुर तक के इस एक्सप्रेवे तक के इस प्रॉजेक्ट पर मंथन 2008 में शुरू हुआ था। 2014 में भाजपा की सरकार आने पर इसकी कवायद शुरू की गई। नींव 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी।इस एक्सप्रेसवे का काम 2019 मे ही पूरा होना था लेकिन कुछ तकनीकी दिक्कतों के चलते इसमेंविलम्ब हुआ। 8346 करोड़ का यह एक्सप्रेसवे अब पूरी तरह से तैयार हो गया है। यहां से हर रोज लगभग 50,000 से 1 लाख वाहन गुजरेंगे।

 45 मिनट में पहुंचेंगे मेरठ से दिल्ली
8346 करोड़ रुपए की लागत से तैयार इस एक्सप्रेस वे ने दिल्ली से मेरठ की दूरी घटकर सिर्फ 45 किलोमीटर की कर दी है जो सिर्फ 45 मिनट में पूरी होगी। दिल्ली से गाजियाबाद और गाजियाबाद से डासना और फिर पिलखुवा को जोड़ते हुए मेरठ परतापुर का सफर जल्दी तय होगा।

टोल की दरें अभी तय नहीं
एक्सप्रेसवे के टोल की दरें अभी तय नहीं हैं, जिससे अभी वाहन बिना टोल के गुज़र रहे हैं। हालांकि टोल वसूलने के लिए ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रीडर सिस्टम इस्तेमाल के लिए सीसीटीवी लगा दिए हैं, दरें निर्धारित होते ही टोल ऑटोमेटिकली कट जाएगा।

जानें क्या है खास
एक्सप्रेसवे पर 90 अंडर पास, 38 फ्लाईओवर, आरओबी, 8 एफओबी, 4874 लाइट लगने के साथ 197 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। यह एक्सप्रेसवे दिल्ली से गाज़ियाबाद तक 8.7 किलोमीटर है, जबकि दिल्ली के करीब गाजियाबाद से 42 किलोमीटर तक आता है। दिल्ली एक्सप्रेसवे हाईवे में पांच फ्लाईओवर पड़ेंगे। जबकि चार अंडर पास भी हैं। 4 फुटओवर ब्रिज भी इस एक्सप्रेस वे में लगाए गए हैं।

सिग्नल फ्री
पूरा एक्सप्रेसवे सिग्नल से फ्री है। सुंदरता बढ़ाने के लिए एक्सप्रेसवे पर कुतुब मीनार और अशोक स्तंभ जैसे चिन्ह भी लगाए गए हैं। हाईवे के दोनों तरफ गार्डन को विकसित किया गया है। दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस वे पर जो लाइटें लगी है वह पूरी तरह से सोलर सिस्टम वाली हैं।

साइकल ट्रैक भी
एक्सप्रेसवे के दोनों तरफ ढाई मीटर का साइकिल ट्रैक भी बनाया गया है। स्पीड चेक करने के लिए हर आठ-दस किलोमीटर पर बड़े-बड़े स्क्रीन लगाए गए हैं, जिससे वाहनों की स्पीड का पता चल जाएगा। डासना से उतरने चढ़ने के लिए पांच लेन बनाए गए हैं जिससे भविष्य में जाम ना लगे।

चलती गाड़ी में कटेगा टोल
देश का पहला ऐसा एक्सप्रेसवे है जिसमें गाड़ी से चलते हुए टोल कट जाएगा। मेरठ-दिल्ली हाईवे डासना तक जो जिला गाजियाबाद में पड़ता है वहां तक 14 लाइन का है। जबकि डासना से मेरठ तक यह छह लाइन का हो जाएगा।

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »