Pages Navigation Menu

Breaking News

जेपी नड्डा बने भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको जनता ने नकार दिया वे भ्रम और झूठ फैला रहे है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत में शक्ति का केंद्र सिर्फ संविधान; मोहन भागवत

दिल्ली की सर्दी ने तोड़ा 22 सालों का रेकॉर्ड

cold1नई दिल्ली राजधानी दिल्ली से शीतलहर का प्रकोप कम नहीं हो रहा है। हाड़तोड़ ठंड के आगे लोग अब लाचार नजर आ रहे हैं। अधिकतम तापमान पिछले 22 सालों में इतना नीचे कभी नहीं आया, जबकि 27 सालों का यह दूसरा सबसे कम तापमान रहा है। पिछले 24 घंटों से सूर्य की हल्की सी रोशनी तक दिल्ली-एनसीआर में नहीं पहुंची है। बुधवार को भी हालात सुधरने के आसार नहीं हैं।

अधिकतम और न्यूनतम तापमान में सिर्फ 2.2 डिग्री का अंतर

दिल्ली मे सर्दी का तो 22 साल का ही रिकार्ड टूटा है ,लेकिन 70 साल बाद दिल्ली मे ऐसी सरकार आई है जो राष्ट्रवाद से ओतप्रोत है,और अमित शाह जैसा दबंग गृह मंत्री मिला है.ठंड के हालात मंगलवार को और खराब हो गए। अधिकतम तापमान 12.2 डिग्री रहा, जो सामान्य से 10 डिग्री कम है। न्यूनतम तापमान भी 10.4 डिग्री बना रहा जो सामान्य से 2 डिग्री अधिक है। अधिकतम और न्यूनतम तापमान के बीच अंतर महज 2.2 डिग्री रहा। गर्म कपड़ों के बावजूद लोगों को ठंड से राहत नहीं मिल पा रही है। राजधानी का तापमान फिलहाल कई पहाड़ी इलाकों से भी कम हो गया है।

cold

ठंड से टूटा 22 साल का रेकॉर्ड
दिल्ली में नजफगढ़ दिन के समय सबसे ठंडा बना रहा। यहां का अधिकतम तापमान महज 11.1 डिग्री रहा। इसके अलावा जफरपुर और मंगेशपुर का तापमान 11.6 डिग्री, पूसा का तापमान 11.7 डिग्री रहा। मौसम विभाग के अनुसार, इससे पहले 28 दिसंबर 1997 को राजधानी का तापमान 11.3 डिग्री रहा था, जो सबसे कम है। 1992 से अब तक यह दूसरा मौका है, जब दिसंबर में राजधानी का तापमान इतना नीचे गया है।

शुक्रवार तक ठंड से नहीं मिलेगी लोगों को राहत
मौसम विभाग के डेप्युटी डायरेक्टर जनरल डॉ . कुलदीप श्रीवास्तव के अनुसार, इस समय वेस्टर्न हिमालय के क्षेत्र से बर्फीली हवाएं दिल्ली पहुंच रही हैं। साथ ही घने काले निचले बादलों की वजह से धूप धरती तक नहीं पहुंच पा रही है। इसकी वजह से इस तरह की स्थिति बनी है। मौसम विभाग का अनुमान है कि शुक्रवार को दिल्ली में बारिश भी हो सकती है।

आगे क्या रहेगा हाल?
मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार को भी हालत ऐसे ही रहने वाले हैं। अधिकतम तापमान 14 डिग्री तक रह सकता है। इसके बाद स्थिति में थोड़ा सुधार होगा। गुरुवार को तापमान 15 डिग्री तक पहुंच सकता है। 20 और 21 दिसंबर को हल्की बारिश के आसार हैं। दोनों दिन अधिकतम तापमान 18 डिग्री बना रहेगा। 22 और 23 दिसंबर को न्यूनतम तापमान में गिरावट आ सकती है और मध्यम स्थिति का कोहरा देखने को मिल सकता है।

लखनऊअचानक बढ़ी ठंड और शीतलहर को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने आगामी 20 दिसंबर तक सभी स्कूलों को बंद करने का फैसला किया है। इससे पहले जिला स्तर पर भी प्रदेश के कई जिलों में जिलाधिकारी ने स्कूलों को 20-21 दिसंबर तक बंद रखने का आदेश जारी किया था।राज्य सरकार के फैसले से ठंड से परेशान सुबह स्कूल जाने वाले बच्चों और उनके अभिभावकों को काफी राहत मिलेगी। लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, बरेली गाजियाबाद समेत कई शहरों के जिलाधिकारियों ने पहले ही बढ़ती ठंड और शीतलहर को देखते हुए प्री प्राइमरी से लेकर कक्षा आठ तक के सभी बोर्ड के सभी स्कूलों को 20-21 दिसंबर तक बंद रखने का फैसला लिया था।मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक अगले 24 घंटों में यूपी में ठंडी हवाएं और तेज हो जाएंगी। समूचे उत्तर भारत में शीतलहर ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है।

उत्तराखंडःशीतलहर और कोहरे के कारण हाड़ कंपाने वाली ठंड ने लोगों को घरों में कैद कर दिया है। ठंड ने 19 वर्ष का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। पंतनगर विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. आरके सिंह ने बताया कि पिछले 19 वर्षों में 17 दिसंबर 2019 सबसे ठंडा दिन रहा। मंगलवार की सुबह से ही कोहरा छाया था। शीतलहर के कारण कंपकंपी छूट रही थी। पूरे दिन सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए और कोहरा छाया रहा। शाम को कोहरा घना होने के साथ ही गिर रही ओस ने सर्दी को और बढ़ा दिया। मंगलवार को हल्द्वानी का अधिकतम तापमान 13.0 और न्यूनतम तापमान 10.7 डिग्री सेल्सियस रहा।अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री सेल्सियस कम रहा, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। मुक्तेश्वर में अधिकतम तापमान 10.0 और न्यूनतम तापमान 0.8 डिग्री सेल्सियस रहा। यहां अधिकतम तापमान सामान्य से चार और न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस कम रहा। 

पूर्वानुमान : 21 और 22 को हो सकती है बारिश-बर्फबारी

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले 24 घंटों में हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में घना कोहरा छाने की संभावना जताई है। केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि 21 और 22 दिसंबर को पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश और पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी की संभावना है।
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *