Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

भक्त नहीं किराए के गुंडों ने की हिंसा…

gundaनई दिल्ली: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को बालात्कार के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद भड़की हिंसा में अब बड़ा खुलासा हुआ है. शुरुआती जांच में सामने आया है कि पैसे देकर भीड़ इक्कठी की गयी थी. पंचकूला में हज़ार रुपये प्रति व्यक्ति देकर लोगों को इक्कठा किया गया था.सू्त्रों के मुताबिक पंचकूला में एक दिन के हजार रुपये का लालच देकर भीड़ बुलाई गयी थी. इसके साथ ही कहा गया था कि खाने पीने का भी पूरा इंतजाम किया जाएगा. सूत्रों ने ये भी बताया कि अस्पताल में मौजूद घायल लोगों का कहना है कि वो डेरा समर्थक नहीं हैं, उन्हें पैसे देकर एक दिन के लिए बुलाया गया था. आपको बता दें कि कुछ सीसीटीवी की तस्वीरें भी सामने आयी हैं जिनमें साफ दिखायी दे रहा है कि कुछ नकाबपोश लोग घरों में घुस कर तोड़फोड़ कर रहे हैं. इस भीड़ में महिलाएं भी शामिल हैं.

कल सुनाई जाएगी राम रहीम को सजा
यौन शोषण मामले में दोषी डेरा सच्चा सौदा के चीफ राम रहीम को सजा सुनाने के लिए रोहतक जेल में 28 अगस्त को कोर्ट लगाई जाएगी. हरियाणा और पंजाब कोर्ट ने प्रशासन को इस बारे में व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं. HC ने लेटर में कहा, “जेल में कोर्ट रूम में ज्यूडिशियल ऑफिसर, स्टाफ, वकीलों और पार्टियों के आसानी से दाखिल होने और उनकी सुरक्षा की व्यवस्था की जाए. इसके अलावा ज्यूडिशियल ऑफिसर और दो स्टाफ मेंबर्स के सेफ एयर ट्रांसपोर्ट की भी व्यवस्था की जाए.”

गुरमीत   को रोहतक जेल में बिल्ला नंबर दे दिया गया है. राम रहीम वर्ष 2002 के बलात्कार मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद रोहतक में सुनारिया जेल की ‘अप्रूवल सेल’ में बंद है और अब वह कैदी नंबर 1997 बन गया है. जेल अधिकारियों के अनुसार, जेल की इकलौती अप्रूवल सेल में 12 कैदियों को रखने की क्षमता है लेकिन डेरा प्रमुख को कोठरी में अकेले रखा गया है. उन्होंने बताया कि अब कैदी नंबर 1997 बना डेरा प्रमुख ने आधी रात तक कोठरी के भीतर टहलते हुए पहली रात बिताई. पंचकूला से कल यहां पहुंचने पर गुरमीत ने बेचैनी महसूस होने की शिकायत की लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें चिकित्सा जांच में स्वस्थ पाया.

शुक्रवार को हुई भारी हिंसा के बाद सेना और दंगारोधी पुलिस शनिवार को सिरसा पहुंची. सेना और पुलिस ने डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय बाहर से घेर लिया. घेराबंदी करने के बाद मुख्यालय के भीतर मौजूद लोगों से बाहर निकलने को कहा गया. लाउडस्पीकरों के जरिये अनाउंसमेंट किया गया. मीडिया रिपोर्टों को मुताबिक सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय के भीतर करीब एक लाख समर्थक मौजूद हैं. इनमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी हैं. कुरुक्षेत्र में भी डेरा सच्चा सौदा के दो आश्रम सील कर दिये गए हैं.

वहीं दूसरी तरफ पंजाब और हरियाणा के कुछ शहरों में शनिवार सुबह सेना फ्लैग मार्च किया. शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बलात्कार का दोषी करार दिये जाने के बाद हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में कुछ जगहों पर हिंसा भड़क उठी. हरियाणा के पंचकुला शहर में भारी संख्या में पहुंचे राम रहीम के समर्थकों ने बसों, कारों और कुछ इमारतों को आग लगा दी. हिंसा में अब तक 31 लोग मारे जा चुके हैं. 29 लोग पंचकुला और डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय सिरसा में ही मारे गए.

हरियाणा और पंजाब के कुछ इलाकों में शुक्रवार शाम कर्फ्यू लगा दिया गया. हालांकि शनिवार सुबह हरियाणा के तीन जिलों में कर्फ्यू हटा दिया गया. कुछ इलाकों में कर्फ्यू में ढील दी गई. लेकिन धारा 144 अभी भी लागू है. हरियाणा के पुलिस प्रमुख बीएस संधु के मुताबिक मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. कुछ घायलों को गंभीर चोटें आई हैं. ज्यादातर लोगों की मौत गोली लगने से हुई है. चश्मदीदों के मुताबिक पुलिस ने पहले पानी की बौछार और आंसू गैस का इस्तेमाल किया. लेकिन उपद्रवियों की भारी संख्या पुलिस बल पर भारी पड़ी.भारी हिंसा और आगजनी के लिए हरियाणा सरकार की आलोचना हो रही है. सरकार हालात की गंभीरता समझने में पूरी तरह नाकाम हुई. इस बीच चंडीगढ़ से सटे पंचकुला के डीसीपी को निलंबित कर दिया गया है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *