Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 को बहाल करने पर विचार करेंगे; दिग्विजय

नई दिल्ली अक्सर अपने बयानों के कारण सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह एक बार फिर बीजेपी के निशाने पर आ गए हैं। दिग्विजय सिंह ने क्लब हाउस पर चैट के दौरान कथित तौर पर कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 को फिर से बहाल करने पर विचार करेंगे। दावा किया जा रहा है कि इस चैट में एक पाकिस्तानी पत्रकार भी मौजूद था।कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का क्लब हाउस चैट वायरल होने के बाद ट्विटर पर कश्मीरी पंडित ट्रेंड होने लगा। चैट के बाद बीजेपी भी कांग्रेस के खिलाफ हमलावर हो गई। दिग्विजय सिंह वायरल हुए क्लब हाउस चैट में कथित तौर पर जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 की बहाली पर पुनर्विचार, कश्मीर पंडितों को आरक्षण, कश्मीरियत का मतलब सेक्युलरिज्म जैसी बातें कहते हुए सुने जा रहे हैं। हालांकि जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने दिग्विजय सिंह का आभार जताया है। digvijay_singh_club_house_chatसोशल मीडिया पर सामने आए क्लब हाउस चैट (Club House Chat) विवाद ने कांग्रेस को परेशानी में डाल दिया है. पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के मुद्दे पर अपने नेता दिग्विजय सिंह को नसीहत दी है.पार्टी ने कहा कि आर्टिकल 370 के मुद्दे पर कांग्रेस का पक्ष जानने के लिए सभी नेताओं को कांग्रेस कार्य समिति (CWC) के प्रस्ताव को पढ़ना चाहिए. यह प्रस्ताव अगस्त 2019 में पारित किया गया था

‘कांग्रेस का रुख जानने के लिए प्रस्ताव पढ़ें’ कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, ‘6 अगस्त, 2019 को कांग्रेस कार्य समिति ने जम्मू-कश्मीर को लेकर प्रस्ताव पारित किया था. कांग्रेस का रुख उसी प्रस्ताव में है. तमाम वरिष्ठ नेताओं से अपील है कि वे उस प्रस्ताव को देखें.’सीडब्ल्यूसी के उस प्रस्ताव में अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के सरकार के तरीके को मनमाना और अलोकतांत्रिक करार दिया गया था. प्रस्ताव में कहा गया था कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है. साथ ही पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) और चीन के अधीन एक भूभाग भी भारत का अभिन्न हिस्सा है.

भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने क्लब हाउस चैट का एक हिस्सा ट्विटर पर शेयर करते हुए दिग्विजय सिंह पर हमला बोला। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- ”क्लब हाउस चैट में, राहुल गांधी के शीर्ष सहयोगी दिग्विजय सिंह एक पाकिस्तानी पत्रकार से कहते हैं कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वे अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के फैसले पर पुनर्विचार करेंगे। वास्तव में? यही तो पाकिस्तान चाहता है…।”

पुरी बोले – कश्मीरियों से वतनपरस्ती का सबक लें दिग्विजय

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि बॉर्डर की स्थिति पर लोकलुभावन बातों की बजाय कांग्रेस को आर्टिकल 370 खत्म करने को लेकर अपनी शर्तों को रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि जम्हूरियत सिर्फ कुलीन लोगों के हाथों में रही है। पुरी ने कहा कि इंसानियत तो उसी समय मर गई थी जब हिंसा को उकसाने वालों ने अपने बच्चों को विदेश भेजकर आम कश्मीरी लोगों के बच्चों के हाथों में पत्थर थमा दिए थे।केंद्रीय मंत्री यहीं नहीं रुके उन्होने कहा कि कश्मीरियत तो उसी दिन मर गई थी जब कश्मीरी पंडितों को घाटी से भगा दिया गया था और आज भी उन्हें मारा जा रहा है। उन्होंने दिग्विजय सिंह को कश्मीरियों से वतनपरस्ती की सबक लेने की भी सलाह दी।

कभी नहीं मिला कश्मीरी पंडितों को आरक्षण
एक यूजर @aviral_dwivedi ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने क्लबहाउस चैट में झूठा दावा किया कि कश्मीर में आरक्षण कश्मीर पंडितों को दिया जाता था। कश्मीरी पंडितों को कभी भी कश्मीर या शेष भारत में सरकारी नौकरी में आरक्षण नहीं मिला। कश्मीर में सिर्फ कश्मीरी पंडितों का नरसंहार होता आया है और आज भी उनको मारा जा रहा है।कश्मीरियत का प्रयोग एक अन्य यूजर @Aabhas24 ने दिग्विजय सिंह को जवाब देते हुए कहा कि सर, आप कश्मीरियत की बात करते हैं, क्या आपको यह पता भी है कि सबसे पहले इस शब्द का प्रयोग कब किया गया था। कश्मीरियत का अर्थ सेक्युलरिज्म है? आप भले ही चुनाव जीत गए हों लेकिन हैरानी होती है कि आपको इस उम्र में नासमझ ही हैं।

भाजपा के 2024 के लिए चुनाव प्रचार की शुरुआत

दिग्विजय सिंह के कश्मीरी पंडितों को घाटी में आरक्षण मिलने की बात का भी लोगों ने खूब विरोध किया। लोगों ने कहा कश्मीरी पंडितों को आरक्षण मिलने की बात एक सफेद झूठ है। एक यूजर @AdityaRajKaul ने लिखा कि कश्मीरी पंडितों को घाटी और बाकी भारत में कभी आरक्षण नहीं मिला। वहीं जर्नलिस्ट अभिजीत मजूमदार ने लिखा कि दिग्विजय सिंह ने बीजेपी के साल 2024 के चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी है।बताते चलें कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने ‘क्लब हाउस’ संवाद में भाग लिया था. उसमें उन्होंने टिप्पणी की थी कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना और राज्य का दर्जा खत्म करना ‘बहुत दुखद’ है. उन्होंने यह भी कहा था कि केंद्र में सरकार आने पर उनकी पार्टी इस पर पुनर्विचार करेगी.संसद ने 5 अगस्त, 2019 को जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त कर दिया था. इसके साथ जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने वाले विधेयक को भी मंजूरी दे दी थी.

बीजेपी ने साधा कांग्रेस पर निशाना

उनकी इस टिप्पणी को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. बीजेपी ने कांग्रेस ने भारत के खिलाफ बोलने और पाकिस्तान की ‘हां में हां’ मिलाने का आरोप लगाया है. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस मुद्दे पर राहुल गांधी और सोनिया गांधी से स्पष्टीकरण देने की मांग की है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »