Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

अफगानिस्तान के हालात को लेकर बाइडन पर भड़के डोनाल्ड ट्रंप

trump islamic terrorवॉशिंगटन अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अफगानिस्तान के हालात को लेकर वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडन की आलोचना की है। अपने प्रवक्ता के जरिए जारी किए गए बयान में ट्रंप ने लोगों से पूछा कि वे अब भी उन्हें याद करते हैं। दरअसल, अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद से ही तालिबान ने कहर बरपाया हुआ है। इस समय अफगानिस्तान का 80 फीसदी हिस्सा तालिबान के कब्जे में है। जिसके बाद सोशल मीडिया पर चर्चा है कि अगर ट्रंप इस समय राष्ट्रपति होते तो अफगानिस्तान की स्थिति कुछ और होती।

ट्रंप ने क्या बयान जारी किया
ट्रंप के आधिकारिक प्रवक्ता लिज हैरिंगटन ने उनके बयान को ट्वीट किया। इसमें लिखा है कि अफगानिस्तान की दुखद स्थिति, एक पूरी तरह से खुली और टूटी हुई सीमा, रिकॉर्ड स्तर पर अपराध, तेल की कीमतें उच्चतम स्तर पर, मुद्रास्फीति बढ़ रही है और पूरी दुनिया ने इसका फायदा उठाया है- क्या आप अभी भी मुझे याद करते हैं?

चुनावी मुद्दा था अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने 20 जनवरी को शपथग्रहण के बाद ही अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी शुरू कर दी थी। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में भी अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी एक बड़ा मुद्दा था। बाइडन ही नहीं, ट्रंप ने भी अपनी रैलियों में ऐलान किया था कि उनका देश अब किसी भी दूसरे देश के युद्ध में शामिल नहीं होगा। इतना ही नहीं, उन्होंने भी कहा था कि अमेरिकी सेना की अफगानिस्तान से वापसी होगी।

काबुल से 50 किमी दूर तालिबान
तालिबान ने शनिवार तड़के काबुल के दक्षिण में स्थित एक प्रांत पर कब्जा कर लिया और देश के उत्तर में स्थित अहम शहर मजार-ए-शरीफ पर चौतरफा हमला शुरू कर दिया। अफगानिस्तान से अमेरिका की पूरी तरह वापसी में तीन सप्ताह से भी कम समय शेष बचा है और ऐसे में तालिबान ने उत्तर, पश्चिम और दक्षिण अफगानिस्तान के अधिकतर हिस्सों पर कब्जा कर लिया है। इसके कारण यह आशंका बढ़ गई है कि तालिबान फिर से अफगानिस्तान पर कब्जा कर सकता है या देश में गृह युद्ध की स्थिति पैदा हो सकती है।

ट्रंप का ट्विटर अकाउंट है बंद
जनवरी में यूएस कैपिटल बिल्डिंग पर हुए हमले के बाद ट्विटर ने डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट को अनिश्चितकाल के लिए सस्पेंड किया हुआ है। इस कारण ट्रंप चाहते हुए भी अपने बयानों को सोशल मीडिया पर खुद जारी नहीं कर सकते हैं। फेसबुक ने भी ट्रंप के अकाउंट पर ऐसा ही प्रतिबंध लगाया हुआ है। ट्विटर नियम कहता है कि किसी व्यक्ति को साइट से स्थायी रूप से प्रतिबंधित किया जाता है तो वह वैकल्पिक अकाउंट भी नहीं खोल सकता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »