Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

दिल्‍ली-एनसीआर में भूकंप के झटके

earthquakeनई दिल्‍ली दिल्‍ली-एनसीआर में सोमवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने बताया कि इसका केंद्र हरियाणा के झज्जर से 10 किमी उत्तर में था। इसकी तीव्रता 3.7 मापी गई। यह भूकंप रात 10:36 बजे आया। इसकी गहराई 5 किमी थी।भूकंप की खबर आते ही लोगों ने ट्विटर पर मीम्‍स के जरिये प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी। इनमें से कुछ तो बहुत गुदगुदाने वाले थे। एक यूजर ने लिखा ‘अब तो आदत सी है मुझको ऐसे जीने में…’

इससे पहले 20 जून को भी भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए थे। तब रिक्टर पैमाने पर 2.1 तीव्रता आंकी गई थी। उस भूकंप का केंद्र दिल्ली के पंजाबी बाग इलाके में मौजूद रहा। उस दिन 12 बजकर 02 मिनट पर भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए थे। भूकंप का केंद्र जमीन के लगभग सात किलोमीटर नीचे मौजूद था। हालांकि, बहुत हल्के झटके होने के चलते इसे ज्यादातर लोगों ने अनुभव नहीं किया था।

पिछले साल अप्रैल से अगस्त के दौरान राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कई भूकंप आने के बाद भूकंप विज्ञान केंद्र ने दिल्ली में और उसके आसपास भूकंपीय गतिविधि पर करीबी निगरानी के लिए अतिरिक्त भूकंप रिकॉर्डिंग उपकरण तैनात किए हैं। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में अप्रैल से अगस्त 2020 के दौरान कम तीव्रता के भूकंप आए थे जिनका केंद्र उत्तर-पूर्वी दिल्ली, रोहतक, सोनीपत, बागपत, फरीदाबाद और अलवर में था।

आखिर क्यों आता है भूकंप
धरती मुख्य तौर पर चार परतों से बनी हुई है. इनर कोर, आउटर कोर, मैनटल और क्रस्ट. क्रस्ट और ऊपरी मैन्टल कोर को लिथोस्फेयर के नाम से जाना जाता है। ये 50 किलोमीटर की मोटी परत कई वर्गों में बंटी हुई है। इसे टैकटोनिक प्लेट्स कहा जाता है। ये टैकटोनिक प्लेट्स अपनी जगह पर हिलती-डुलती रहती हैं। जब ये प्लेट बहुत ज्यादा हिलने लगती है तो उसे भूकंप कहते हैं। ये प्लेट क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दोनों ही तरह से अपनी जगह से हिल सकती हैं। इसके बाद वह स्थिर रहते हुए अपनी जगह तलाशती हैं इस दौरान एक प्लेट दूसरी प्लेट के नीचे आ जाता है।

भूकंप के दौरान क्‍या करें, क्‍या नहीं
राष्‍ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने हाल में भूकंप के दौरान घर में कैसे सुरक्षित रहें, इस पर एक वीडियो साझा किया था। उसने बताया था कि इस दौरान शांति बनाएं रखें। घबराहट में जल्‍दबाजी नहीं करें। शीशों और खिड़‍कियों से दूर रहें। अपने सिर को एक हाथ से ढंक लें। किसी मेज के नीचे बैठ जाएं और दूसरे हाथ से उसे पकड़कर रखें। जब बिल्डिंग हिल रही हो तो उससे बाहर नहीं निकलें। जैसे ही भूंकप रुके वैसे ही घर या बिल्डिंग के बाहर आ जाएं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »