Pages Navigation Menu

Breaking News

दत्तात्रेय होसबोले बने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह

 

पैर पसार रहा कोरोना, कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

दिल्ली-NCR समेत कई राज्यों में भूकंप के झटके

earthराजधानी दिल्ली में ऊंची रिहायशी इमारतों में रहने वाले लोग आनन-फानन में बाहर निकल आए। हालांकि, निचली इमारतों में रहने वाले बहुत से लोगों ने झटके महसूस नहीं किए। भूकंप रात 10 बजकर 31 मिनट पर आया। जानकारी के मुताबिक, पंजाब के अमृतसर में रात 10 बजकर 34 मिनट पर भूकंप का दूसरा झटका भी महसूस किया गया। इसकी तीव्रता 6.1 मापी गई। भूकंप के झटके कई सेकंड तक महसूस किए गए। राहत की बात यह है कि अभी तक जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है

पाकिस्तान और अफगानिस्तान में भी झटके
पाकिस्तान और अफगानिस्तान में भी लोगों ने झटके महसूस किए। दुनियाभर में भूकंप पर नजर रखने वाली अमेरिकी संस्था USGS के मुताबिक, ताजिकिस्तान में आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 5.9 थी। ये भूकंप 10 बजकर 31 मिनट पर आया था। वहीं, पाकिस्तान के नेशनल सीसमिक मॉनिटरिंग सेंटर के मुताबिक, इसकी तीव्रता 6.4 थी। पाकिस्तान के इस्लामाबाद और लाहौर के अलावा खैबर पख्तूनख्वा और पंजाब प्रांत के कई शहरों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।

भारतीय उपमहाद्वीप में कई जगह भूकंप का खतरा
भारत को भूकंप के खतरे के आधार पर जोन-2, 3, 4 और 5 में बांटा गया है। जोन-2 सबसे कम खतरे वाला और जोन-5 सबसे ज्यादा खतरे वाला जोन माना जाता है।

दक्षिण भारत के ज्यादातर हिस्से सीमित खतरे वाले जोन-2 में आते हैं। मध्य भारत भी कम खतरे वाले जोन-3 में आता है। वहीं, जोन-4 में जम्मू और कश्मीर का कुछ हिस्सा, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम, उत्तर बंगाल, दिल्ली, महाराष्ट्र शामिल हैं। जोन-5 में जम्मू-कश्मीर, पश्चिमी और मध्य हिमालय, उत्तर और मध्य बिहार, उत्तर-पूर्व भारत, कच्छ का रण और अंडमान-निकोबार द्वीप समूह आते हैं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »