Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

गरीब को फूटी कौड़ी नहीं, मध्यम वर्ग से मोड़ा मुंह; कांग्रेस

Randeep_Singh_Surjewala_EPSदेश में कोरोना वायरस के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर असर देखा जा रहा है. हर रोज नए मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित हो रहे हैं. वहीं कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन के चलते देश की अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई है. इस बीच सरकार के 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणाओं के बाद कांग्रेस ने इस पर सवाल उठाए हैं.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया. जिसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक पैकेज से जुड़ी कुछ योजनाओं की घोषणा कीं. इन घोषणाओं के बाद कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट के माध्यम से मोदी सरकार पर हमला बोला है और कहा है कि इससे गरीब के हाथ में एक फूटी कौड़ी भी नहीं आएगी.रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा है कि इससे न गरीब के हाथ में एक फूटी कौड़ी, न किसान के खाते में एक रुपया, न प्रवासी मजदूर की घर वापसी या राशन, न दुकानदार और नौकरी पेशा को कुछ मिला.

इसके साथ ही रणदीप सुरजेवाला ने कुछ सवाल भी पूछे हैं. उन्होंने पूछा है कि 13 करोड़ गरीब परिवारों को 7,500 रुपये और राशन का निर्णय क्यों नहीं लिया? वहीं श्रमिक और मजदूरों की घर वापसी का इंतजाम, राहत और राशन का फैसला क्यों नहीं किया गया? मध्यम वर्ग से मुंह क्यों मोड़ा गया?

Randeep Singh Surjewala

@rssurjewala

जुमले बनाने से पहले PM और FM जाने-

3. 13 करोड़ ग़रीब परिवारों को ₹7,500 व राशन का निर्णय क्यों नही?
4. श्रमिक व मज़दूरों की घर वापसी का इंतज़ाम, राहत व राशन क्यों नही?
5. किसान के खाते में ₹10,000 क्यों नही?
6. 7 करोड़ दुकानदारों के लिए क्या?
7. मध्यम वर्ग से मुँह क्यों मोड़ा? https://twitter.com/rssurjewala/status/1260560420697329664 

Randeep Singh Surjewala

@rssurjewala

जुमले बनाने से पहले PM और FM जाने-

1. क़र्ज़ उपलब्ध करने को यानी लिक्विडिटी इन्फ़्यूज़न को राजकोषीय प्रोत्साहन या फ़िस्कल स्टिम्युलस नही कहा जा सकता।

2. लिक्विडिटी बढ़ाने के उपाय राजकोषीय प्रोत्साहन (फ़िस्कल स्टिम्युलस) नही हो सकते, यानी क़र्ज़ उपलब्ध करने से खपत नही बढ़ सकती। https://twitter.com/rssurjewala/status/1260556514873376769 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *