Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

कश्मीर में आतंक की टूटी कमर, मारा गया आतंकी रियाज

terror riyazकश्मीर का मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी और हिज्बुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर रियाज नायकू पुलवामा जिले के बेगपोरा में सुरक्षाबलों के साथ हुए एनकाउंटर  मारा गया । आतंकी रियाज नायकू A++ कैटिगरी का आतंकी था। सेना को उसकी लंबे समय से तलाश थी और उसके ऊपर सेना ने 12 लाख रुपये का इनाम भी रखा था। सेना ने उसे ढेर करने के लिए खास प्लान बनाया। रियाज नायकू बहुत ही शातिर आतंकी था। बताया जा रहा है कि उसने अपने घर तक जाने-आने के लिए सुरंगे बना रखी थीं। इस बात की सूचना बहुत ही गिने-चुने लोगों को थी क्योंकि वह किसी पर भरोसा नहीं करता था। सेना ने विस्फोटक से वह घर उड़ा दिया और जो सुरंग उसने जान बचाने के लिए खोदी थी उसी में उसकी कब्र बन गई।

सेना इस मामले में कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी इसलिए मारे जाने के बाद भी रियाज की पहचान को लेकर पूरी riyaz terror 1आश्वस्त होना चाहते थे। इसलिए साढ़े पांच घंटे तक उसके पहचान करने में लगाए गए। सबसे पहले उसके शरीर के निशानों को देखा गया, फिर पुलिस ने, उसके बाद सीआरपीएफ ने, फिर सेना ने, उसके बाद आईबी ने और अंत में स्थानीय लोगों से उसकी पहचान कराई गई। उसके बाद रियाज के मारे जाने की सूचना बाहर आई।सुबह 2 बजे एरिया की घेराबंदी की गई और आसपास के घरों से सभी सिविलियंस को सुरक्षित बाहर निकाला गया। कोई सिविलियन इसमें घायल नहीं हुआ। आतंकियों से मुठभेड़ सुबह 9.30 बजे शुरू हुई। चार घंटे तक लगातार फायर फाइट के बाद रियाज नायकू मारा गया। बेगपोरो में नायकू के साथ एक और आतंकी था, उसे भी सुरक्षा बलों ने मार गिराया। दो एके-47 और गोलाबारूद बरामद हुआ है।गणित के टीचर से आतंकी  रियाज अहमद नायकू (35 साल) ने पुलिस अफसरों के परिवार के लोगों का अपहरण और आतंकी के मरने पर बंदूकों से सलामी देने का चलन शुरू किया था। बताया जा रहा है कि नायकू अपनी बीमार मां को देखने आया था। इसी दौरान उसके घर पहुंचने की सूचना पुलिस को मिली।सेना ने मकान को मंगलवार ही घेर लिया था लेकिन कोई फायरिंग नहीं हुई। सेना को उसके भाग जाने का अंदेशा हुआ। कुछ खुफिया लोगों ने उसके मकान से बनी सुरंगों के रास्ते भागने की बात कही तो सेना ने जेसीबी मंगवाई।

देर रात तक खेतों की चली खुदाई

इलाके के आसपास खेतों और रेलवे ट्रैक की खुदाई की गई। यहां जमीन के भीतर सुरंगे ढूंढी गईं। देर रात सेना ने सर्च ऑपरेशन रोक दिया, लेकिन इलाके से घेराबंदी नहीं हटाई गई। आखिर नायकू को जब एहसास हुआ कि वह अब बचकर नहीं भाग सकता तो उसने सुबह लगभग नौ बजे फायरिंग शुरू कर दी।

ओवैस हिज्बी भी ढेर

फायरिंग होने के बाद सेना ने भी जवाबी फायरिंग की और फिर एनकाउंटर शुरू हो गया। आखिर दोपहर को नायकू मार गिराया गया। सूत्रों के मुताबिक, थोड़ी देर बाद ओवैस हिज्बी भी ढेर कर दिया गया।

तब बच निकला था नायकू

riyaz lead 1सितंबर 2018 में भी सेना को नायकू के पुलवामा में अपने गांव आने की जानकारी मिली थी। नायकू का गांव अवंतिपुरा के बेगपोरा में है। तब सेना ने पूरे इलाके को छान डाला था। स्थानीय लोगों के मुताबिक बेगपुरा की जामिया मस्जिद के पास एक प्लॉट की जेसीबी से खुदाई भी की गई थी। इनपुट्स थे कि वह किसी सुरंग में छिपा हुआ था, लेकिन सेना को खाली हाथ लौटना पड़ा था। लेकिन इस बार नायकू सेना को चमका नहीं दे सका।

इससे पहले जम्मू-कश्मीर के ही रहने वाले बुरहान वानी के हाथ में हिजबुल मुजाहिद्दीन की कमान थी. इसे साल 2016 में सुरक्षाबलों ने मार गिराया था. इसके बाद कश्मीर घाटी में काफी तनाव देखने को मिला था. आतंकी रियाज नायकू की मौत के बाद भी ऐसी घटनाएं व तनाव का माहौल न बने इस कारण सुरक्षा लिहाज से वायस कॉलिंग व इंटरनेट की सुविधा को बंद कर दिया गया है.

इस बारे में आईजी विजय कुमार ने बताया कि आतंकी रियाज नायकू के खिलाफ सर्च अभियान  चलाया जा रहा था. इसके अन्य सहयोगी आतंकियों को भी मार गिराया गया है. नायकू लोगों को आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए भड़काता था. सोशल मीडिया पर इसकी कई तरह की भड़काऊ वीडियो व पोस्ट भी शेयर किए जाते रहे हैं, हालांकि अब जब रियाज की मौत हो गई है तो आशंका जताई जा रही है कि घाटी में आंतकवादी गतिविधियों में कुछ कमी आएगी.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *