Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

एग्जिट पोल में एनडीए पर भारी महागठबंधन

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव  में शनिवार को तीसरे चरण की वोटिंग के साथ ही चुनाव संपन्न हो गया है। अब सभी की निगाहें चुनाव नतीजों पर है। 10 नवंबर को मतगणना के बाद फाइनल नतीजे सामने आएंगे। हालांकि, नतीजों से पहले बिहार चुनाव में इस बार किसकी सरकार बन सकती है इसको लेकर चाणक्य ने एग्जिट पोल किया है। बिहार चुनाव के लिए चाणक्य के एग्जिट पोल  में किसे कितनी सीटें मिलने की संभावना है, आप एग्जिट पोल के जरिए अनुमान लगा सकेंगे कि बिहार में किसका पड़ला भारी है और जनता किसपर भरोसा जता रही है। टुडेज चाणक्य के बिहार विश्लेषण के मुताबिक, जेडीयू वाले एनडीए गठबंधन के खाते में 55 सीटें और आरजेडी नेतृत्व वाले महागठबंधन को 180 सीटें मिल सकती हैं।

महागठबंधन क्लीन स्वीप करते हुए दिखाई दे रहा है। जबकि अन्य के खाते में 8 सीटें जा सकती हैं।टुडेज चाणक्य के मुताबिक- अगड़ी जातियां में से 60 प्रतिशत लोग जेडीयू (एनडीए) के साथ और 29 प्रतिशत आरजेडी (महागठबंधन) के साथ जा सकते हैं। यादव 22 प्रतिशत जेडीयू+ और 69 प्रतिशत आरजेडी+ के साथ जाने की संभावना है। जबकि मुस्लिम में 12 प्रतिशत जेडीयू+ के साथ और 80 प्रतिशत आरजेडी+ के साथ जाने की उम्मीद है। कुल मिलाकर देखा जाए तो आरजेडी के लिए MY समीकरण (मुस्लिम-यादव) ने फायदा पहुंचाते दिख रहे हैं।वहीं अनुसूचित जाति में से 39 प्रतिशत जेडीयू+ के साथ जबकि 34 फीसदी आरजेडी वाले महागठबंधन के साथ जाने की संभावना है। वहीं आर्थिक रूप से पिछड़ी जाति में 40 फीसदी जेडीयू नेतृत्व वाले एनडीए और 33 प्रतिशत आरजेडी+ के साथ जा सकती हैं। बात अगर अन्य पिछड़ा जाति की करें तो 51 प्रतिशत एनडीए के साथ और 30 प्रतिशत महागठबंधन के साथ जाती हुई दिख रही हैं।जेडीयू वाले एनडीए को 34 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है। जबकि आरजेडी वाले महागठबंधन को 44 प्रतिशत वोट और अन्य के खाते में 22 प्रतिशत वोट जाने की संभावना है।

एबीपी सी-वोटर के एग्जिट पोल में एनडीए पर महागठबंधन tajesy पड़ता दिख रहा है। वहीं, लालू की राजद सबसे बड़े दल के रूप में उभर रही है।एनडीए को 104 से 128 सीटें मिल रही हैं। जबकि महागठबंधन को 108 से 131 सीटें मिल रही हैं। लोजपा का कोई असर नहीं दिखाई दिया है। लोजपा को 1 से 3 सीटें ही मिल सकती हैं। वहीं अन्य को 4 से 8 सीटें मिलती दिख रही हैं। एनडीए और महागठबंधन में शामिल दलों की अलग अलग बात करें तो सबसे बड़ी पार्टी के रूप में लालू की राजद सामने आ रही है। उसे अकेले 81 से 89 सीटें मिल रही हैं। उसके बाद बीजेपी को 66 से 74 और जदयू को 38 से 46 सीटें मिलती दिख रही हैं।कांग्रेस को 21 से 29 सीटें मिल सकती हैं। एनडीए में शामिल वीआईपी और हम पार्टी को केवल 4 सीटें मिल सकती हैं। इसी तरह महागठबंधन में शामिल लेफ्ट को 6 से 13 सीटें मिल सकती हैं। एनडीए यानी नीतीश कुमार को 37.7 फीसदी वोट मिले हैं। लालू की पार्टी को 36 फीसदी से थोड़े ज्यादा वोट मिले हैं।

Channel/Agency जेडीयू+ आरजेडी+ लोजपा अन्य
जन की बात 91-117 118-138 5-8 3-6
एबीपी-सी वोटर 104-128 108-131 1-3 4-8
न्यूज 18- टुडेज चाणक्या 55 180 0 8
इंडिया टुडे-एक्सिस 69-91 139-161 3-5 6-10

पिछली बार बनी थी नीतीश की सरकार
2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार महागठबंधन में शामिल होकर आरजेडी के साथ चुनाव लड़ा था। आरजेडी को नीतीश के साथ का फायदा मिला था, जिससे आरजेडी को सबसे ज्यादा 80 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं दूसरे नंबर पर नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू थी, जिसे 71 सीटें हासिल हुई थी। वहीं बीजेपी को 54, कांग्रेस को 27, एलजेपी को 2, आरएलएसपी को 2, हम को 1 और अन्य के हिस्से में 7 सीटें गई थी।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *