Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

फिल्म अभिनेता सतीश कौल का कोरोना से निधन, गुमनामी में बीते कुछ साल

satish kaulहिंदी व पंजाबी की तीन सौ से अधिक फिल्मों में अभिनय करने वाले अभिनेता सतीश कौल का शनिवार को निधन हो गया। वह कोरोना से संक्रमित थे। सतीश कौल पिछले काफी दिनों से दरेसी के एक अस्पताल में भर्ती थे। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सतीश कौल के निधन पर शोक जताया है। कहा कि सतीश कौल एक बहुमुखी अभिनेता थे। उन्होंने पंजाबी सिनेमा, कला और संस्कृति के प्रचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

बता दें कि अभिनेता सतीश कौल की आर्थिक हालात कुछ अच्छे नहीं थे। वर्ष 2019 में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से उन्हें पांच लाख रुपये का चेक दे मदद की गई थी। जनवरी 2019 में सतीश काैल की हालत के बारे में पता चलने पर मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ट्वीट कर उनको मदद देने का भराेसा दिया था। इसके बाद लुधियाना के लिए डिप्टी कमिश्नर खुद सतीश कौल से मिलने पहुंचे थे। डीसी ने सतीश कौल से मुलाकात के बाद मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह को रिपोर्ट दी। इसके बाद पंजाब सरकार ने सतीश कौल को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी थी।

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की मदद के बाद देश-विदेश से भी सतीश कौल के कई चाहने वाले उनकी मदद को आगे आए थे। कोरोना संक्रमण से पहले सतीश कौल का पीठ की चोट के कारण लंबे समय से इलाज चला था। उनकी हालत के बारे में जागरण ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने उनकी सहायता का वादा किया था।

30 साल तक पंजाबी और हिंदी सिनेमा पर राज करने वाले सतीश कौल ने अंतिम समय में गुमनामी की जिंदगी जी। सतीश कौल का जन्म 8 सितंबर 1954 को कश्मीर में हुआ था। पिता मोहन लाल कौल मौसिकी (शायरी) करते थे। उन्होंने कश्मीर की मौसिकी को दुनिया भर में प्रसिद्ध किया। सतीश कौल पिता के कहने पर 1969 में पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में ग्रेजुएशन के लिए गया था।दैनिक जागरण को दिए एक साक्षात्कार में सतीश कौल ने कहा था कि वहां वह जया बच्चन, डैनी और शत्रुघ्न सिन्हा का बैच मेट रहे। सतीश कौल ने 1973 में पहली फिल्म की और बाद में 300 से भी ज्यादा हिंदी और पंजाबी सिनेमा में काम किया। शादी हुई तो पत्नी उन्हें अमेरिका में घर जमाई बनाकर रखना चाहती थी, मगर उनका शौक और पैशन सिनेमा था, इसलिए उसे छोड़ दिया।जिंदगी बड़ी रंगीन थी। जवानी गई तो काम के लिए एक टीवी चैनल में एक्टिंग की क्लासें लेने लगा। इसी दौरान जुलाई 2014 में बाथरूम में नहाते समय गिरा और कूल्हा टूट गया। मुंबई के एक अस्पताल में इलाज के लिए गया तो जिंदगी की पूरी पूंजी इसी इलाज में खर्च हो गई। ढाई साल तक बेड पर पड़ा रहा। इस दौरान पटियाला के एक अस्पताल में समय बिताया।सतीश कौल बताया था कि जो कभी हिंदी सिनेमा में साथ थे और अभिनय के समय लंबी आयु की कामना करते थे, सब साथ छोड़ गए। 2015 में प्रकाश सिंह बादल की सरकार के समय पंजाबी यूनिवर्सिटी से 11 हजार रुपये की पेंशन लग गई। इसके बाद लुधियाना आकर एक्टिंग स्कूल खोला, पर वह फ्लॉप हो गया। इसके बाद सतीश कौल को वृद्ध आश्रम में रहना पड़ा था। वहां से चाहने वाली एक महिला अपने घर ले आई थी।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »