Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

फ्रांसीसी वायुसेना के हमले में 50 इस्‍लाम‍िक आतंकवादियों की मौत

france forceपेरिस/बमाको फ्रांस की वायुसेना ने अफ्रीकी देश माली में सक्रिय अलकायदा के आतंकवादियों पर जोरदार हवाई हमला बोला है। फ्रांसीसी वायुसेना के मिराज फाइटर जेट और ड्रोन विमानों ने मध्‍य माली में मिसाइलें दागीं जिससे कम से कम 50 इस्‍लामिक आतंकवादियों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि फ्रांस ने यह हमला बुर्कीन फासो और नाइजर की सीमा के पास शुक्रवार को किया गया।

फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले ने माली की संक्रमणकालीन सरकार से मुलाकात के बाद कहा कि 30 अक्‍टूबर को माली में फ्रेंच एयरफोर्स ने एक आक्रामक कार्रवाई की जिसमें 50 ज‍िहादी मारे गए। इस दौरान बड़ी संख्‍या में हथियार भी बरामद किए गए। इस इलाके में माली की सरकार इस्‍लाम‍िक आतंकवादियों का सामना कर रही है। फ्रांसीसी रक्षामंत्री ने कहा कि 30 मोटरसाइकिलें भी हवाई हमले में नष्‍ट हो गई हैं।

विमानों ने आतंकवादियों पर मिसाइलें दागी
उन्‍होंने बताया कि यह हमला उस समय किया गया जब ड्रोन ने पता लगाया कि बड़ी संख्‍या में मोटरसाइकिल पर सवार होकर लोग तीनों देशों की सीमा पर मौजूद हैं। ये जिहादी पेड़ों के नीचे छिप गए और निगरानी से बचने का प्रयास करने लगे। इसके बाद फ्रांसीसी वायुसेना ने अपने दो मिराज फाइटर जेट और ड्रोन विमान वहां भेजे। इन विमानों ने आतंकवादियों पर मिसाइलें दागी जिससे उनका सफाया हो गया।सेना के प्रवक्‍ता कर्नल फ्रेडरिक बार्बी ने कहा कि 4 आतंकवादियों को पकड़ा गया है। उनके पास से विस्‍फोटक और सूइसाइड जैकेट बरामद की गई है। उन्‍होंने कहा क‍ि यह ज‍िहादियों का समूह सेना के एक अड्डे पर हमले की तैयारी में था। बार्बी ने कहा कि इस्‍लामिक स्‍टेट के आतंकवादियों के साथ ग्रेटर सहारा इलाके में एक मुठभेड़ चल रही है। इसमें करीब 3 हजार सैनिक शामिल हैं।

आईएस आतंकियों के खिलाफ भी चलाया जा रहा ऑपरेशन

सेना के प्रवक्ता बार्बरी ने यह भी बताया कि माली में आईएस आतंकियों की विंग ‘इस्लामिक स्टेट इन ग्रेटर सहारा’ के खिलाफ भी एक ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इसमें 3000 सैनिकों को लगाया गया है। यह ऑपरेशन करीब एक महीने पहले शुरू किया गया था। इसके नतीजे आने वाले दिनों में बताए जाएंगे। यूनाइटेड नेशंस ने शांति अभियानों के तहत माली में 13 हजार सैनिकों की तैनाती की है। वहीं, फ्रांस ने इस इलाके में 5100 सैनिकों को तैनात किया है।

फ्रांस में धार्मिक टकराव में हुए हमले
धार्मिक टकराव के कारण दो हफ्ते के अंदर हुए दो हमलों ने फ्रांस को हिला दिया है। पहले पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने वाले टीचर का सिर उन्हीं के छात्र ने कलम कर दिया था। इसके बाद नीस में चर्च के बाहर चाकू मारकर तीन लोगों की हत्या कर दी गई। शनिवार को भी एक अज्ञात बंदूकधारी ने चर्च में पादरी को गोली मार दी थी। इस मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है।

राष्ट्रपति मैक्रों ने हमलों को बताया था इस्लामिक आतंकवाद
लगातार हो रहे हमलों के कारण सरकार ने फ्रांस में तैनात सैनिकों की संख्या दोगुनी कर दी है। मैक्रों ने इन घटनाओं को इस्लामिक आतंकवाद करार दिया था। इसके बाद से ही वे मुस्लिम देशों के नेताओं के निशाने पर हैं। कई देशों में फ्रांसीसी सामान के बहिष्कार के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं।

‘कार्टून का समर्थन नहीं करते’
एक मीडिया हाउस से बातचीत में फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा था कि पूरे मामले को गलत तरीके से समझा जा रहा है। वे पैगंबर मोहम्मद के कार्टून का समर्थन नहीं करते। इस कार्टून से कई लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची है। इसके बाद भी देश में अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा की जाएगी। इसमें कार्टून छपना भी शामिल है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *