Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

कांग्रेस चोर तो भाजपा महाचोर; हार्दिक​ पटेल

Hardik Patelअहमदाबाद। पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा है कि महाचोर को हराने के लिए चोर का साथ दे रहे हैं। वे किसी राजनीतिक दल में शामिल नहीं होंगे, चुनाव लडने वाले नहीं हैं, चुनाव लडने को उनकी उम्र भी पूरी नहीं है। उत्तर गुजरात के मांडल में आक्रोश रैली में हार्दिक ने कहा कि कांग्रेस चोर है लेकिन  भाजपा महाचोर। महाचोर को हराने के लिए कांग्रेस का साथ दे रहे हैं।सोमवार को अहमदाबाद के होटल ताज में कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मुलाकात को लेकर ऊहापोह की स्थिति के बाद एक सीसीटीवी फुटेज में राहुल से हार्दिक की मुलाकात का खुलासा होने के बाद हार्दिक ने सफाई देते हुए कहा कि महाचोर को हराने के लिए चोर का साथ दे रहे हैं।

भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस का साथ –

विधानसभा चुनाव में हार्दिक ने भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस का साथ देने का ऐलान पहले ही कर दिया लेकिन वे पार्टी में शामिल नहीं होंगे और ना ही चुनाव लडेंगे। गौरतलब है कि चुनाव लडने के लिए 25 वर्ष की उम्र होना जरुरी है तथा हार्दिक अभी 24 साल के ही हैं।

भाजपा पर खरीद फरोख्त का आरोप –

पाटीदार आरक्षण आंदोलन से जुडे दो पाटीदार नेता नरेन्द्र पटेल व निखिल सवाणी ने भाजपा में शामिल होने के कुछ समय बाद ही पार्टी पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाते हुए भाजपा से इस्तीफा दे दिया है। नरेन्द्र पटेल ने उन्हें एक करोड का आॅफर देकर एडवांस में 10 लाख रुपए देने का दावा करते हुए भाजपा से पेशगी में मिले दस लाख रुपए मीडिया को दिखाऐ। सवाणी राहुल गांधी से जल्द मुलाकात करना चाहते हैं।मेहसाणा के पास संयोजक नरेन्द्र पटेल रविवार को भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी की हाजिरी में भाजपा में शामिल हुए थे, चंद घंटों में ही देर रात पत्रकारों के समक्ष पांच सौ पांच सौ के नोटों की गड्डीयां दिखाते हुए उन्होंने दावा किया कि भाजपा ने उन्हें एक करोड़ का आॅफर देकर बतौर पेशगी दस लाख रु दिए थे। 90 लाख रुपए उन्हें बाद में दिए जाने थे लेकिन इससे पहले ही उन्होंने मीडिया के समक्ष इसका भंडाफोड कर दिया। नरेन्द्र ने कहा कि एक दिन पहले ही भाजपा में शामिल होने वाले पाटीदार नेता वरुण पटेल ने ही यह सौदा कराया था। वरुण ने इसके जवाब में कहा कि कांग्रेस पाटीदारों के साथ राजनीति कर रही है, ये सब उसके इशारे पर हो रहा है।

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल का साथ डेढ साल पहले छोड देने वाले निखिल सवाणी का 15 दिन में ही भाजपा से मन भर गया। सोमवार सुबह एक पत्रकार वार्ता कर उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा पाटीदारों को रुपयों से खरीदने बैठी है लेकिन वे बिकाऊ नहीं हैं, आरक्षण आंदोलन से पहले भी जुडा था आज भी जुडा हूं। सवाणी ने कहा डेढ साल पहले हार्दिक से मतभेद होने के कारण उनसे अलग हुए थे, भाजपा सरकार ने पाटीदारों की 4 बडी मांगे स्वीकार कर जल्द उन्हें अमल में लाने का वादा किया था लेकिन अभी तक वादा पूरा नहीं किया, अब लग रहा है भाजपा केवल समय निकाल रही है ताकि चुनाव आचार संहिता लागू हो जाए और कुछ करना नहीं पडे।

सवाणी ने कहा वे आज भी आंदोलन से जुडे हैं, हार्दिक के साथ उनके मतभेद थे पर मनभेद नहीं लेकिन दोनों का उद्देश्य एक ही है। सवाणी ने कहा कि भाजपा वोट बैंक व नोट की राजनीति कर रही है। राज्य में पाटीदार आरक्षण आंदोलन के संयोजकों को खरीदने निकली है यह भाजपा के लिए शुभ संकेत नहीं हैं। सवाणी ने कहा हार्दिक का साथ डेढ साल पहले ही छूट गया था लेकिन तुरंत भाजपा में शामिल नहीं हुए थे। निखिल ने बताया पाटीदार समाज के हित के लिए 15 दिन पहले भाजपा में शामिल हुआ लेकिन अब ठगा सा महसूस कर रहा हूं चूंकि भाजपा पाटीदारों को समग्र गुजरात में खरीदने को बैचेन है जिससे वे खुद परेशान हैं तथा भाजपा से इस्तीफा दे रहे हैं।

राहुल गांधी से नहीं मिलेंगे हार्दिक –

दो पाटीदार नेताओं के इस तरह भाजपा से इसतीफे व खरीद फरोख्त के आरोपों ने राजय की राजनीति में हलचल मचा दी है। खुद हार्दिक पटेल कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से सोमवार को गांधीनगर में मिलने से इनकार करते हुए दस दिन के लिए चुनावी रैली पर निकल गए। सोमवार को वे उत्तर गुजरात के मांडल में आक्रोश रैली में शिरकत करेंगे। हार्दिक ने पहले ही भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस के समर्थन का ऐलान कर दिया है लेकिन वे राहुल से फेस टू फेस मुलाकात कर खुद पर कांग्रेसी होने व किसी राजनीतिक दल का करीबी होने का ठप्पा नहीं लगाना चाहते इसलिए राहुल से मुलाकात के बजाय व अकेले अपने चुनावी अभियान पर निकल गए। हार्दिक ने कांग्रेस को समर्थन देने के फैसले पर एक ट्वीट में कहा कि यदि पाटीदार व जनता उनका समर्थन करती है तो उनकी रैली व सभा में आएंगे अन्यथा उनका साथ छोड़ देगी।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *