Pages Navigation Menu

Breaking News

मोदी मंत्रिमंडल : 43 मंत्रियों की शपथ, 36 नए चेहरे, 12 का इस्तीफा

 

भारत में इस्लाम को कोई खतरा नहीं, लिंचिंग करने वाले हिन्दुत्व के खिलाफ: मोहन भागवत

देश में समान नागरिक संहिता हो; दिल्ली हाईकोर्ट

सच बात—देश की बात

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के ये अनमोल विचार

tachers dayहर साल की तरह इस बार भी 5 सितंबर को भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती के मौके पर शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक मशहूर दार्शनिक और शिक्षाविद थे। यह शिक्षा के बड़े पक्षधर रहे हैं। इतना ही नहीं डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने भारतीय संस्कृति का देश-विदेश में प्रचार-प्रसार किया। पढ़ें आज शिक्षक दिवस के मौके पर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के कुछ अनमोल विचार-

1.  शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकती बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है.

2. शिक्षक वह नहीं जो छात्र के दिमाग में तथ्यों को जबरन ठूंसे, बल्कि वास्तविक शिक्षक तो वह है जो उसे आने वाले कल की चुनौतियों के लिए तैयार करें।

3. हिन्दू धर्म सिर्फ एक आस्था नहीं है। यह तर्क और अन्दर से आने वाली आवाज का समागम है जिसे सिर्फ अनुभव किया जा सकता है परिभाषित नहीं।

4. ज्ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है।

5. पुस्तकें वह साधन हैं जिनके माध्यम से हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते हैं।

6. शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है। इसलिए विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए।

7. यदि मानव दानव बन जाता है तो ये उसकी हार है, यदि मानव महामानव बन जाता है तो यह उसका चमत्कार है। यदि मनुष्य मानव बन जाता है तो उसकी यह जीत है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »