Pages Navigation Menu

Breaking News

जेपी नड्डा बने भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको जनता ने नकार दिया वे भ्रम और झूठ फैला रहे है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत में शक्ति का केंद्र सिर्फ संविधान; मोहन भागवत

दिल्ली: पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी बस्तियों में खुशी की लहर

hindu pakनागरिकता बिल को लेकर देश में राय बंट गई है. लेकिन नागरिकता बिल से उम्मीद लगाए पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत आए हिंदू और सिख शरणार्थी अभी से खुशियां मनाने लगे हैं. उन्हें लग रहा है कि उनके जीवन में अब उजाला आएगा.संसद में नागरिकता (संशोधन) विधेयक को लेकर राजनीतिक दल भले ही दो खेमों में विभाजित हो गए हैं, मगर ‘आरती’ इस विधेयक के समर्थन में है। उसका भविष्य इसी विधेयक पर टिका है। उसके दो छोटे छोटे बच्चे हैं। एक बच्चा दो साल का है, तो दूसरी बेटी है, जिसने छह दिन पहले ही जन्म लिया है। 2011 में पाकिस्तान से यह हिंदू महिला भारत आई थी। अभी तक इसे भारत की नागरिकता नहीं मिली है।आरती नेबातचीत में कहा कि मैं तो संसद और नागरिकता (संशोधन) विधेयक के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानती हूं। बस इतना पता है कि यह विधेयक हमें भारत का नागरिक होने का कानूनी हक दिला सकता है। मैं चाहती हूं कि विधेयक पास हो जाए। मेरे वश में और कुछ तो है नहीं, लेकिन मैने अपनी नवजात बेटी का नाम ‘नागरिकता’ रख दिया है। उम्मीद है कि ‘नागरिकता’ को भारत की नागरिकता मिल जाएगी।

hindu pak 2दिल्ली के इलाके मंजनू का टीला इलाका, जहां पर पाकिस्तान से आए करीब 140 परिवार रहते हैं, आरती भी उन्हीं में से एक है। उसका पहले एक बेटा है, जिसका नाम लोकेश है। आरती बताती है कि हम 2011 में तीर्थयात्रा के नाम पर वीजा लेकर भारत आए थे। ऐसा भी नहीं है कि अब वहां पर कोई हिंदू नहीं है। पाकिस्तान के सिंध हैदराबाद में बहुत से हिंदू परिवार रहते हैं। वे चाहते हैं कि उन्हें भी किसी तरह भारत में जाने का अवसर मिल जाए। हमारे कई रिश्तेदार अभी वहीं पर हैं। हमें यहां आठ साल से ये कच्चा ठिकाना सिर छुपाने के लिए मिला है।सुविधाएं न हों, लेकिन यही बहुत है कि ‘अमन चैन और अपनों’ के बीच सांस तो ले पा रहे हैं। बेटी के जन्म के बाद कई लोगों ने कहा, अपने मुताबिक कोई नाम रख लो। तभी मुझे पता चला कि देश में हमारी नागरिकता को लेकर कुछ चल रहा है। मैंने अपने बड़ों से बातचीत की, उन्होंने विस्तार से बताया कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक का मामला संसद में है। अगर यह पास हो जाता है तो हमारे ऊपर से पाकिस्तानी होने का ठप्पा मिट जाएगा और हम गौरव से दुनिया को बता सकेंगे कि हम भारतीय हैं। बस यहीं से दिमाग में आया कि बेटी का नाम ‘नागरिकता’ रख दिया जाए। हमारी इस बस्ती में रहने वाले लोगों को जब यह पता चला तो उन्होंने हमें बधाई दी।

‘नागरिकता’ पर क्या है आरती का कहना

एक सवाल के जवाब में आरती हंस पड़ती हैं। उसकी बेटी किसी दूसरी महिला की गोद में थी। वजह, आरती को बैठने में दिक्कत हो रही थी, इसलिए वह लेटकर ही बात कर रही थी। उसने उल्टा एक सवाल हम पर ही दाग दिया। बोली, आप कौन सी ‘नागरिकता’ की बात कर रहे हैं। वैसे तो दोनों ‘नागरिकता’ मेरी हैं। एक मुझे मिल गई है और जबकि दूसरी का इंतजार है। उम्मीद है कि देर-सवेर वह नागरिकता भी मुझे मिल जाएगी।आरती का कहना है कि अगर पाकिस्तान में होते तो पता नहीं, यह ले भी पाती या नहीं। वह कहती हैं, मैं अपनी बेटी ‘नागरिकता’ को टीचर बनाना चाहूंगी। तीन चार साल के बाद इसका सरकारी स्कूल एडमिशन करवा दूंगी। हम भी पढ़ना चाहते थे, लेकिन पाकिस्तान में दूसरी कक्षा के बाद बहुत कुछ खत्म होने लगता है। उसी का शिकार हम भी हुए। पढ़ाई छूट गई, सामने कुछ नजर नहीं आ रहा था। मौका मिलते ही हम भारत आ गए। अब यही उम्मीद कर रहे हैं कि नागरिकता के लिए आठ साल से इंतजार किया है। हो सकता है कि अब यह इंतजार खत्म हो जाए। जो भी हो, लेकिन अब यह तय है मेरी बेटी ‘नागरिकता’, इसी देश में बड़ी होगी, पढ़ेगी लिखेगी।आरती ने बताया कि अब तक वह लोग एक कैद की जिंदगी जी रहे थे. ऐसा लगता था कि किसी पिंजरे में बंद हैं, लेकिन अब इस नागरिकता संशोधन बिल आने से बेहद खुशी का माहौल है. आरती ने बताया कि उन्होंने बेटी को जन्म दिया. बेटी घर की लक्ष्मी होती है, लेकिन मजनू का टीला में वह लोगों की पहचान बनेगी. बेटी का जन्म होने के बाद उन्होंने इसी सोच के साथ उसका नाम ‘नागरिकता’ रखा है. क्योंकि उसके जन्म के साथ ही उन्हें एक नई पहचान मिलने वाली है. जिससे मजनू का टीला में रहने वाले हिंदू शरणार्थियों में खुशी का माहौल है. हर कोई इस पल को अपने तरीके से हर्षोल्लास से मना रहा है.

‘बेटी को बताऊंगी, क्यों रखा ये नाम
 आरती ने बताया कि जब बेटी बड़ी होकर पूछेगी कि उसका नाम ‘नागरिकता’ क्यों रखा गया तो मैं उसे बताऊंगी कि बेटा तेरे आने से ही हमें पहचान मिली है. हमें भारत में भारतवासी होने की नागरिकता मिली है. तू ही हमारी पहचान है इसलिए हमने तेरा नाम नागरिकता रखा था.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *