Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

त्राल से हिजबुल का सफाया, कोई दहशतगर्द जिंदा नहीं बचा

terrorist killed by armyश्रीनगर. दक्षिण कश्मीर का पुलवामा जिला कभी आतंकियों का गढ़ कहा जाता था। यहां के त्राल में आतंकी कमांडर बुरहान वानी और जाकिर मूसा जैसे दहशतगर्द पैदा हुए। दोनों पहले ही सुरक्षाबलों के हाथों मारे जा चुके हैं। शुक्रवार को त्राल के चेवा उल्लार इलाके में 3 आतंकी ढेर हो गए। कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने बताया कि 1989 से त्राल में आतंकी सक्रिय थे, लेकिन अब यहां हिजबुल मुजाहीदीन या किसी दूसरे संगठन का कोई आतंकी मौजूद नहीं है, सभी मारे जा चुके हैं। ऐसा 31 साल में पहली बार हुआ।पुलिस के मुताबिक, अवंतीपोरा के त्राल में आतंकियों के मौजूद होने का इनपुट मिला था। इसके बाद गुरुवार शाम को सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया। सेना के ब्रिगेडियर वी महादेवन ने बताया कि हमने आतंकियों को सरेंडर करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान जवाबी कार्रवाई में 3 आतंकी मारे गए, शुक्रवार को इनके शव बरामद हुए।

कश्मीर के आईजी बोले- पुलवामा जिले में 1989 से आतंकी एक्टिव थे, 31 साल में पहली बार यहां कोई दहशतगर्द जिंदा नहीं बचा

riyaz terror 1अनंतनाग में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला

उधर, अनंतनाग जिले के बिजबेहरा में शुक्रवार को आतंकियों ने सीआरपीएफ की पार्टी पर फायरिंग की। इस हमले में एक जवान और 5 साल के बच्चे को गोली लगी। उन्हें फौरन अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी।

जून में 15 एनकाउंटर में 46 आतंकियों का सफाया

इससे पहले गुरुवार को बारामूला जिले के सोपोर इलाके में भी 2 आतंकी ढेर कर दिए थे। जम्मू-कश्मीर में इस महीने 15 एनकाउंटर में अब तक 46 आतंकी मारे जा चुके हैं। आतंकियों के मददगारों को पकड़ने का सिलसिला भी जारी है। बडगाम के नरबल इलाके में बुधवार को आर्मी और पुलिस ने कार्रवाई कर लश्कर-ए-तैयबा के 5 मददगारों को गिरफ्तार किया था। इनका पाकिस्तान से कनेक्शन मिला है।

26 दिन में 15 एनकाउंटर

तारीख जगह आतंकी मारे गए
1 जून नौशेरा 3
2 जून त्राल (पुलवामा) 2
3 जून कंगन (पुलवामा) 3
5 जून कालाकोट (राजौरी) 1
7 जून रेबन (शोपियां) 5
8 जून पिंजोरा (शोपियां) 4
10 जून सुगू (शोपियां) 5
13 जून निपोरा (कुलगाम) 2
16 जून तुर्कवंगम (शोपियां) 3
18-19 जून अवंतीपोरा और शोपियां 8
21 जून शोपियां 3
23 जून बंदजू (पुलवामा) 2
25 जून सोपोर (बारामूला) 2
25-26 जून त्राल (पुलवामा) 3
 कुल 46
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *