Pages Navigation Menu

Breaking News

झारखंड: दूसरे चरण का मतदान,20 सीटों पर 62.40 फीसदी वोटिंग
रेप केस को 2 महीने में निपटाने की तैयारी में सरकार: रविशंकर प्रसाद  
उन्नाव रेप पीड़िता के परिजनों को 25 लाख और घर देगी योगी सरकार

हैदराबाद गैंगरेप: पुलिस ने बताई उस रात की हैवानियत की कहानी

FB-priyanka-reddyहैदराबाद में एक महिला वेटनरी डॉक्टर के साथ हुई दरिंदगी की वारदात ने सात साल पुराने निर्भया कांड की खौफनाक यादों को ताजा कर दिया. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या कर दी गई. पुलिस ने इस मामले में चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा करते हुए बताया कि दरिंदों ने कैसे इस घटना को अंजाम दिया. शुक्रवार देर शाम प्रेस कॉन्फेंस में साइबराबाद पुलिस ने पुष्टि की है कि महिला डॉक्टर की हत्या से पहले गैंगरेप किया गया था.पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने युवती के साथ गैंगरेप किया और बाद में गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी और शव को जला दिया. हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में टोंडुपल्ली टोल प्लाजा के पास युवती के साथ गैंगरेप किया गया. उसके शव को 25 किलोमीटर दूर ले जाकर रंगा रेड्डी जिले के चटनपल्ली पुल पर पेट्रोल छिड़ककर जला दिया.पुलिस के मुताबिक आरोपियों की पहचान मोहम्मद आरिफ, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के रूप में हुई है. पुलिस ने इस बात की भी पुष्टि की है कि आरोपियों ने अपराध को अंजाम देने के दौरान शराब पी रखी थी. इस घटना का मुख्य आरोपी आरिफ है.

  • हैदराबाद पुलिस ने किया पूरे मामले का खुलासा
  • दरिंदों ने पहले ही बनाई थी गैंगरेप की योजना
  • चारों आरोपियों पर निर्भया एक्ट के तहत केस दर्ज

पार्किंग के पास देख बनाया प्लान

पुलिस ने बताया कि चारों लड़के टोल प्लाजा पर खड़े थे. उसी दौरान दरिंदों ने डॉक्टर को पार्किंग के पास देखा था और फिर शराब पीते हुए गैंगरेप का प्लान बनाया. नवीन नाम के लड़के ने महिला डॉक्टर की स्कूटी को पंक्चर कर दिया था. रात 9.18 बजे के करीब महिला डॉक्टर अपनी स्कूटी लेने पहुंचीं. लेकिन गाड़ी पंक्चर थी तो आरिफ ने मदद करने के लिए हाथ बढ़ाया. शिवा नाम का लड़का स्कूटी लेकर गया और बताया कि दुकान बंद हो चुकी है.महिला डॉक्‍टर कैब लेकर गचिबोवली गईं और रात करीब 9 बजे अपनी स्‍कूटी लेने के लिए वापस लौटीं। उन्‍होंने पाया कि उनकी स्‍कूटी के एक टायर में हवा नहीं है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने ही साजिश के तहत स्‍कूटी से हवा न‍िकाल दी थी। महिला डॉक्‍टर स्कूटी से हवा निकलने के चलते परेशान थीं। इसी दौरान मोहम्‍मद आरिफ उनके पास मदद देने के बहाने गया। उसका एक हेल्‍पर शिवा स्‍कूटी को ठीक कराने के बहाने कुछ दूर ले गया।

मुंह-नाक दबाकर मारा, पेट्रोल से जलाया

इसके बाद इन दरिंदों ने महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप किया. मोहम्‍मद आरिफ ने हैवानियत के दौरान पीड़‍िता का मुंह दबा रखा था ताकि उनकी चीखों को कोई सुन न सके। वह तड़पती रहीं और दरिंदे उनके साथ हैवानियत करते रहे।पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने घटना को अंजाम देते हुए लड़की के मुंह और नाक को कसकर दबा रखा ताकि बाहर आवाज न जा सके और इसकी वजह से दम घूटने से लड़की की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि गैंगरेप और लड़की हत्या के बाद आरोपियों ने पेट्रोल खरीदा और फिर जला दिया.बता दें कि हैदराबाद-बेंगलुरु हाइवे पर एक सरकारी महिला डॉक्‍टर की अधजली लाश मिली थी. लाश मिलने के बाद माना जा रहा था कि 26 साल की महिला डॉक्‍टर के साथ रेप के बाद उसकी हत्‍या कर दी गई. हैवानियत की इंतहा यह थी कि आरोपियों ने डॉक्‍टर की लाश को जलाकर एक फ्लाईओवर के नीचे फेंक दिया था. असल में महिला डॉक्‍टर रात में अपने घर लौट रही थीं, इसी दौरान रास्‍ते में उनकी बाइक पंक्चर हो गई थी.

गैंगरेप, हत्‍या और जला देने के 4 आरोपी अरेस्‍ट
तेलंगाना पुलिस ने महिला डॉक्‍टर के साथ गैंगरेप, हत्‍या और जला देने के 4 आरोपियों को अरेस्‍ट कर लिया है। गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान मोहम्मद आरिफ, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि हैवानियत की यह घटना बुधवार रात 9.35 से 10 बजे के बीच की है। पुलिस ने बताया कि गैंगरेप के बाद आरोपी डॉक्‍टर के शव को एक ट्रक पर लादकर हाइवे पर कुछ आगे बढ़े और एक पेट्रोल पंप से पेट्रोल और डीजल खरीदा।

सड़क से सोशल मीडिया तक न्याय की गुहारपुलिस पर सवाल
इसके बाद तीनों लोग जबरन महिला डॉक्‍टर को पास के ही एक खाली प्‍लॉट में ले गए और उनके साथ गैंगरेप किया। स्‍कूटी दूर करने के बाद श‍िवा लौटा और उसने भी महिला डॉक्‍टर के साथ रेप किया। बता दें कि हैदराबाद के इस निर्भया कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक पीड़‍िता डॉक्‍टर के हत्‍यारे को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग उठ रही है। इस बीच, पीड़‍िता की मां ने सभी दोषियों को सबके सामने जिंदा जलाने की मांग की है। परिवार वालों ने यह भी कहा है कि साइबराबाद पुलिस उन्‍हें दौड़ाती रही। अगर उसने तत्‍काल कार्रवाई की होती तो पीड़‍िता को जिंदा बचाया जा सकता था।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *