Pages Navigation Menu

Breaking News

राम मंदिर के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिए 5 लाख 100 रुपये

 

भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

तिब्बत का मुद्दा उठाकर चीन को घेरने का समय

tibatनई दिल्ली (मनोज वर्मा ) तिब्बत एक ऐसा मसला है,जब भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठाया जाता है, तब चीन इसे अंदरूनी मसला कहकर बंद कराने की कोशिश करता है. हकीकत में तिब्बत चीन का अंदरूनी मसला है ही नहीं .  ऐतिहासिक और प्राचीन दस्तावेज इसकी तस्दीक करते हैं कि तिब्बत हमेशा से चीन से अलग भी रहा है और आजाद भी. चीन ने नाजायज तरीके से दुनिया के सामने अलग तस्वीर रखते हुए उस पर कब्जा कर लिया. अब वहां बड़े पैमाने पर धार्मिक स्वतंत्रता और मानवाधिकार का हनन कर रहा है.50 के दशक में संयुक्त राष्ट्र संघ में ब्रिटेन और कई अन्य देशों ने जोर-शोर से तिब्बत पर चीन के गलत कब्जे का मसला उठाया था. लेकिन चीन ने सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य होने के नाते इस मुद्दे को कभी उठने नहीं दिया. उसने हमेशा कोशिश की कि किसी भी तरह तिब्बत का मसला संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद के सामने ही नहीं आए.अगर इस समय तिब्बत की फिर से आजादी और मानवाधिकार हनन का मसला अंतरराष्ट्रीय स्तर और दोपक्षीय स्तर पर भारत उठाए तो उसे ना केवल अंतरराष्ट्रीय समर्थन मिल सकता है बल्कि चीन पर एक दबाव भी डाला जा सकता है. तिब्बत का मसला वो मुद्दा भी है, जो चीन का असली साजिशी चेहरा सामने लाता है.हकीकत में ये वो समय भी है जब दुनिया तिब्बत पर नाजायक कब्जे की बात ज्यादा ध्यान से सुन सकती है. सारे दस्तावेजों पर गौर कर सकती है. अगर 50 के दशक को देखा जाए तो जाहिर है कि चीन ने धोखे से एक इतने बड़े देश पर आसानी से कब्जा कर लिया, जो अगर आज होता तो वो ना केवल क्षेत्रफल के लिहाज से दुनिया का 10वां बड़ा देश होता बल्कि भारत और चीन के बीच बफर स्टेट का भी काम करता.

तिब्बत सदियों से एक स्वतंत्र देश था लेकिन मंगोल राजा कुबलई खान ने युवान राजवंश की स्थापना की और उसने तब तिब्बत, चीन, वियतनाम और कोरिया तक अपने राज्य का परचम लहराया था। फिर सत्रहवहीं शताब्ती में चीन के चिंग राजवंश के तिब्बत के साथ रिश्ते बने और फिर लगभग 260 वर्ष के बाद चीन की चिंग सेना ने तिब्बत पर अधिकार कर लिया लेकिन 3 वर्ष के भीतर विदेशी शासन को उखाड़ फेंका और 1912 में तेरवें दलाई लामा ने तिब्बत की स्वतंत्रता की घोषणा की। तब से लेकर 1951 तक तिब्बत एक स्वंत्र देश के रूप में जाना जाता था।हालांकि चीन ने तिब्बत पर अपने नियंत्रण की शुरुआत तो तभी से कर दी थी जब सितंबर 1949 में साम्यवादी चीन ने तिब्बत पर चढ़ाई कर दी। उन्होंने इस दौरान पूर्वी तिब्बत के राज्यपाल के मुख्यालय चामदो पर अधिकार कर लिया। तिब्बत को बाहरी दुनिया से पुरी तरह काट दिया गया लेकिन तिब्बतियों ने 11 नवंबर 1950 चीन के इस आक्रमण के विरोध में संयुक्त राष्ट्र में अर्जी लगाई। लेकिन संयुक्त राष्ट्र महासभा की संचालन समिति ने इस मुद्दे को टाल दिया।तिब्बती लोगों के जबरदस्त प्रतिरोध की परवाह न करते हुए चीन ने तिब्बत को अपना एक उपनिवेश बनाने की योजना को लागू करने के लिए तिब्बत से हुए किसी भी समझौते को नहीं माना और 9 सितम्बर, 1951 को हजारों चीनी सैनिकों ने ल्हासा में मार्च किया। तिब्बत पर जबरन अधिग्रहण के बाद योजनाबद्ध रूप से यहां के बौद्ध मठों का विनाश किया गया, धर्म का दमन किया गया, लोगों की राजनीतिक स्वतंत्रता छीन ली गयी, बड़े पैमाने पर लोगों को गिरफ्तार और कैद किया गया तथा निर्दोष पुरुषों, महिलाओं और बच्चों का कत्ले-आम किया गया।चीनियों ने इसका ऐसा निर्दयतापूर्ण प्रतिकार किया जैसा कि तिब्बत के लोगों ने कभी नहीं देखा था। हजारों पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को सरेआम चौराहों पर मौत के घाट उतार दिया गया और बहुत से तिब्बतियों को कैद कर दिया गया या निर्वासित कर दिया गया। अंतत: 17 मार्च 1959 को दलाई लामा ने ल्हासा छोड़कर भारत से राजनीतिक शरण मांगी और वे अपने हजारों अनुयायियों के साथ भारत में आकर बस गए।इसके बाद तिब्बत में तिब्बत का चीनीकरण शुरू हुआ और तिब्बत की भाषा, संस्कृति, धर्म और परम्परा सबको निशाना बनाया गया। ज्यादा से ज्यादा चीनियों को बसाकर वहां की डेमोग्राफी को चेंज कर दिया गया।
तिब्बत प्राचीन काल से ही योगियों और सिद्धों का घर माना जाता रहा है तथा अपने पर्वतीय सौंदर्य के लिए भी यह प्रसिद्ध है। संसार में सबसे अधिक ऊंचाई पर बसा हुआ प्रदेश तिब्बत ही है। तिब्बत मध्य एशिया का सबसे ऊंचा प्रमुख पठार है। वर्तमान में यह बौद्ध धर्म का प्रमुख केंद्र है। राहुलजी सांस्कृतायन के अनुसार तिब्बत के 84 सिद्धों की परम्परा ‘सरहपा’ से आरंभ हुई और नरोपा पर पूरी हुई। सरहपा चौरासी सिद्धों में सर्व प्रथम थे। इस प्रकार इसका प्रमाण अन्यत्र भी मिलता है लेकिन तिब्बती मान्यता अनुसार सरहपा से पहले भी पांच सिद्ध हुए हैं। इन सिद्धों को हिन्दू या बौद्ध धर्म का कहना सही नहीं होगा क्योंकि ये तो वाममार्ग के अनुयायी थे और यह मार्ग दोनों ही धर्म में समाया था। बौद्ध धर्म के अनुयायी मानते हैं कि सिद्धों की वज्रयान शाखा में ही चौरासी सिद्धों की परंपरा की शुरुआत हुई, लेकिन आप देखिए की इसी लिस्ट में भारत में मनीमा को मछींद्रनाथ, गोरक्षपा को गोरखनाथ, चोरंगीपा को चोरंगीनाथ और चर्पटीपा को चर्पटनाथ कहा जाता है। यही नाथों की परंपरा के 84 सिद्ध हैं।
भारत का तीर्थ : कैलाश पर्वत और मानसरोवर तिब्बत में ही स्थित है। यहीं से ब्रह्मपुत्र नदी निकलती हैं। तिब्बत स्थित पवित्र मानसरोवर झील से निकलने वाली सांग्पो नदी पश्चिमी कैलाश पर्वत के ढाल से नीचे उतरती है तो ब्रह्मपुत्र कहलाती है। तिब्बत के मानसरोवर से निकलकर बाग्लांदेश में गंगा को अपने सीने से लगाकर एक नया नाम पद्मा फिर मेघना धारण कर सागर में समा जाने तक की 2906 किलोमीटर लंबी यात्रा करती है। कालिदास ने कैलाश और मानसरोवर के निकट बसी हुई कुबेर की नगरी ‘अलकापुरी’ का ‘मेघदूत’ में वर्णन किया है।प्राचीनकाल में तिब्बत को त्रिविष्टप कहते थे। भारत के बहुत से विद्वान मानते हैं कि तिब्बत ही प्राचीन आर्यों की भूमि है। पौराणिक ग्रंथों अनुसार वैवस्वत मनु ने जल प्रलय के बाद इसी को अपना निवास स्थान बनाया था और फिर यहीं से उनके कुल के लोग संपूर्ण भारत में फैल गए थे।
 वेद-पुराणों में तिब्बत को त्रिविष्टप कहा गया है। महाभारत के महाप्रस्थानिक पर्व में स्वर्गारोहण में स्पष्ट किया गया है कि तिब्बत हिमालय के उस राज्य को पुकारा जाता था जिसमें नंदनकानन नामक देवराज इंद्र का देश था। इससे सिद्ध होता है कि इंद्र स्वर्ग में नहीं धरती पर ही हिमालय के इलाके में रहते थे। वहीं शिव और अन्य देवता भी रहते थे। कई माह तक वैवस्वत मनु (इन्हें श्रद्धादेव भी कहा जाता है) द्वारा नाव में ही गुजारने के बाद उनकी नाव गोरी-शंकर के शिखर से होते हुए नीचे उतरी। गोरी-शंकर जिसे एवरेस्ट की चोटी कहा जाता है। दुनिया में इससे ऊंचा, बर्फ से ढंका हुआ और ठोस पहाड़ दूसरा नहीं है।तिब्बत में धीरे-धीरे जनसंख्या वृद्धि और वातावरण में तेजी से होते परिवर्तन के कारण वैवस्वत मनु की संतानों ने अलग-अलग भूमि की ओर रुख करना शुरू किया। इन आर्यों के ही कई गुट अलग-अलग झुंडों में पूरी धरती पर फैल गए और वहां बस कर भांति-भांति के धर्म और संस्कृति आदि को जन्म दिया। मनु की संतानें ही आर्य-अनार्य में बंटकर धरती पर फैल गईं। त्रिविष्टप अर्थात तिब्बत या देवलोक से वैवस्वत मनु के नेतृत्व में प्रथम पीढ़ी के मानवों (देवों) का मेरु प्रदेश में अवतरण हुआ। वे देव स्वर्ग से अथवा अम्बर (आकाश) से पवित्र वेद पुस्तक भी साथ लाए थे। इसी से श्रुति और स्मृति की परम्परा चलती रही। वैवस्वत मनु के समय ही भगवान विष्णु का मत्स्य अवतार हुआ।
 भारत से काम करती है तिब्बत की निर्वासित सरकार 
भारत में तिब्बत की निर्वासित सरकार कई दशकों से काम कर रही है. इसको चलाने के लिए सबसे बड़ा फंड खुद अमेरिकी सरकार देती है. दो साल पहले जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस मदद को रोकने की कोशिश की तो अमेरिकी कांग्रेस में इसका प्रबल विरोध हुआ. नतीजतन अमेरिकी मदद अबाध तरीके से जारी रही. इसके अलावा भारत और अन्य निजी स्रोतों से भी तिब्बत की निर्वासित सरकार की मदद की जाती है. इस समय इस सरकार के मुखिया लोबगांग सांगे हैं.सांगे ने दो दिन पहले एक प्रेस कांफ्रेंस करके ये बात कही भी कि ये उचित समय है जबकि तिब्बत में मानवाधिकार हनन का मुद्दा जोरशोर से संयुक्त राष्ट्र में उठाया जाना चाहिए. ये बात अपनी जगह एकदम सही लगती है.

अगर तिब्बत होता तो चीन नहीं कर पाता ये सब
अगर तिब्बत आज एक आजाद देश के तौर पर मौजूद रहता तो भारत और चीन के बीच सीमा विवाद की स्थिति ही पैदा नहीं होती.चीन ने ये मनमाने दावे ही नहीं कर पाता कि ये जमीन उसकी होती. चीन अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम से लेकर लद्दाख तक के सीमावर्ती इलाकों पर कुछ कुछ समय बाद नए दावे करने लगता है और उस जमीन को हड़पने की कोशिश करता है.

चीन को कठघरे में खड़ा किया जा सकेगा
अगर भारत इस समय तिब्बत के मसले को उठाए तो अमरिका से तो उसे इस पर पूरा समर्थन मिलेगा ही बल्कि दुनिया के तमाम देश इस मुद्दे पर उसका साथ देंगे, ये चीन पर अपने आप में एक बड़े दबाव का काम करेंगे. चीन के आगे बढ़ते पैरों को इससे रोका ही नहीं जा सकेगा बल्कि उसको कठघरे में खड़ा किया जा सकेगा. तिब्बत में मानवाधिकार हनन के मामले सामने आने के साथ उसकी और किरकिरी होगी.यूं भी चीन को ये बात लगातार चुभती रही है कि हमने क्यों दलाई लामा और उनके समर्थकों को अपने यहां शरण दे रखी है. साथ ही भारत से ही तिब्बत की निर्वासित सरकार काम करने का दावा करती है. तिब्बत और दलाई लामा के पास आज भी वो दस्तावेज और ग्रंथ हैं, जो साबित करते हैं कि तिब्बत का इतिहास ईसा पूर्व से रहा है. चीन और तिब्बत दो अलग राष्ट्र थे.तिब्बती शरणार्थियों के जरिए भारत उनकी आवाज को दुनिया के सामने रख सकता है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *