Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

जामिया लाइब्रेरी में दिखे लोग पथराव में थे शामिल

jamiaजामिया कैंपस में बल के इस्तेमाल को लेकर दिल्ली पुलिस आलोचनाओं के घेरे में है. इंडिया टुडे टीवी की ओर से की गई विजुअल्स की जांच से सामने आया है कि कुछ लोग जो पत्थर हाथ में लेकर पहले रेलिंग्स पर कूदते देखे गए, वहीं जामिया मिलिया इस्लामिया के रीडिंग रूम (लाइब्रेरी) में भी घुसे. ये विजुअल्स पुलिस के रीडिंग रूम में घुसने और लाठीचार्ज करने से पहले के हैं.  जामिया कोऑर्डिनेशन कमेटी की ओर से रिलीज की गईं वीडियो फुटेज, दिल्ली पुलिस सोर्सेज और यूट्यूब चैनल मखतूब मीडिया का तुलनात्मक अध्ययन दिखाता है कि लाइब्रेरी के बाहर पत्थर फेंकने वाले कई लोग पुलिस के रीडिंग रूम में दाखिल होने से और बल प्रयोग करने से पहले ही वहां छुपने के लिए घुस चुके थे. अभी तक ये स्थापित नहीं हो सका है कि फुटेज में दिखाई देने वाले ये लोग जामिया के छात्र हैं या बाहरी लोग.

दिल्ली पुलिस सोर्सेज की ओर से रिलीज सीसीटीवी फुटेज में एक गंजे व्यक्ति को पत्थर में हाथ लिए बॉलकनी से कूदते देखा जा सकता है. मखतूब मीडिया की ओर से यूट्यूब पर रिलीज एक और फुटेज में उसी व्यक्ति को लाइब्रेरी के अंदर देखा जा सकता है. मखतूब मीडिया की ओर से यूट्यूब पर जारी फुटेज में – ‘जामिया लाइब्रेरी में दिल्ली पुलिस की क्रूरता’ दिखाने का दावा किया गया था. इसी कमरे से एक और फुटेज स्थापित करती है कि यही व्यक्ति पुलिस के लाइब्रेरी में प्रवेश करने से पहले एक ग्रुप के साथ रीडिंग रूम में घुसा. इस ग्रुप के कुछ लोगों ने अपने चेहरों को हाथ से ढका हुआ है.

हैट और लाल स्वेटशर्ट पहने ये व्यक्ति बॉलकनी में पत्थर फेंकने वालों के साथ देखा गया. इस व्यक्ति को भी पुलिस के रीडिंग रूम में घुसने से पहले वहां प्रवेश करते देखा गया. कपड़े से मुंह ढके इस व्यक्ति को लाइब्रेरी में बैठे छात्रों को हाथ के इशारे से चुप रहने के लिए कहते देखा जा सकता है.लंबे बालों और दाढ़ी वाले एक और व्यक्ति को दोनों वीडियो में काफी सक्रिय देखा जा सकता है. इस व्यक्ति ने दोनों हाथों में कुछ पकड़ा हुआ है और इसे बॉलकनी में पत्थर फेंकने वालों के साथ और रीडिंग रूम, दोनों जगह देखा जा सकता है.हालांकि विभिन्न स्रोतों की ओर से रिलीज जामिया की कुछ फुटेज में टाइम स्टैम्प नहीं है, लेकिन दो वीडियो में सक्रिय टाइम स्टैम्प है. मान लिया जाए कि दोनों सीसीटीवी कैमरा समान सर्वरों से जुड़े थे और एक ही घड़ी फॉलो कर रहे थे.ऐसे में बॉलकनी में पत्थर लेकर खड़े लोगों और पुलिस के लाइब्रेरी में बल प्रयोग के समय अंतर को देखा जाए तो कम से कम तीन मिनट का फर्क है. यानि बॉलकनी में खड़े लोगों को देखे जाने के कम से कम तीन मिनट बाद पुलिस लाइब्रेरी में घुसी.

इंडिया टुडे के विजुअल्स की जांच से मदद मिलेगी

वीडियो की जांच पर प्रतिक्रिया देते हुए क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने कहा, ‘हम हर एंगल से मामले की जांच कर रहे हैं. हमारे पास इस बात के सबूत हैं कि जो लोग पथराव में शामिल थे, वे लाइब्रेरी में छिपे हुए थे और कैंपस में दिल्ली पुलिस ने प्रवेश किया था.’ उन्होंने कहा कि हम इंडिया टुडे टीवी की ओर से की गई विजुअल्स की जांच को भी देखेंगे. इससे हमें बहुत मदद मिलेगी.

100 से अधिक की सूची तैयार…

उन्होंने कहा कि सीसीटीवी में कई चेहरे हैं, जो लाइब्रेरी में मौजूद थे. हमने उनमें से कुछ की पहचान की है. हम पुख्ता जांच के बाद उन्हें गिरफ्तार करेंगे. क्राइम ब्रांच की ओर से पहले ही 70 लोगों की तस्वीरें जारी की जा चुकी हैं. हमने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर 100 से अधिक लोगों की सूची तैयार की है.

‘JCC फुटेज की पूरी जिम्मेदारी लेता है’

जामिया यूनिवर्सिटी के एक एमफिल छात्र और जामिया समन्वय समिति (JCC) के सदस्य सफूरा जार्गर ने कहा कि ‘JCC सीसीटीवी फुटेज की पूरी जिम्मेदारी लेता है. यह 100 फीसदी प्रामाणिक है.’ वीडियो फुटेज से खुद को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के अलग करने पर सफूरा जार्गर ने कहा कि जामिया क्या अलग करेगा, हमने खुद ही डरपोक प्रशासन से दूरी बना ली है. जब वीडियो के स्रोत के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इसका खुलासा करने से इनकार कर दिया.

सीसीटीवी फुटेज साझा नहीं कियाः प्रॉक्टर

जामिया के प्रॉक्टर वसीम अहमद खान ने इंडिया टुडे को बताया, ‘कॉलेज प्रशासन ने MHRD, NHRC और दिल्ली पुलिस के अलावा किसी और के साथ सीसीटीवी फुटेज साझा नहीं किया. उन्होंने कहा कि कोई भी सुराग नहीं है कि ये फुटेज कहां से लीक हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि छात्रों के बीच दंगाइयों की पहचान नहीं कर सकते थे. हमने उनकी मदद की होगी. हालांकि उन्होंने जो किया वह बिल्कुल गलत था.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *