Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

केरल में लव जिहाद सिंडिकेट….

01 Love Jihad News_Dopahar Ka Samana_Hindi_29th June 2011_pg 2NIA सूत्रों के मुताबिक केरल लव जिहाद मामले में जांच एजेंसी को बड़ी लीड मिली है. एनआईए को लव जिहाद करने वाले सिंडिकेट का पता चला है. अब NIA जल्द ही इस मामले पर केस दर्ज कर अपनी जांच शुरू करेगा.सूत्र बताते हैं कि NIA ने ऐसे 12 लोगों के सिंडिकेट की पहचान की है जो केरल में बड़े पैमाने पर गैर मुस्लिमों का धर्म परिवर्तन करने में शामिल हैं. यह भी बताया जा रहा है कि सिंडिकेट में शामिल ज्यादातर लोग ‘पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ के सदस्य हैं. सिंडिकेट में शामिल लोग गैर मुस्लिम लड़कियों का धर्म परिवर्तन करते हैं. धर्म परिवर्तन के बाद उनकी शादियां कराई जाती हैं. केरल के चेरानी में एक ऐसी संस्था की पहचान हुई है जो गैर मुस्लिमों के धर्म परिवर्तन कराने में शामिल है.NIA सूत्रों के मुताबिक पिछले साल हुए ऐसे ही लव जिहाद के मामले की जांच में भी इसी 12 लोगों के सिंडिकेट का नाम सामने आया था. जिसके आधार पर पिछले साल NIA ने शुरुआजी जांच (PE) रजिस्टर किया था.आपको बता दें कि इससे पहले केरल उच्च न्यायालय ने 25 मई को 24 साल की हिंदू महिला हादिया की शादी को रद्द कर दिया था. महिला ने मुस्लिम व्यक्ति से दिसंबर 2016 में शादी की थी. जिसके बाद महिला ने शादी के लिए इस्लाम स्वीकार किया था. अदालत ने महिला हादिया को माता-पिता के पास रखने का निर्देश दिया था. सर्वोच्च न्यायालय ने 2016 में केरल में एक हिंदू लड़की के धर्मांतरण और शादी की जांच एनआईए से कराने का आदेश दिया है. सर्वोच्च न्यायालय के सेवानिृवत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति आर.वी. रविंद्रन जांच की निगरानी करेंगे.

केरल के चर्चित लव जिहाद मामले की जांच अब सुप्रीम कोर्ट ने एनआईए के हवाले कर दी है. सुप्रीम कोर्ट ने SC के रिटायर्ड जज ने नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया है. एनआईए ने कोर्ट से कहा है कि वह इस मामले की तफ्तीश से जांच करेगी, अभी जांच पूरी नहीं हुई है. मामले में पति को शुक्रवार तक अपना पक्ष रखने को कहा है. कोर्ट ने NIA से कहा कि वह अपनी जांच पूरी कर रिपोर्ट दायर करें. कोर्ट ने NIA से कहा है कि वह देखें क्या इसमें कोई ISIS का एंगल है?कोर्ट ने कहा कि सभी लोग इसमें न्याय चाहते हैं, इसलिए हम इसमें एक रिटायर्ड जज मुहैया करा सकते हैं. वहीं वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि एनआईए ने पिछले काफी समय में अपनी जांच में यू-टर्न लिए हैं, इसलिए उसपर विश्वास कैसे दिया जा सकता है.

आपको बता दें कि इससे पहले केरल उच्च न्यायालय ने 25 मई को 24 साल की हिंदू महिला हादिया की शादी को रद्द कर दिया था. महिला ने मुस्लिम व्यक्ति से दिसंबर 2016 में शादी की थी. जिसके बाद महिला ने शादी के लिए इस्लाम स्वीकार किया था. अदालत ने महिला हादिया को माता-पिता के पास रखने का निर्देश दिया था.पीड़ित महिला के पिता को कोर्ट में पेश होने का सुप्रीम कोर्ट से आदेश देने का आग्रह करते हुए शफीन के वकील ने दावा किया कि महिला ने अपनी शादी से दो साल पहले ही खुद से इस्लाम कबूल कर लिया था.पीड़ित महिला के पिता की तरफ से वकील माधवी दीवान ने कहा कि हादिया एक असहाय पीड़ित है, जो बुरी तरह गिरोह में फंस गई, जो मनोवैज्ञानिक तरीकों का इस्तेमाल कर लोगों को इस्लाम अपनाने को प्रेरित करता है. वकील ने कहा कि जहां एक अपराधी है और उनकी बेटी पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया व आईएस से संबंध वाले एक नेटवर्क में फंस गई है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *