Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

बुलंदशहर में साधुओं की हत्या की अखाड़ा परिषद ने की निंदा

ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने गांव के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया 

मेरठ एडीजी जोन प्रशांत कुमार ने बताया, ”बुलंदशहर में शिव मंदिर पर रहने वाले दो साधुओं की हत्या का मामला। ग्रामीणों की मदद से पुलिस ने गांव के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। नशे में धुत है व्यक्ति। बुलंदशहर पुलिस के मुताबिक उक्त व्यक्ति ने बाबा का चिमटा गायब कर दिया था जिसके चलते बाबा ने इसे डांटा था। प्रथम दृष्टया इसके चलते ही उक्त व्यक्ति ने दोनों बाबा को मारा है, ग्रामीणों ने भी उक्त व्यक्ति को घटनास्थल से तलवार ले जाते हुए देखा था, फिलहाल आरोपी गिरफ्त में है, बाकी होश में आने पर सख्ती से पूछताछ की जाएगी। वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को संज्ञान में लेते हुए डीएम, एसएसपी व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को तत्काल मौके पर पहुंचकर इस वारदात के संबंध में विस्तृत आख्या देने व दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करने निर्देश दिए हैं।कड़े जाने के बाद हत्‍यारोपित ने पुलिस के सामने बयान दिया कि भगवान की ऐसी ही इच्‍छा थी, इसीलिए उसने इन साधुओं को मार डाला। यह बयान भी हैरत करने वाला है। हालांकि जब हत्‍यारोपित ने यह बयान दिया, वह नशे की हालत में था। लेकिन दोहरे हत्‍याकांड के बाद पुलिस हर पहलु की जांच में जुट गई है।यह भी बताया कि तलवार से गर्दन नहीं काटी। साधु का एक डंडा पड़ा था। उसी डंडे से सिर में वार करके हत्या की है। हत्‍यारोपित से बाद में कड़ाई के साथ पूछताछ की जाएगी। लोगों में गुस्‍से को देखते इलाके में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है।

बुलंदशहर में साधुओं की हत्या की अखाड़ा परिषद ने की निंदा

narendra-giri_18892860प्रयागराज. यूपी के बुलंदशहर  में सोमवार की देर रात 2 साधुओं की हत्या किए जाने की साधु संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषध ने कड़े शब्दों में निन्दा की है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने साधुओं की हत्या पर दुख व्यक्त करते हुए योगी सरकार से इस जघन्य हत्याकांड के जल्द खुलासे और दोषियों को सलाखों के पीछे भेजे जाने की मांग की है.महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि चिमटा चोरी के आरोप में साधुओं की पीट-पीटकर हत्या किए जाने की घटना निंदनीय है. उन्होंने कहा है कि पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है और पूछताछ कर रही है, लेकिन घटना की पूरी सच्चाई लोगों के सामने आनी चाहिए.

बुलंदशहर और महाराष्ट्र की घटना में तुलना उचित नहीं

महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा कि बुलंदशहर के पगोना गांव में साधुओं की हत्या की तुलना महाराष्ट्र के पालघर जिले में जूना अखाड़े के साधुओं की हत्या से करना कतई उचित नहीं है. गौरतलब है कि बुलन्दशहर के पगोना गांव स्थित शिव मंदिर पर पिछले करीब 10 वर्षों से 55 वर्षीय साधु जगनदास और 35 वर्षीय साधु सेवादास रहते थे. दोनों साधु मंदिर में रहकर पूजा-अर्चना में लीन रहते थे. लेकिन सोमवार की देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की लाठी डंडे से पीटकर नृशंस हत्या कर दी गई.

सीएम योगी ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश

मंगलवार सुबह जब ग्रामीण मंदिर में पहुंचे तो उन्हें साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले. इस मामले को गम्भीरता से लेते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी बुलन्दशहर के डीएम और एसएसपी को सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं.

अयोध्या के संत समाज में रोष

उधर अयोध्या के संत समाज ने बुलंदशहर की घटना पर काफी आक्रोश व्यक्त किया है. संत समाज का कहना है कि वर्ग विशेष के लोग भगवाधारियों को टारगेट कर उनकी हत्या कर रहे हैं. ये बेहद निंदनीय है. संतों ने मांग की है कि केंद्र और प्रदेश सरकार दोषियों को चिन्हित कर उनके ऊपर कठोर कार्रवाई करें, फांसी की सजा दें. यही नहीं संतो ने ये भी ऐलान किया है कि लॉकडाउन क बाद महाराष्ट्र और बुलंदशहर की घटना की वो खुद जांच करेंगे.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *