Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

केरल में भयंकर विमान हादसा दो टुकड़ों में टूटा विमान

plane_air_1596818989_618x347केरल के कोझीकोड में रनवे पर विमान के फिसलने का मामला सामने आया है. कोझीकोड के करीपुर हवाई अड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान उतरते समय रनवे पर फिसल गया. यह विमान दुबई से यात्रियों को लेकर आ रहा था. बताया जा रहा है कि विमान में 191 यात्री सवार थे.केरल में विमान हादसा में राज्य के डीजीपी ने जानकारी दी कि 11 लोगों की मौत हो गई है, इस हादसे में कई लोग घायल हो गए हैं. वहीं हादसे में दोनों पाटलट की मौत हो गई है.डीजीसीए के मुताबिक हादसे में 170 लोग सुरक्षित हैं.

हेल्पलाइन नंबर जारी

सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन ने बताया कि हमारे कर्मी बचाव कार्य में सहायता कर रहे हैं. हमारे पास अभी तक हताहतों की संख्या नहीं है लेकिन हमारे कर्मी विमान में सवार यात्रियों को निकालने में मदद कर रहे हैं. वहीं हादसे के बाद हेल्पलाइन नंबर (0565463903, 0543090572, 0543090572, 0543090575) भी जारी किए गए हैं.

अस्पताल में भर्ती

विमान हादस में कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. फिलहाल घटनास्थल पर अफरातफरी का माहौल बना हुआ है और राहत-बचाव का काम किया जा रहा है. इस विमान में वंदे भारत मिशन के तहत दुबई से यात्रियों का वापस लाया जा रहा था.

कोझिकोड एयरपोर्ट का रनवे, जोखिम भरी होती है लैंडिंग

केरल का कोझिकोड एयरपोर्ट भौगोलिक रूप से ‘टेबलटॉप’ है. जिसे लैडिंग के लिए खतरनाक माना जाता है.डीजीसीए के मुताबिक एअर इंडिया एक्सप्रेस AXB1344, बोइंग 737 दुबई से कालीकट आ रहा था. विमान में 189 यात्री सवार थे. भारी बारिश के कारण रनवे पर उतरने के बाद विमान फिसल गया और घाटी में गिर गया. वहीं विमान दो टुकड़ों में टूट गया. विमान में 189 यात्री और 6 क्रू मेंबर सवार थे. इनमें 10 बच्चे भी शामिल थे.

इस हादसे के होने में टेबलटॉप रनवे को भी वजह माना जा रहा है. दरअसल, भौगोलिक रूप से कोझिकोड एयरपोर्ट ‘टेबलटॉप’ है. इसका मतलब है कि हवाई पट्टी के इर्द-गिर्द घाटी होती है. टेबलटॉप में रनवे खत्‍म होने के बाद आगे ज्‍यादा जगह नहीं होती है. इसी कारण रनवे पर फिसलने के बाद विमान घाटी में जा गिरा. जहां उसे दो टुकड़े हो गए.

टेबलटॉप रनवे में जोखिम काफी ज्यादा होता है. लैंडिंग और उड़ान दोनों के दौरान काफी सावधानी बरतनी होती है. जिसके कारण पायलट भी काफी दक्ष होना जरूरी होते हैं. ज्यादातर टेबलटॉप रनवे पठार या पहाड़ के टॉप पर बने होते हैं. भारत में को कर्नाटक के मंगलुरु, केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट और मिजोरम में टेबलटॉप रनवे बने हुए हैं.

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *