Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

अनुराग ठाकुर की टिप्‍पणी पर विवाद, चार बार स्‍थगित हुई लोकसभा

anuraj vs congनई दिल्‍ली: संसद के मॉनसून सत्र  में शुक्रवार का दिन लोकसभा में हंगामेदार रहा. नेहरू-गांधी परिवार पर केंद्र सरकार के एक मंत्री के कमेंट और एक कांग्रेस नेता द्वारा उन्‍हें (मंत्री को) ‘छोकरा’ कहने पर संसद के इस सत्र में पहली बार, कई बार कार्यवाही स्‍थगित करने की नौबत आई. इस दौरान विपक्ष के सदस्‍यों ने लोकसभा स्‍पीकर पर ‘पक्षपात’ का आरोप भी लगाया. दरअसल, आज फाइनेशियल बिल पर चर्चा के दौरान सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और गांधी परिवार (Gandhi Family) का नाम लेने पर यह हंगामा हुआ. हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही मेंं व्‍यवधान आया. दरअसल, बीजेपी सांसद और केंद्रीय वित्‍त राज्‍य मंत्री मंत्री अनुराग ठाकुर द्वारा सोनिया गांधी और नेहरू-गांधी का नाम लिया गया तो कांग्रेस सांसद उखड़ गए और जमकर हंगामा किया.

अनुराग ठाकुर ने कहा था कि हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक, हर कोर्ट ने पीएम केयर्स फंड को सही ठहराया.छोटे-छोटे बच्चों ने गुल्लक तोड़कर चंदा दिया. उन्‍होंने आगे कहा, नेहरूजी ने फंड बनाया आज तक उसका रजिस्ट्रेशन नहीं कराया. आपने केवल एक परिवार गांधी परिवार के लिए ट्रस्ट बनाया था. सोनिया गांधी को अध्यक्ष बनाया था, इसकी जांच होनी चाहिए तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा.ठाकुर की इस टिप्‍पणी का कांग्रेस सांसदों ने जमकर विरोध किया. लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘हिमाचल का ये *** कहाँ से आ गया? ये *** कहाँ से आ गया? नेहरूजी कहां से आ गए बहस में? हमने मोदीजी का नाम लिया क्या? ये तीन दिन का ***.’ कांग्रेस ने इस मामले में केंद्रीय मंत्री की माफी की मांग की और सदन से वॉकआउट कर गई. हंगामे के बीच लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला को सदन की कार्यवाही चलाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा.यह गरमाहट तब और बढ़ गई जब तृणमूल सांसद ने स्‍पीकर पर आरोप लगाया कि वे बीजेपी सांसदों का बचाव करते हैं. उन्‍होंने कहा-आप चाहे तो हमें निकाल दीजिए. ये नहीं चलेगा. हम नहीं चलने देंगे. दरअसल, स्‍पीकर ने कहा था कि कोई अगर सुरक्षा से खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा तो नाम लेकर सदन से बाहर जाने को भी कह सकता हूँ. मॉस्क लगा कर बोलिए.हंगामे के चलते लोकसभा अध्यक्ष सदन की कार्यवाही स्‍थगित करनी पड़ी और उन्‍होंने मामले के समाधान निकालने के लिए सदन में मौजूद नेताओं की अनौपचारिक बैठक बुलाई. हालांकि बाद में जब सदस्‍य वापस लौटे तब भी हंगामा नहीं थमा और फिर से कार्यवाही स्‍थगित करनी पड़ी.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »